पेड़ों से बनी कुर्सियां | ताना बाना | DW | 24.10.2017
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

ताना बाना

पेड़ों से बनी कुर्सियां

ऑस्ट्रिया के स्टीरिया में बैर्नहार्ड श्मिड के जंगल में पेड़ों पर फल नहीं लगते. वे कुर्सियां बनाते हैं. पुरानी कुर्सियों को पेड़ पर लटका कर उनकी मदद की जाती है, लेकिन कुर्सियां बनने में सालों लग जाते हैं.

Bekaa Ebene im Libanon (picture alliance / Godong)

ग्रैफिटी के लिए मशहूर 15 शहर

स्प्रे पेंट ले कर युवा रात के अंधेरे में निकलते हैं और दीवारों पर कुछ आकृतियां बना देते हैं, जिन्हें नाम मिलता है ग्रैफिटी. आज के जमाने में कई कलाकारों को इन्हें बनाने के लिए पैसा भी दिया जाता है.  

DW.COM

इससे जुड़े ऑडियो, वीडियो

विज्ञापन