ब्लू टूथ वाला टूथ ब्रश | मनोरंजन | DW | 07.01.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

ब्लू टूथ वाला टूथ ब्रश

अमेरिका में चल रहे इलेक्ट्रॉनिक मेले सीईएस में इस साल ऐसी ऐसी चीजें देखने को मिल रही हैं जिन्हें आम तौर पर हम साइंस फिक्शन फिल्मों में देखते हैं. अब दांत भी इंटरनेट के जरिए साफ होंगे और दवा भी ऐसी ही मिलेगी.

कभी ब्लू टूथ को बस फोन से कंप्यूटर तक गाने और तस्वीरें भेजने के काम में लाया जाता था. लेकिन अब यह ब्लू टूथ ही सब काम करने लगा है. कंप्यूटर या लैपटॉप को तारों के जरिए किसी चीज से जोड़ने की जरूरत ही नहीं पड़ती. ब्लू टूथ की बदौलत कंप्यूटर बेडरूम में और उसका स्पीकर बाथरूम में भी चल सकता है. साथ में वाई फाई जुड़ा हो तो बात ही क्या. अब इसी तरीके से दांत साफ हुआ करेंगे.

ब्रश को इस्तेमाल करने का सही तरीका क्या है, इस पर हम अक्सर विज्ञापन देखते हैं. डॉक्टर भी इस बात पर जोर देते हैं कि बैटरी से चलने वाले ब्रश दांतों को बेहतर रूप से साफ कर पाते हैं. इसी तर्क पर कई कंपनियों का बाजार बना हुआ है. पर सीईएस में दिखाए गए ब्लू टूथ से चलने वाले ब्रश ने तो सबको चौंका दिया है.

यह ब्रश स्मार्टफोन से जुड़ा होगा. एक ऐप के जरिये यह दिखाएगा कि सही तरह से दांत साफ किया जा रहा है या नहीं.

फ्रांस की कंपनी कोलिब्री ने इसे बनाया है. कंपनी के लोइक सेसो ने बताया, "इस दिशा में कई सालों से तकनीक का कोई विकास नहीं हुआ. इसके पीछे आइडिया यह नहीं है कि आपका ब्रश और मजबूत हो जाए, बल्कि यह कि वह और स्मार्ट हो जाए."

दरअसल ब्रश में एक सेंसर लगा है जो इस बात का हिसाब रखता है कि दांतों से कितना टार्टर यानि मैल उतर रहा है. साथ ही यह इस बात का रिकॉर्ड रखता है कि दांत साफ होने में कितना वक्त लगता है. यानि अगर आप आलस में जल्दी ब्रश छोड़ने के बारे में सोच रहे हों, तो यह ऐसा नहीं करने देगा. इंटरनेट से जुड़ा यह स्मार्ट ब्रश ऐप के जरिये बता देगा कि अभी रुकना नहीं है.

सेसो बताते हैं, "एक साधारण दांतों का ब्रश आपको यह नहीं बताता कि दांत कितने साफ हुए हैं. हो सकता है केवल 30 प्रतिशत. असलियत तो आपको दांतों का डॉक्टर ही बता सकता है." उनका दावा है कि ब्रश डॉक्टर का आधा काम तो कर ही देगा. वह उम्मीद कर रहे है कि मां बाप इसमें जरूर रुचि दिखाएंगे ताकि अपने बच्चों पर नजर रख सकें. हालांकि इसके लिए उन्हें 100 से 200 डॉलर खर्च करने होंगे.

आईबी/एजेए (एएफपी)

DW.COM

WWW-Links