ब्राजील में स्नोडेन के शरण की अर्जी | दुनिया | DW | 15.02.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

ब्राजील में स्नोडेन के शरण की अर्जी

नागरिक अधिकार कार्यकर्ताओं ने अमेरिकी खुफिया जानकारियों का राजफाश करने वाले एडवर्ड स्नोडेन के लिए ब्राजील में शरण की मांग की है. वे 11 लाख लोगों की दस्तखत वाली अर्जी सरकार को सौंप रहे हैं.

वैश्विक अभियान आवाज नाम के संगठन ने शरण की अर्जी पर दस्तखत का ऑनलाइन अभियान दिसंबर में शुरू किया और तब से दुनिया भर में 11 लाख दस्तखत इकट्ठा किया है. इसमें ब्राजील की राष्ट्रपति डिल्मा रूसेफ से इस समय रूस में रह रहे अमेरिका के पूर्व खुफिया एजेंट स्नोडेन को देश में आश्रय देने की पेशकश करने की मांग की गई है.

ब्राजील सरकार का कहना है कि उसे स्नोडेन से शरण की औपचारिक अर्जी चाहिए. ब्राजील सरकार को ऑनलाइन अर्जी सौंपे जाने के बारे में संगठन के निदेशक रिकेन पटेल ने एक बयान में कहा, "आज 10 लाख से ज्यादा लोगों ने वह किया है जो स्नोडेन नहीं कर सकते और उनके नाम पर शरण का आग्रह किया है." आवाज के अभियान निदेशक माइकल फ्राइटास मोहल्लम ने एएफपी से कहा, "हम इस दस्तावेज को विदेश मंत्रालय को सौंप रहे हैं."

Edward Snowden Asyl

जर्मनी में भी स्नोडेन के लिए शरण की मांग

स्नोडेन ने ब्राजील को दिसंबर में एक खुला पत्र लिखा था जिसमें उसकी प्रशंसा विश्व के अत्यंत दिलचस्प और जीवंत लोकतंत्रों में से एक के रूप में की गई थी. अपनी चिट्ठी में स्नोडेन ने कहा कि वह अमेरिकी जासूसी की ब्राजील की सीनेट द्वारा की जा रही जांच में मदद को तैयार हैं. अमेरिकी खुफिया एजेंसी एनएसए ने राष्ट्रपति डिल्मा रूसेफ और सरकारी तेल कंपनी पेट्रोब्राज की जासूसी की थी. ब्राजील को लिखे खुले पत्र में स्नोडेन ने कहा था कि वे सूचना के बदले शरण नहीं मांग रहे हैं.

जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल सहित दुनिया भर के नेताओं और आम लोगों के ईमेल और टेलीफोन की एनएसए और ब्रिटिश खुफिया एजेंसी की व्यापक जासूसी का एडवर्ड स्नोडेन ने पर्दाफाश किया है. रूसेफ एनएसए की जासूसी पर इतनी नाराज हुईं कि उन्होंने पिछले साल अक्टूबर का वाशिंगटन दौरा रद्द कर दिया. उन्होंने संयुक्त राष्ट्र में ऑनलाइन मानवाधिकारों पर एक प्रस्ताव पर जोर दिया लेकिन स्नोडेन को शरण दिए जाने पर कोई टिप्पणी नहीं की है. ब्राजील का कहना है कि उसे अब तक अर्जी नहीं मिली है.

ब्राजील के विदेश मंत्रालय ने एक बार फिर इसकी पुष्टि की है और एक प्रवक्ता ने कहा है कि आवाज द्वारा इकट्ठा आवेदन को न्याय मंत्रालय को भेजा जा रहा है. इस महीने के शुरू में ब्राजील के कम्युनिस्ट सीनेटर ने स्नोडेन का नाम नोबेल पुरस्कार के नामांकित करते हुए कहा था कि उनके लीक ने विश्व शांति में योगदान दिया है.

एमजे/एजेए (एएफपी)

DW.COM

विज्ञापन