पश्चिम बंगाल में फिर उभरा गोरखालैंड मुद्दा | भारत | DW | 07.10.2020

डीडब्ल्यू की नई वेबसाइट पर जाएं

dw.com बीटा पेज पर जाएं. कार्य प्रगति पर है. आपकी राय हमारी मदद कर सकती है.

  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

भारत

पश्चिम बंगाल में फिर उभरा गोरखालैंड मुद्दा

पश्चिम बंगाल में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले फिर गोरखालैंड का मुद्दा गर्मा रहा है. केंद्र सरकार ने इस मुद्दे पर बैठक बुलाई है. लेकिन ममता बनर्जी सरकार ने इसमें शामिल होने से इनकार कर दिया है.

ममता बनर्जी

पश्चिम बंगाल में अगले साल चुनाव हैं

अगले साल होने वाले अहम विधानसभा चुनावों से पहले केंद्र ने दार्जिलिंग पर्वतीय क्षेत्र और गोरखालैंड टेरीटोरियल एडमिनिस्ट्रेशन (जीटीए) से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर बातचीत के लिए बुधवार को दिल्ली में एक त्रिपक्षीय बैठक बुलाई है. लेकिन ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली राज्य सरकार ने इस चुनावी स्टंट करार देते हुए इसके बायकाट का फैसला किया है.

पहले यह बैठक गोरखालैंड के मुद्दे पर बुलाई गई थी. लेकिन राज्य सरकार की आपत्ति के बाद इसका एजेंडा बदल कर जीटीए कर दिया गया है. बावजूद इसके ममता बनर्जी सरकार ने बैठक में शामिल नहीं होने का फैसला किया है. उसका आरोप है कि केंद्र सरकार पश्चिम बंगाल के विभाजन का प्रयास कर रही है.

बैठक

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शनिवार को भेजे एक पत्र में कहा था कि गोरखालैंड से जुड़े मुद्दों पर विचार-विमर्श के लिए सात अक्तूबर को दिल्ली में एक बैठक आयोजित की जाएगी. बैठक की अध्यक्षता केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी करेंगे. लेकिन राज्य सरकार की आपत्ति के बाद सोमवार शाम को इसके एजेंडे में संशोधन करते हुए इसे जीटीए से जुड़े मुद्दों पर चर्चा के लिए बुलाई गई बैठक करार दिया गया. बावजूद इसके राज्य सरकार ने इस बैठक में शामिल नहीं होने का फैसला किया है.

दूसरी ओर, एजेंडा बदलने की वजह से पर्वतीय क्षेत्र के ज्यादातर राजनीतिक दलों ने भी इसे सियासी कवायद मानते हुए इसे कोई अहमियत देने से इंकार कर दिया है. राज्य सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी बताते हैं, "बैठक के एजेंडे में संशोधन के बावजूद राज्य सरकार उसमें हिस्सा नहीं लेगी. हमें बैठक बुलाने के तरीके पर घोर आपत्ति है. केंद्र बैठक की सूचना राज्य सरकार को दे सकता है. लेकिन वह यह तय नहीं कर सकता कि उसमें बंगाल से कौन-कौन हिस्सा लेगा. इस बैठक में दार्जिलिंग के जिलाशासक को भी न्यौता दिया गया है. बैठक में सरकारी प्रतिनिधियों के शामिल होने के बारे में राज्य सरकार ही फैसला कर सकती है.”

राज्य सरकार ने कहा है कि केंद्र ने बैठक बुलाने से पहले उससे सलाह-मशविरा नहीं किया था. राज्य सरकार की अनुमति के बिना केंद्र सीधे किसी अधिकारी को बैठक का न्यौता नहीं दे सकता. एक अन्य अधिकारी बताते हैं, "अब तक ऐसी किसी त्रिपक्षीय बैठक के बारे में केंद्र की ओर से मुख्य सचिव या गृह सचिव को पत्र भेजने की परंपरा रही है. लेकिन इस बार केंद्र ने सीधे दार्जिलिंग के जिलाशासक और जीटीए के प्रमुख सचिव को पत्र भेज कर उनसे बैठक में शामिल होने को कहा है. यह राज्य सरकार के अधिकार क्षेत्र में सीधा अतिक्रमण है. इसे स्वीकार नहीं किया जा सकता.”

Indien Wahlkampf in Gorkhaland Region

पश्चिम बंगाल के पर्वतीय इलाकों में लंबे समय से नए राज्य की मांग उठ रही है

सियासी फायदा

बैठक में गोरखा जनुमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) के अध्यक्ष विमल गुरुंग को भी न्यौता दिया गया है. यहां इस बात का जिक्र प्रासंगिक है कि गोरखा मोर्चा पहले ही दो-फाड़ हो चुका है. एक गुट की कमान बरसों से भूमिगत चल रहे विमल गुरुंग के हाथों में है और दूसरे की तृणमूल कांग्रेस के करीबी विनय तामंग के हाथों में. लेकिन तामंग गुट को न्यौता नहीं दिया गया है. 

