प्रांतीय चुनाव में जर्मन सरकार को झटका | दुनिया | DW | 10.05.2010
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

प्रांतीय चुनाव में जर्मन सरकार को झटका

जर्मनी के सबसे बड़े प्रदेश नार्थराइन वेस्टफ़ालिया में हुए चुनाव के बाद विपक्षी एसपीडी और ग्रीन दल की सरकार की संभावना दिख रही है. दोनों दलों का प्रादेशिक नेतृत्व महिलाओं के हाथों में है.

हन्नेलोरे क्राफ़्ट - ऐतिहासिक विजय

हन्नेलोरे क्राफ़्ट - ऐतिहासिक विजय

जर्मन टीवी पर प्रकाशित प्राथमिक नतीजों के अनुसार सीडीयू को 34.2 प्रतिशत, एसपीडी को 34.8 प्रतिशत, ग्रीन पार्टी को 12.5 प्रतिशत, एफ़डीपी को 6.5 प्रतिशत व वामपंथी पार्टी डी लिंके को 6 प्रतिशत मत मिले हैं. अन्य दलों को कुल 6.5 प्रतिशत मत मिले, जो विधायिका में प्रतिनिधित्व नहीं करेंगे. अगर मतगणना की यह रुझान जारी रहती है, तो एसपीडी और ग्रीन पार्टी के मोर्चे को प्रादेशिका विधायिका में सीटों का मामुली, लेकिन स्पष्ट बहुमत मिल जाएगा. ऐसी सरकार में मुख्यमंत्री एसपीडी नेता हानेलोरे क्राफ़्ट व उप मुख्यमंत्री ग्रीन पार्टी की नेता सिलविया ल्योरमान्न होंगी. यह पहला मौका होगा कि जर्मनी के किसी प्रदेश में महिला मुख्यमंत्री के साथ-साथ महिला उप मुख्यमंत्री भी होंगी. इससे पहले श्लेसविग होलश्टाइन प्रदेश में एसपीडी की हाइडे सिमोनिस जर्मनी में पहली महिला मुख्यमंत्री बनी थीं.

नार्थराइन वेस्टफ़ालिया जर्मनी का सबसे बड़ा प्रदेश है, और देश की संसद के दूसरे सदन बुंडेसराट में इस प्रदेश के मत अब तक सीडीयू-सीएसयू और एफ़डीपी की संघीय सरकार के पक्ष में थे. अब एसपीडी और ग्रीन की सरकार के बनने से बुंडेसराट में सत्तारूढ़ मोर्चे का बहुमत ख़त्म हो जाएगा. महत्वपूर्ण विधेयकों को पारित कराने के लिए संघीय सरकार को विपक्ष की सहमति हासिल करनी पड़ेगी. स्पष्ट है कि इस चुनाव का अगले सालों की जर्मन राजनीति पर गहरा प्रभाव पड़ने जा रहा है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/उभ

संपादन: एम गोपालकृष्णन

संबंधित सामग्री

विज्ञापन