फ्रांस की पुलिस ने आईएस संदिग्ध को मार गिराया | दुनिया | DW | 14.12.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

फ्रांस की पुलिस ने आईएस संदिग्ध को मार गिराया

फ्रांस की पुलिस का कहना है कि स्ट्रासबुर्ग शहर के क्रिसमस बाजार में गोलीबारी करने वाले संदिग्ध को पुलिस ने मार गिराया है. जिहादी गुट 'इस्लामिक स्टेट' ने इस संदिग्ध को अपना सदस्य बताया है.

मारे गए संदिग्ध का नाम शेरिफ चेकट है, जिसे पुलिस मंगलवार को स्ट्रासबुर्ग के क्रिसमस बाजार में हुए हमले का संदिग्ध मानती है. इस हमले में तीन लोगों की मौत हुई थी.

फ्रांस के गृह मंत्री क्रिस्टोफ कास्टनर ने शेरिफ चेकट के मारे जाने की पुष्टि की है. उन्होंने कहा कि स्ट्रासबुर्ग के नोएडोर्फ इलाके में संदिग्ध ने पुलिस पर गोली चलाई जिसके बाद वह पुलिस की कार्रवाई में मारा गया. अधिकारियों का कहना है कि उसके पास चाकू और पिस्तौल थी.

इस घटना के चंद घंटों बाद, आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट की समाचार एजेंसी ने कहा कि शेरिफ चेकट एक आईएस चरमपंथी था, हालांकि इस दावे के समर्थन में कोई प्रमाण पेश नहीं किए गए हैं.

आतंकवाद के सबसे ज्यादा पीड़ित ये हैं

29 वर्षीय शेरिफ चेकट को एक बड़े अंतरराष्ट्रीय तलाशी अभियान के तहत खोजा जा रहा है. लगभग 700 अधिकारी 48 घंटे से उसे खोज रहे थे.

फ्रांस के जांचकर्ता स्ट्रासबुर्ग क्रिसमस मार्केट में हुए हमले को आतंकवादी हमला मान रहे हैं. इस हमले में तीन लोगों की मौत के अलावा एक व्यक्ति मानसिक रूप से मृत हो गया है जबकि कम से कम 12 अन्य घायल हुए हैं.

चश्मदीदों ने पुलिस का बताया कि संदिग्ध ने गोली चलाने से पहले अल्लाहू अकबर के नारे लगाए थे.

फ्रांस के अभियोजकों का कहना है कि शेरिफ चेकट कई मामलों में जर्मनी, फ्रांस और स्विट्जरलैंड में जेल की सजा काट चुका है और इसी दौरान उसकी चरमपंथी विचारधारा विकसित हुई. फ्रांस के अधिकारियों ने उसे अपनी निगरानी लिस्ट में रखा हुआ था.

एके/एनआर (रॉयटर्स, एएफपी, डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन
MessengerPeople