पाकिस्तान में संदिग्ध चोरों के काटे हाथ | दुनिया | DW | 02.06.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

पाकिस्तान में संदिग्ध चोरों के काटे हाथ

पाकिस्तान में पुलिस ने दो संदिग्ध चोरों के बाएं हाथ काट दिए. दोनों पुरुषों ने मोबाइल फोन और इलेक्ट्रिक तारों की चोरी करने के आरोपों का खंडन किया था.

अड़तीस साल के गुलाम मुस्तफा और 42 साल के लियाकत अली ने कहा कि पुलिस ने कसाई के बड़े चाकू से उनके हाथ काट दिए. पंजाब प्रांत के बहावलपुर अस्पताल में मुस्तफा ने बताया, "चार या पांच पुलिसवालों ने मेरे हाथ पैर बांधे और मेरा हाथ काट दिया. दर्द के मारे मैं बेहोश हो गया." मुस्तफा ने बताया कि लियाकत और उसे करीब एक हफ्ते पहले गिरफ्तार किया गया. स्थानीय लोगों ने उन पर चोरी के आरोप लगाए और पुलिस के हवाले कर दिया. पुलिस ने उन्हें खूब मारा और फिर दोनों के बाएं हाथ काट दिए.

पुलिस ने अपनी तरफ से इस बात को खारिज किया है और कहा है कि लियाकत और मुस्तफा ने खुद रेजर से अपने हाथ काटे क्योंकि वह खुदकुशी करना चाहते थे, हालांकि पुलिस के बयान से यह बात साबित नहीं हुई कि दोनों कैदियों के हाथ कैसे कट गए. स्थानीय पुलिस प्रवक्ता नबीला गजनफर ने आरोपों को खारिज किया है कि पुलिस ने इन लोगों के हाथ काटे हैं. "यह लोग चोरी करते पकड़े गए और जनता इन्हें पीट रही थी. पुलिस ने इन्हें बचाया और उन्हें अस्पताल लेकर आई." गजनफर ने बताया कि मुस्तफा की पत्नी और कुछ और महिलाएं उससे मिलने आईं और उसे खाना और कपड़े दिए. उनके पास रेजर ब्लेड भी थे जिनसे उसने अपनी कलाई काट ली.

अस्पताल में डॉक्टरों ने कहा कि दोनों के शरीर से काफी खून बह गया है. इमर्जेंसी वार्ड के प्रमुख आमिर अहमद ने कहा, "यह तो किसी कुल्हाड़ी का काम लगता है. ये चोट ये खुद को नहीं लगा सकते." अहमद ने बताया कि मुस्तफा का हाथ पूरी तरह कट गया था और एक पुलिसवाला उसका हाथ एक पॉलिथीन थैली में लेकर आया. लियाकत का हाथ भी कटा हुआ था लेकिन शरीर से जुड़ा हुआ था. "हमने लियाकत का हाथ सिल दिया है और काफी वक्त बाद ही हम बता सकेंगे कि क्या वह कभी इस हाथ का इस्तेमाल कर पाएगा."

चोरों के हाथ काटना और पत्थर मारकर किसी की हत्या करना शरिया कानून के नियमों का हिस्सा है और पाकिस्तान के कई जगहों में सरकारी कानून की जगह इसका प्रयोग होता है. पाकिस्तान और दक्षिण एशियाई देश में धर्म के नाम पर मानवाधिकार के हनन की पश्चिमी देशों में कड़ी आलोचना हुई है. हाल ही में ब्रुनेई ने शरिया कानून लागू किया है जिसके बाद वहां के सुल्तान के कई होटलों का बॉयकॉट किया जा रहा है. इनमें डोर्चेस्टर कलेक्शन होटल और बेवर्ली हिल्स होटल जैसे मशहूर होटल शामिल हैं.

एमजी/एएम(रॉयटर्स, डीपीए )

विज्ञापन