उधर, गुरुंग गुट ने बैठक में शामिल होने का संकेत दिया है. दार्जिलिंग के बीजेपी सांसद राजू बिष्टा ने संसद के मानसून अधिवेशन के दौरान गोरखालैंड का मुद्दा उठाया था. बीजेपी का कहना है कि वह गोरखालैंड समस्या के स्थायी समाधान के पक्ष में है. प्रदेश बीजेपी महासचिव सायंतन बसु कहते हैं, "हम बंगाल का विभाजन नहीं, बल्कि दार्जिलिंग समस्या के एक स्थायी राजनीतिक समाधान का प्रयास कर रहे हैं.”

दूसरी ओर, तृणमूल कांग्रेस ने इसे बंगाल के विभाजन का प्रयास बताया है. दार्जिलिंग जिले के पार्टी के वरिष्ठ नेता और राज्य सरकार में मंत्री गौतम देब कहते हैं, "केंद्र सरकार अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले अपने सियासी फायदे के लिए बंगाल को बांटने का प्रयास कर रही है. लेकिन हम किसी भी कीमत पर ऐसा नहीं होने देंगे. बीजेपी अपनी इस साजिश में कामयाब नहीं हो सकेगी.”

तृणमूल कांग्रेस के अलावा दूसरे गैर-भाजपाई राजनीतिक दल भी अचानक बुलाई गई इस बैठक से हैरत में हैं. गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के विनय तामंग गुट का कहना है कि केंद्र और बीजेपी को सिर्फ चुनावों से पहले ही गोरखालैंड की याद आती है. पार्टी इसी मुद्दे पर 11 साल से दार्जिलिंग सीट जीतती रही है. तामंग गुट के नेता और जीटीए प्रशासक बोर्ड के अध्यक्ष अनित थापा कहते हैं, "केंद्र सरकार इलाके के गोरखा लोगों को मूर्ख बना रही है. अगले साल के चुनावों से पहले बैठक बुलाने से उसकी मंशा साफ है. आखिर अकेले विमल गुरुंग को बैठक का न्यौता क्यों भेजा गया है?”

दार्जिलिंग के लेफ्ट फ्रंट नेता जे सरकार कहते हैं, "बीजेपी के दिल में हर चुनाव से पहले अचानक दार्जिलिंग पर्वतीय क्षेत्र के प्रति प्रेम उमड़ने लगता है. गोरखालैंड का मुद्दा उठा कर वह एक बार फिर अलगाववादी आंदोलन को हवा देने का प्रयास कर रही है. हम ऐसे प्रयासों के खिलाफ आंदोलन करेंगे." प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अब्दुल मन्नान कहते हैं, "हम पर्वतीय क्षेत्र की समस्या के स्थायी राजनीतिक समाधान के पक्ष में है. उस इलाके को और स्वायत्तता दी जानी चाहिए. लेकिन यह राज्य की सीमा के भीतर ही होना चाहिए. इस मुद्दे पर कोई फैसला करने से पहले केंद्र को सर्वदलीय बैठक बुलाना चाहिए.”

Darjeeling Hills Indien

नए राज्य की मांग के साथ दशकों से आंदोलन हो रहा है

क्या है विवाद

दार्जिलिंग पर्वतीय क्षेत्र में गोरखालैंड की मांग सौ साल से भी ज्यादा पुरानी है. इस मुद्दे पर बीते लगभग चार दशकों के दौरान कई बार हिंसक आंदोलन हो चुके हैं. तीन साल पहले गोरखालैंड की मांग में आंदोलन के दौरान इन पहाड़ियों में बड़े पैमाने पर हुई हिंसा और आगजनी ने तमाम समीकरण को उलट-पुलट दिया है. उस दौरान 104 दिनों तक चली हड़ताल और राज्य सरकार की ओर से विभिन्न धाराओं में कई मामले दर्ज होने के बाद गिरफ्तारी के डर से मोर्चा के अध्यक्ष विमल गुरुंग भूमिगत हैं.

मोर्चा के एक अन्य नेता विनय तामंग ने अब पार्टी के एक बड़े गुट की कमान संभाल ली है और वह ममता बनर्जी के साथ हैं. अस्सी के दशक में गोरखा नेशनल लिबरेशन फ्रंट (जीएनएलएप) के प्रमुख सुभाष घीसिंग के दौर से ही पर्वतीय इलाके में चुनावी बयार जस की तस रही है. यहां सबसे ताकतवर स्थानीय दल जिसका समर्थन करता है, जीत का सेहरा उसके माथे ही बंधता रहा है. इंद्रजीत खुल्लर से लेकर सीपीएम के आरबी राई और कांग्रेस के दावा नरबुला हों या फिर बीजेपी के जसवंत सिंह, एस.एस.आहलुवालिया या फिर पिछली बार जीतने वाले राजू बिष्टा, तमाम लोग इसी फार्मूले से जीतते रहे हैं. बीच में सियासी फायदे के लिए खासकर बीजेपी रह-रह कर गोरखालैंड का मुद्दा उभारती रही है. अब एक बार फिर इस मुद्दे पर विवाद तेज होने का अंदेशा है.

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री