बिना हाथों के छक्के लगाने वाला क्रिकेटर | खेल | DW | 04.03.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

बिना हाथों के छक्के लगाने वाला क्रिकेटर

26 साल के आमिर हुसैन लोन जम्मू और कश्मीर राज्य की पैरा-क्रिकेट टीम के कप्तान हैं. एक हादसे में अपने दोनों हाथ खो चुके आमिर के जोरदार छक्कों, शानदार कैच और तेज गेंदबाजी को देखकर आपके भी होश उड़ जाएंगे.

जम्मू और कश्मीर की पैरा-क्रिकेट टीम के कप्तान 26 साल के आमिर हुसैन लोन दोनों हाथ नहीं होने के बावजूद भी जोरदार छक्के जड़ते हैं. 8 साल की उम्र में उनके हाथ क्रिकेट बैट बनाने वाली मशीन में फंसने के कारण काटने पड़े थे. बचपन में इतनी गंभीर दुर्घटना की चपेट में आने के बाद भी आमिर का क्रिकेट से नाता नहीं टूटा. बस उन्होंने बल्ले को पकड़ने का एक बेहद अलग तरीका ढूंढ लिया. देखिए इस वीडियो में...

आमिर हुसैन के पिता क्रिकेट के बल्ले बनाते थे. पांच भाई-बहनों वाले आमिर को बचपन के उस हादसे के बाद तीन साल तो अस्पताल में ही बिताने पड़े. उनके इलाज के खर्च के लिए पिता ने अपना बैट बनाने का काम धंधा बेच दिया. क्रिकेट का साथ ना छोड़ते हुए आमिर ने बैट को अपनी गर्दन और कंधे के बीच फंसाकर खेलने का तरीका निकाला. पैरों से बॉलिंग और कैच लेने वाले आमिर हुसैन की असाधारण प्रतिभा के कारण ही 2013 में उन्हें जम्मू-कश्मीर की पैरा क्रिकेट टीम में लिया गया. पैरों से ना केवल वे खेलते हैं बल्कि लिखते और पेंटिंग भी करते हैं.

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन