निर्वासित सऊदी नेताओं ने विपक्षी पार्टी की घोषणा की | दुनिया | DW | 24.09.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

निर्वासित सऊदी नेताओं ने विपक्षी पार्टी की घोषणा की

सऊदी के निर्वासित नेताओं और सरकार के आलोचकों ने देश में राजनीतिक सुधार के लिए विपक्षी पार्टी के गठन का ऐलान किया है. विपक्षी पार्टी ने बिना किसी भड़काऊ आंदोलन के देश में शांतिपूर्ण बदलाव की बात कही है.

सऊदी अरब सरकार के आलोचकों की यह घोषणा ऐसे समय में हुई जब सऊदी अरब के राजा सलमान ने संयुक्त राष्ट्र में अपना भाषण दिया. निर्वासन में रह रहे सऊदी अरब सरकार के आलोचकों ने देश में राजनीतिक सुधार करने के लिए विपक्षी पार्टी बनाने की घोषणा की है. संयुक्त राष्ट्र महासभा में किंग सलमान ने अपने भाषण में ईरान के प्रति कड़ा रुख अपनाया. उन्होंने कहा कि सऊदी अरब अपने कदम से पीछे नहीं हटेगा. उनके भाषण के कुछ ही घंटों के बाद निर्वासित सऊदी नेताओं के एक समूह ने नई विपक्षी पार्टी की घोषणा की. देश से बाहर रहने वाले नेताओं में से ज्यादातर ब्रिटेन, अमेरिका, कनाडा और अन्य देशों में रहते हैं. इनका नेतृत्व लंदन में रहने वाले मानवाधिकार कार्यकर्ता याह्या असीरी कर रहे हैं. असीरी का कहना है कि नई पार्टी का मकसद "राजशाही के बजाय सऊदी अरब में एक लोकतांत्रिक सरकार स्थापित करना है."

इस नई पार्टी का नाम नेशनल असेंबली पार्टी है और इसने अपने बयान में कहा, "सरकार दमन और हिंसा का सहारा लेती है और राजनीतिक गिरफ्तारियां करती है." सऊदी अरब वायु सेना के पूर्व अफसर असीरी कहते हैं, "नई पार्टी का गठन ऐसे अहम समय में हुआ जब देश को बचाना महत्वपूर्ण है." ब्रिटेन स्थित पार्टी की प्रवक्ता और शिक्षा के क्षेत्र से जुड़ी मदावी अल-रशीद ने कहा कि पार्टी के संस्थापकों को सऊदी शासक परिवार से कोई निजी दुश्मनी नहीं है. लेकिन उन्होंने कहा कि पार्टी के गठन का वक्त मायने रखता है. उनके मुताबिक, "दमन का माहौल कम होने के बजाय और बढ़ता जा रहा है."

सऊदी अरब की ओर से विपक्षी पार्टी के गठन और उसके बयानों पर तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. हालांकि, सऊदी अरब पहले भी इस बात से इनकार कर चुका है कि उसके अधिकारियों ने आलोचकों को चुप कराने के लिए हिंसा का सहारा लिया है. सऊदी अरब अगले साल नवंबर में जी 20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी करने की तैयारी कर रहा है, लेकिन कच्चे तेल के राजस्व में भारी गिरावट के कारण आर्थिक मंदी की मार झेल रहा है. राजनीतिक पर्यवेक्षकों के मुताबिक इस स्थिति में एक विरोधी पार्टी की घोषणा इसके लिए एक नई और कठिन चुनौती है.

किंग सलमान ने अतीत की सभी परंपराओं को तोड़ते हुए अपने बेटे मोहम्मद बिन सलमान को 2017 में अपना उत्तराधिकारी नियुक्त किया था, तभी से दुनिया में सऊदी अरब के खिलाफ आलोचना काफी बढ़ गई है. पत्रकार जमाल खशोगी की 2018 में हत्या के बाद से मोहम्मद बिन सलमान और देश की छवि बुरी तरह से खराब हुई है. सऊदी अधिकारी खशोगी की हत्या में प्रिंस का हाथ होने से इनकार करते आए हैं. पिछले दिनों सऊदी के कोर्ट ने खशोगी की हत्या के आठ दोषियों को 20 साल जेल की सजा सुनाई थी.

विपक्ष के मुताबिक मोहम्मद बिन सलमान ने देश में कई मानवाधिकार कार्यकर्ताओं, धार्मिक विद्वानों और बुद्धिजीवियों को अवैध रूप से हिरासत में लिया, जो उनसे सहमत नहीं थे. वह कहते हैं कि प्रिंस सलमान उन लोगों को दरकिनार करते हैं जो राजशाही के लिए खतरा पैदा करते हैं.

एए/सीके (रॉयटर्स, एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन