पुलिसवाले देंगे भिखारी को हर्जाना | दुनिया | DW | 16.01.2011
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

पुलिसवाले देंगे भिखारी को हर्जाना

भारतीय शहर पणजी में दो पुलिसकर्मियों को एक भिखारी को हर्जाना देने का आदेश मिला है. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने पुलिसवालों को हर्जाना देने का ये फरमाना सुनाया है. इन पुलिसकर्मियों पर भिखारी से बदसलूकी करने का आरोप है.

default

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने सुनवाई के बाद दिए अपने आदेश में कहा है कि गोवा पुलिस शेल्टन मेसियर को हर्जाने के रूप में 50 हजार रुपये दे.

घटना जून 2009 की है. इन पुलिसकर्मियों ने एक अपाहिज भिखारी को उठाकर कचरे के ढेर में डाल दिया. अब राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने इस गलती के लिए दो पुलकर्मियों को दोषी ठहराया है और उन्हें हर्जाना देने का आदेश दिया है.

पुलिस वालों ने जब मेसियर को कचरे के ढेर में डाला तब शहर में भारी बारिश हो रही थी. मेसियर का एक पांव लकवे से पीड़ित है वो रोता चीखता रहा. तभी वहां से गुजर रहे एक वकील ने उसकी आवाज सुन ली और उसे वहां से बाहर निकाल कर उसकी जान बचाई.

बाद में इसी वकील की मदद से मेसियर ने गोवा पुलिस के खिलाफ मानवाधिकार आयोग में शिकायत दर्ज कराई. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के पास भारत में मानवाधिकार उल्लंघन की सूरत में न्यायिक कार्रवाई करने का अधिकार है. आयोग के इस फैसले की सूचना शनिवार को दी गई.

रिपोर्टः एजेंसियां/एन रंजन

संपादनः ओ सिंह

DW.COM

WWW-Links

विज्ञापन