पेरिस हमलों के संदिग्ध को 20 साल की सजा | दुनिया | DW | 23.04.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

पेरिस हमलों के संदिग्ध को 20 साल की सजा

पेरिस हमलों के संदिग्ध को बेल्जियम में 20 साल की सजा सुनाई गई. यूरोप के मोस्ट वांटेड अपराधी करार दिए जा चुके संदिग्ध ने बेल्जियम में पुलिस पर हमला किया था.

फ्रांस से सटे बेल्जियम में सोमवार को 2015 के पेरिस हमलों के संदिग्धों से जुड़े एक मामले की सुनवाई पूरी हुई. राजधानी ब्रसेल्स की अदालत ने संदिग्ध सलाह अबदेस्लाम और उसके साथी को पुलिस पर हमला करने और हत्या की कोशिश करने का दोषी करार दिया. दोनों को 20 साल जेल की सजा सुनाई. कोर्ट ने अपने फैसले में कहा, "इस बात पर कोई शक नहीं है" कि "दोनों में चरमपंथ बहुत गहराई" तक घुसा हुआ है."

कोर्ट के फैसले पर खुशी जताते हुए बेल्जियम पुलिस के वकील मार्से आली ने कहा, "हमारी सारी मांगें पूरी की गईं, हम संतुष्ट हैं. फैसले में कहा गया है कि ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों पर फायरिंग करना बहुत ही गंभीर अपराध है."

पेरिस में नवंबर 2015 में हुए आतंकवादी हमले में 130 लोग मारे गए थे. पेरिस हमले के बाद दोनों संदिग्ध बेल्जियम पहुंचे. बेल्जियम में पुलिस ने जब उन्हें गिरफ्तार करने की कोशिश की तो वे भाग निकले. छापेमारी के दौरान पुलिस पर फायरिंग भी की गई. इस दौरान एक संदिग्ध मारा गया और एक पुलिसकर्मी जख्मी हो गया. सलाह अबदेस्लाम और सोफियाने अयारी भागने में सफल रहे.

पुलिस को उनके ठिकाने से एके-राइफल और गोलियों की बेल्ट मिली. फॉरेंसिक एक्सपर्टों ने कमरे से कई डीएनए सुराग जुटाए, जो अदालत में अहम सबूत साबित हुए. इस छापेमारी के तीन दिन बाद यूरोप के मोस्ट वांटेड अपराधी अबदेस्लाम को पुलिस ने चरमपंथ के लिए कुख्यात ब्रसेल्स के मोलेनबिक जिले से गिरफ्तार किया. ट्यूनीशिया का अयारी यूरोप आने से पहले साल भर तक इस्लामिक स्टेट का लड़ाका रह चुका था. उसकी गिरफ्तारी के बाद 22 मार्च 2016 को ब्रसेल्स के एयरपोर्ट और मेट्रो सिस्टम को निशाना बनाया. हमले में 32 लोग मारे गए.

सजा के खिलाफ अबदेस्लाम और अयारी 30 दिन के भीतर अपील कर सकते हैं. उनके वकील स्वेन मारी के मुताबिक यह साफ नहीं हुआ है कि अबदेस्लाम ने पुलिस पर फायरिंग की. मारी कहते हैं, "अगर शक बाकी है तो उसे रिहा करना चाहिए, यह बहुत ही सामान्य है."

अदालती कार्रवाई के दौरान अबदेस्लाम ने सहयोग करने से भी इनकार किया. फिलहाल उसे फ्रांस की जेल में रखा गया है. अभी यह साफ नहीं है कि पेरिस हमलों के मामले में सुनवाई कब शुरू होगी. माना जा रहा है कि इसमें लंबा वक्त लगेगा.

ओएसजे/एमजे (एपी, एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन
MessengerPeople