पाकिस्तान में सूफी दरगाह के पास विस्फोट, 8 मरे और कई घायल | दुनिया | DW | 08.05.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

पाकिस्तान में सूफी दरगाह के पास विस्फोट, 8 मरे और कई घायल

पाकिस्तान के लाहौर में बुधवार को सूफी दरगाह दाता दरबार के पास एक पुलिस वैन को निशाना बनाकर किए गए विस्फोट में पांच पुलिस अधिकारियों सहित आठ लोगों की मौत हो गई और 25 अन्य घायल हो गए.

पाकिस्तान के लाहौर में स्थित दाता दरबार दक्षिण एशिया में सूफी मुस्लिमों का सबसे बड़ा तीर्थस्थल माना जाता है. बुधवार सुबह लगभग 8.45 बजे इसके बाहर गेट संख्या दो के पास खड़े एलीट फोर्स ऑफ पंजाब पुलिस के एक वाहन को निशाना बनाकर विस्फोट किया गया. गेट संख्या दो महिला तीर्थयात्रियों के प्रवेश के लिए है. विस्फोट किस तरह का था इसका फिलहाल पता नहीं चल सका है. पाकिस्तानी प्रांत पंजाब के पुलिस प्रमुख आरिफ नवाज खान ने मीडिया को बताया, "पांच पुलिस अधिकारियों सहित आठ लोगों की मौत हो गई और अन्य पुलिसकर्मियों सहित 25 लोग घायल हैं." उन्होंने कहा कि पुलिस हमलावरों के निशाने पर थी.

पाकिस्तानी की खबरिया वेबसाइट 'डॉन न्यूज' की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस अधीक्षक (नगर) सईद गजनफर शाह ने कहा कि घायलों में से आठ की हालत गंभीर है. घायलों को मायो अस्पताल में भर्ती कराया गया है. स्थानीय लोगों ने बताया कि विस्फोट के कारण पास खड़े वाहनों और इमारतों की खिड़कियां टूट गईं थीं. पुलिस प्रवक्ता नायाब हैदर ने एक अन्य समाचार चैनल 'जियो न्यूज' को बताया कि शुरुआती जांच से यह आत्मघाती हमला लगता है और बम में करीब सात किलोग्राम विस्फोटक रहा होगा.

फिलहाल किसी संगठन ने हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है. लाहौर के उपायुक्त सालेह सईद ने मीडिया को बताया कि अस्पताल लाए गए शवों में एक शव संदिग्ध हमलावर का है. हमले के बाद दाता दरबार में प्रवेश रोक दिया गया है और रमजान के कारण अन्य धार्मिक स्थलों पर भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने मारे गए लोगों के प्रति संवेदना प्रकट की है. 11वीं शताब्दी में बने दाता दरबार पर 2010 में भी आत्मघाती हमला हुआ था, जिसमें 40 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी.

--आईएएनएस

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन