परिवार का पेट भरने के लिए तन बेचने की मजबूरी | दुनिया | DW | 27.10.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

परिवार का पेट भरने के लिए तन बेचने की मजबूरी

जो महिलाएं अपने देश में टीचर, पुलिस अधिकारी या फिर अखबार बांटने का काम करती थी, वे आज अपने बच्चों का पेट भरने के लिए अपना शरीर बेचने को मजबूर हैं. यह कहानी वेनेजुएला की है.

तेल और दूसरे प्राकृतिक संसाधनों से मालामाल यह देश आज इस कदर संकट में घिरा है कि खाने के लाले पड़ रहे हैं और ऐसे में बहुत से लोगों के सामने देश छोड़ कर चले जाने के सिवाय कोई चारा नहीं है. वे पड़ोसी देशों में इस उम्मीद में जा रहे हैं कि उन्हें कुछ मिले जिससे वे अपना पेट भर सकें और वेनेजुएला में रहने रहे अपने परिवारों को कुछ पैसा भेज सकें.

वेनेजुएला को छोड़ कर जाने वाले कई लोगों के पास जरूरत दस्तावेज नहीं होते, जिससे उन्हें काम मिलने में दिक्कत होती है. ऐसे में, वेनेजुएला की बहुत सी महिलाएं कोलंबिया में देह व्यापार की अंधेरी दुनिया में उतरने को मजबूर हैं.

इन्हीं में 30 साल की पैट्रिका भी शामिल है जिसके तीन बच्चे है. उसे नशे में धुत्त एक ग्राहक ने पीटा और उसका बलात्कार किया. वह बताती है, "ऐसे ग्राहक आते हैं जो आपके साथ बहुत बुरा सलूक करते हैं और यह बहुत ही भयानक है. मैं हर दिन भगवान से दुआ करती हूं कि वे हमारे साथ अच्छा बर्ताव करें."

देखिए दुनिया के सबसे बड़े देह बाजार

एलेगरिया (बदला हुआ नाम) वेनेजुएला में इतिहास और भूगोल की टीचर थी और उसका वेतन 3.12 लाख बोलिवार था. लेकिन वेनुएला में मुद्रास्फीति आसमान छू रही है और देश की मुद्रा बोलिवार पाताल में जा रही है. 3.12 लाख बोलिवार की कीमत एक अमेरिकी डॉलर भी नहीं है. 26 साल की एलेगरिया कहती है कि वह अपनी महीने भर की सैलरी से पास्ता का एक पैकेट भी नहीं खरीद पा रही थी. ऐसे में घर का गुजारा चलाना मुश्किल हो गया था. इसलिए फरवरी में उसने सीमा पार कर कोलंबिया जाने का फैसला किया.

शुरू में उसने पूर्वी कोलंबिया में एक वेटर के तौर पर काम किया. इस काम की बदौलत उसे खाने और रहने की जगह तो मिल गई लेकिन वेतन कभी नहीं मिला. बस ग्राहकों से जो टिप मिलती थी, वही उसकी कमाई थी. वह बताती है, "मैंने टिप में मिला पैसा अपने परिवार के पास भेजा." छह लोगों का परिवार एलेगरिया पर ही निर्भर है जिनमें उसका चार साल का एक बेटा भी शामिल है.

वीडियो देखें 01:58

यूरोप की ये बदनसीब सेक्स वर्कर

बाद में जब टिप भी उससे छीनी जाने लगी तो एलेगरिया को यह काम छोड़ना पड़ा. उसने कालामार इलाके में जाने की सोची जिसे ड्रग्स की तस्करी का गढ़ माना जाता है और यहां कभी पूर्व फार्क गुरिल्ला लड़ाकों का दबदबा हुआ करता था.

लगभग तीन हजार की आबादी वाले इस कस्बे में एलेगरिया एक बार में देह व्यापार करनी लगी. वहां उसके साथ नौ और महिलाएं यही काम कर रही हैं. हर ग्राहक से 37-50 हजार पेसो (कोलंबियाई मुद्रा) तक मिलते हैं जो अमेरिका मुद्रा में 11 से 16 डॉलर के आसपास बैठते हैं. हर ग्राहक से मिलने वाले पैसे में से सात हजार पेसो बार का मालिक रख लेता है. एलेगरिया बताती है कि एक "अच्छी रात" में वह 30 से 100 डॉलर तक कमा लेती है.

ऐसी महिलाओं में 35 साल की जोली भी शामिल है जो वेनेजुएला में अखबार बांटने का काम करती थी. जब वेनेजुएला में अखबार छापने के लिए कागज ही नहीं बचे तो उसे अपनी नौकरी गंवानी पड़ी. वह बताती है, "हमने कभी नहीं सोचा था कि हमें देह व्यापार करना पड़ेगा. हम यह काम कर रहे हैं क्योंकि हमारे देश में संकट है."

चार साल की मंदी और वर्षों के वित्तीय कुप्रबंधन का नतीजा है कि आज वेनेजुएला को यह हालात देखने पड़ रहे हैं. गरीबी तेजी से पांव पसार रही है और खाने पीने की चीजों के साथ साथ दवाओं की भारी किल्लत हो रही है. अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के मुताबिक वेनेजुएला में इस साल मुद्रास्फीति की दर 14 लाख प्रतिशत रहने की उम्मीद है और अगले साल तो यह एक करोड़ प्रतिशत हो सकती है.

जोली अपने तीन बच्चों को वेनेजुएला में अपनी मां के पास छोड़ कर आई है. जब वह वेनेजुएला की सीमा से कोलंबिया में दाखिल हुई तो उसके पास पासपोर्ट भी नहीं था. पासपोर्ट छोड़िए, तन पर जो कपड़े पहन रखे थे, उनके सिवा उसके पास कुछ नहीं था. संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि 2015 से 19 लाख लोग बेहतर जिंदगी की आस में वेनेजुएला छोड़ कर जा चुके हैं.

एके/एनआर (एएफपी)

DW.COM

इससे जुड़े ऑडियो, वीडियो

विज्ञापन