प्लाईवुड के कंगन | मंथन | DW | 08.08.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मंथन

प्लाईवुड के कंगन

बदलते समय के साथ गहनों ने भी अपना स्वरूप बदला. अब यह केवल सोने या चांदी के नहीं होते. क्या लकड़ी के आभूषणों के बारे में पता है आपको, वह लकड़ी जो घरों के फर्श पर लगती है?

डिजायनर बेथान लॉरा वुड लकड़ी के गहने बनाती हैं. इसके साथ वह उन कलाकारों और डिजाइनरों में शामिल हो गई हैं जो रोजमर्रा के सामान से कुछ अलग बनाते हैं. वह भूरी कत्थई सी दिखने वाली ये चूड़ियां या ब्रेसलेट लकड़ी के लेमिनाट से बनाती हैं. वुड की खासियत है नजरअंदाज की जाने वाली चीजों से कुछ जबरदस्त बनाना. उन्होंने बताया, "मैं उन चीजों को इस्तेमाल करना चाहती थी जो सामान्य तौर पर औद्योगिक उत्पादन का हिस्सा होते हैं. मेरी कोशिश थी मैं इन्हें इनकी कीमत लौटाऊं. इनकी ऊपरी सतह और वॉर्निश कई तरह के होते हैं."

लंदन के अपने स्टूडियो में वह कई तरह की लकड़ियां एक साथ रखती हैं. अपने गहनों के लिए वह कई तरह के भूरे रंगों वाला यह मटीरियल लेती हैं. वह कहती हैं, "मैं कुछ विशेष भावनाएं जगाना चाहती हूं और कुछ रंगों में आपको ये मिलता है. इसी से आप सत्तर, पचास या बीस के दशक वाला एहसास ला सकते हैं. ये रंगीन नहीं मिलते, तो कुछ छोटे छोटे रंगीन पैच लगाने से मुझे पैटर्न को अलग रंग देने में आसानी हुई. लेकिन मैं कोशिश करती हूं कि एक काल का असर बिलकुल ही न बदल जाए."

बेथन लॉरा वुड को जीवंत रंगों के मेल पसंद हैं. वह लगातार दिलचस्प मटीरियल ढूंढती रहती हैं. अपने स्केचों के लिए वह शहर की रंग भरी विविधता से प्रेरणा लेती हैं. सबसे ज्यादा पूर्वी लंदन के मल्टी कल्चरल माहौल की. लॉरा वुड ने बताया कि उन्होंने शुरुआती रिसर्च लंदन में की. खासकर पूर्वी लंदन में दिखाई देने वाले अजीबो गरीब पैटर्न उन्हें रोचक लगे. अलग से दिखने वाली इमारतों का वह फोटो ले लेती हैं और इनका इस्तेमाल गहने या फर्नीचर बनाने के लिए करती हैं.

लॉरा वुड ब्रेसलेट के लिए एक कंपनी से लकड़ी के टुकड़े गोल गोल कटवाती हैं. इसके बाद करीब इक्कीस हजार रुपये की कीमत वाले इन टुकड़ों को वह घिसती हैं. ध्यान ना देने पर घिसाई के दौरान कोई टुकड़ा टूट भी सकता है या लकड़ी उखड़ सकती है. ऐसा हुआ तो पूरा टुकड़ा खराब.

2006 में एक छात्रा के तौर पर लॉरा वुड ने अपना ब्रांड शुरू किया. जल्द ही फैशन मैगजीन का ध्यान उनकी ओर गया. लंदन के डिजाइन म्यूजियम ने उनकी टेबल को चुना. साथ ही हाथ से बनाए गए बल्ब को दो हजार बारह का डिजाइन पुरस्कार भी दिया. भोजपत्र की लकड़ी से बना टेबल छतरी की तरह खुलता बंद होता है. बचपन से ही बेथन लॉरा वुड लीक से हट कर डिजाइन बनाती थीं. बेथन लॉरा वुड कहती हैं कि हमें रोजमर्रा की चीजों को अलग नजर से देखना चाहिए, उन पर ध्यान देना चाहिए. ठीक उनकी लकड़ी के कंगन की तरह जो गहने तो हैं ही लेकिन साथ मिलाने पर एक आकृति भी.

रिपोर्ट: निखिल रंजन/एसएफ

संपादन: आभा मोंढे

DW.COM

विज्ञापन