1. कंटेंट पर जाएं
  2. मेन्यू पर जाएं
  3. डीडब्ल्यू की अन्य साइट देखें
Silvio Berlusconi Archivbild 2013
तस्वीर: Reuters/Alessandro Bianchi

बर्लुस्कोनी करेंगे साल भर सेवा

१६ अप्रैल २०१४

इटली के पूर्व प्रधानमंत्री सिल्वियो बर्लुस्कोनी का नाम 'बुंगा बुंगा' पार्टियों से जुड़ता रहा है, जिनमें उनकी नाबालिग लड़कियों के साथ अश्लील तसवीरें चर्चित रही हैं. अब उन्हें वृद्धाश्रम में जा कर सेवा करनी है.

https://p.dw.com/p/1BjLW

यह आदेश है इटली की एक अदालत का. रंग रसिया बर्लुस्कोनी शायद अब तक समझ नहीं पाए हैं कि अदालत के इस फैसले से खुश हों या दुखी. कम से कम जीवन के बाकी के दिन जेल की काल कोठरी में नहीं काटने होंगे. दरअसल अदालत ने बर्लुस्कोनी के टैक्स चोरी के मुकदमे पर फैसला सुनाते हुए यह आदेश दिया है. उन्हें हफ्ते में चार घंटे एक कैथोलिक ओल्ड एज होम में बिताने होंगे और वहां रह रहे लोगों की मदद करनी होगी. सजा के अनुसार उन्हें ऐसा एक साल तक करना है. यह वृद्धाश्रम इटली के फैशन के लिए मशहूर शहर मिलान के पास है.

बर्लुस्कोनी के वकील को डर था कि उन्हें नजरबंद भी किया जा सकता है. हालांकि अदालत ने ऐसा नहीं किया लेकिन बर्लुस्कोनी को लोम्बार्डी स्थित अपने घर के इलाके से दूर जाने की अनुमति नहीं है. राजनीतिक तौर पर वे अभी भी सक्रिय रह सकते हैं और कभी कभार रोम भी जा सकते हैं. अदालत ने रैलियां करने और इंटरव्यू देने पर भी कोई रोक नहीं लगाई है. इसे देखते हुए बर्लुस्कोनी के सहयोगी उम्मीद कर रहे हैं कि आने वाले यूरोपीय संसद के चुनावों में भी वे अहम भूमिका निभा सकते हैं.

नौ सो चूहे खा के..

चार बार इटली के प्रधानमंत्री रहे 77 साल के सिल्वियो बर्लुस्कोनी को पिछले साल टैक्स चोरी मामला भारी पड़ा और उनसे उनकी गद्दी छिन गयी. वह इटली के सबसे रईस लोगों में शामिल हैं. भले ही उन पर भ्रष्ट होने के आरोप लगते आए हों लेकिन आज भी वे देश के सबसे चर्चित नेताओं में एक हैं.

जिस वृद्धाश्रम में बर्लुस्कोनी को सेवा करनी है वहां 2000 लोग रहते हैं. 1896 में बना यह ओल्ड एज होम बर्लुस्कोनी के घर से ज्यादा दूर नहीं है. उन्हें यहां रह रहे लोगों को सैर पर ले जाना होगा, उनकी देखभाल करनी होगी और उन्हें चर्च में भी ले जाना होगा.

यहां कई ऐसे भी लोग हैं जो गंभीर बीमारी के बाद आराम के लिए आए हैं. जब ओल्ड एज होम के लोगों से उनकी प्रतिक्रिया के बारे में पूछा गया, तो अधिकतर लोग नाराज नजर आए. एक महिला ने कहा, "हे भगवान, अगर ऐसा हुआ तो मैं खुद ही यहां आना छोड़ दूंगी." टीवी पर चल रही रिपोर्टों में भी इन लोगों की नाराजगी देखी जा सकती है. एक वृद्ध पुरुष ने कहा, "आप मुझसे यह उम्मीद तो नहीं कर सकते कि मैं उस आदमी के साथ बैठ कर ताश खेलूंगा."

आईबी/एएम (एएफपी, रॉयटर्स)

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी को स्किप करें

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी

केरल के नीलांबुर में है टीक म्यूजियम

दुनिया भर में मशहूर है केरल के नीलांबुर का सागौन

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें को स्किप करें

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें

होम पेज पर जाएं