पलकें झपकाते समय अंधेरा क्यों नहीं दिखता | मंथन | DW | 12.08.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मंथन

पलकें झपकाते समय अंधेरा क्यों नहीं दिखता

क्या आप जानते हैं कि आप दिन भर में कितनी बार अपनी आंखें झपकाते हैं? एक मिनट में हमारी पलकें कुछ 15 से 20 बार बंद होती हैं. दिन भर में हिसाब लगाएं तो कुछ 11 हज़ार बार. यानी दिन में 11 हज़ार बार आपकी आंखों के आगे अंधेरा छाता है लेकिन आपको वो महसूस नहीं होता. दिमाग इस अंधेरे को कैसे प्रोसेस करता है, आइए जानें.

वीडियो देखें 03:35

और पढ़ें