पाकिस्तान, अफगानिस्तान में भारी बर्फबारी से 43 की मौत | दुनिया | DW | 13.01.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

पाकिस्तान, अफगानिस्तान में भारी बर्फबारी से 43 की मौत

अफगानिस्तान और पाकिस्तान के कुछ इलाकों में भारी बारिश, बर्फबारी और अचानक आई बाढ़ से करीब 43 लोगों की मौत हो गई है. हिमस्खलन से राजमार्ग बंद, लोग बर्फ में पैदल चलने को मजबूर.

पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत में भारी बर्फबारी और बाढ़ से अब तक करीब 25 लोगों की मौत हो चुकी है. समाचार एजेंसी एपी के मुताबिक प्रशासन प्रभावित इलाकों से लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाने की व्यवस्था कर रहा है.

प्रांत के आपदा प्रबंधन प्रमुख इमरान जरकोन के मुताबिक भारी बारिश और बर्फबारी की वजह से 24 घंटे में 14 लोगों की मौत हो गई. ज्यादातर मौतों की वजह है भारी बर्फबारी से घरों की छत टूटना. पाकिस्तान में बर्फबारी की वजह से कई मुख्य हाईवे बंद हो गए हैं. कुछ इलाकों में छह इंच तक बर्फ जमी हुई है. पूर्वी पंजाब प्रांत की आपातकालीन सेवा के कर्मचारी अब्दुल सत्तार ने बताया कि भारी बारिश के चलते कई घरों की छत टूट गई, जिसमें ग्यारह लोग मर गए हैं.

Afghanistan Kabul | Schnee in Flüchtlingslager (picture-alliance/AP Photo/R. Gul)

अफगानिस्तान के काबुल में पारा माइनस 15 तक पहुंच गया है.

घरों तक में सुरक्षित नहीं लोग

अफगानिस्तान के प्रांतीय अधिकारियों के मुताबिक कठोर मौसम की वजह से महिलाओं और बच्चों सहित कम से कम 18 लोगों की मौत हो गई. प्रांत के आपदा प्रबंधन विभाग के प्रेस अधिकारी हसीबुल्लाह शिखानी ने बताया कि भारी बर्फबारी और हिमस्खलन की वजह से अफगानिस्तान के ज्यादातर राजमार्ग बंद हो गए.

कांधार के गवर्नर के प्रवक्ता बहिर अहमदी ने कहा कि दक्षिणी कांधार प्रांत में आठ लोग मारे गए हैं. पश्चिमी हेरात प्रांत में एक ही परिवार के पांच सदस्यों सहित सात लोगों की मौत हो गई.  हेलमंद के गवर्नर के प्रवक्ता उमर जवाक के मुताबिक दक्षिणी हेलमंद प्रांत में तीन लोग मारे गए.

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में पारा माइनस 15 डिग्री सेल्सियस तक पंहुच गया है. सड़कों पर जमी बर्फ की वजह से लोग कई मील पैदल चलने को मजबूर हैं.

एसबी/आरपी (एपी)

__________________________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन