प्रेमिका ने छोड़ा तो बिच्छू पालिए | मनोरंजन | DW | 04.02.2015
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

प्रेमिका ने छोड़ा तो बिच्छू पालिए

फरवरी में वैलेंटाइन डे के करीब आते आते प्रेम संबंधों के जुड़ी कई मान्यताओं और टोटकों का दौर भी शुरु हो जाता है. एक अमेरिकी जू दुख देने वाले प्रेमी की याद में बड़ा सा बिच्छु गोद लेने की सलाह दे रहा है.

जिसे आप चाहत थे, वो अब आपको नहीं चाहता. अगर आपके प्रेम प्रस्ताव को उसने स्वाकीर नहीं किया जो आपको बेहद खास लगता था, तो दिल में दर्द तो उठेगा ही. अमेरिका में सैन फ्रैंसिस्को के एक चिड़ियाघर के पास आपके लिए एक खास उपाय है. वह आपको उसी इंसान की याद में एक बड़ा सा बिच्छू गोद देने को तैयार है.

दुनिया भर में 14 फरवरी वैलेंटाइन डे के रूप में प्रचलित हो चुका है. अगर आप दुखी हो रहे थे कि इस बार आपका कोई वैलेंटाइन नहीं तो कम से कम इस बिच्छु को अपने सामने पाकर आप उस इंसान को याद कर सकेंगे. जू ने अडॉप्शन के लिए एक प्रमोशन पेज पर संदेश लिखा है, "ये बिना रीढ़ वाले जीव बहुत तेज, आक्रामक और निशाचर हैं, काफी हद तक आपके पूर्व साथी के जैसे. ये आमतौर पर उथले से दर्रों में पाए जाते हैं जहां वे अपनी छोटी गुफाएं खोदते हैं."

आमतौर पर ये जू अपने बेहद प्यारे जानवरों जैसे पेंग्विन या फिर पांडा की देखभाल के लिए पैसे जमा करता है. इस बार वह ऐसे जीवों को गोद देने का अभियान चला रहा है जिन्हें लोग कम ही चाहते हैं.

जू ने बिच्छुओं के अडॉप्शन अभियान के प्रचार के लिए संदेश दिया है, "आप अच्छी तरह जानते हैं ऐसे किसी को, जो एक सही शिकार के पास आने का इंतजार करता है, फिर बिच्छू उस दुर्भाग्यशाली जीव को अपनी चिमटियों से दबोच कर उसमें अपने डंक चुभा देता है." कम से कम 50 डॉलर देकर कोई भी एक बिच्छू गोद ले सकता है.

इसके बाद चिड़ियाघर की ओर से डोनर को एक सर्टिफिकेट मिलता है और उस व्यक्ति को एक खिलौने वाला डंक भेजा जाता है जिसने डोनर को प्रेरित किया. जू का मानना है कि ये बिच्छू वैलेंटाइन असल में "उजाड़ हो चुके आपके प्रेम संबंध" का प्रतीक है. सिर्फ यही नहीं, जू की ओर से एक और टोटका बताया गया है, "अगर आपकी किस्मत अच्छी है, तो आपकी दान की हुई राशि से बुरे प्रेम संबंधों का चक्र टूट जाएगा और आपको फिर कभी किसी बिच्छू का सामना नहीं करना पड़ेगा."

आरआर/आईबी (एपी)

DW.COM

विज्ञापन