नियाग्रा के बाद ग्रैंड कैन्यन रस्सी पर | मनोरंजन | DW | 24.06.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

नियाग्रा के बाद ग्रैंड कैन्यन रस्सी पर

अमेरिका के साहसी निक वालेंडा ऐसे पहले व्यक्ति बन गए हैं जिन्होंने रस्सी पर चल कर ग्रैंड कैन्यन सिर्फ 23 मिनट में पार किया. 2012 में उन्होंने नियाग्रा फॉल्स पार किए थे.

34 साल के निक वालेंडा ने कोलोराडो नदी पर ग्रैंड कैन्यन पर्वतों से बंधे 457 मीटर ऊंचाई पर रस्सी पर संतुलन बनाते हुए पार किया. नीचे हहराती नदी और ऊपर तेज हवाओं के झोंके लेकिन पांच सेंटीमीटर मोटी स्टील की रस्सी पर चलते वैलेंडा के पैर नहीं लड़खड़ाए. हवा अनुमान से बहुत तेज थी. "वो हवा के झोंके इतने अनिश्चित थे. अचानक कहीं से 56 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार वाला झोंका आ जाता. मेरी बाहें दुखने लगी थीं, आपको विश्वास नहीं होगा."

आयोजकों ने बताया कि उन्हें 426 मीटर की दूरी पार करने में 22 मिनट और 54 सेकंड का समय लगा. यह काफी तेज था.

इसका लाइव टेलीकास्ट तो हुआ ही. ट्विटर पर भी इससे जुड़े ट्वीट की बाढ़ आ गई. वॉक के दौरान ही सात लाख ट्वीट्स आए. इस पर भी काफी बहस हुई कि क्या ये ग्रैंड कैन्यन को पार करना था या नहीं. तकनीकी तौर पर यह नावायो नेशन की खाड़ी थी जो ग्रैंड कैन्यन के पूर्वी हिस्से में है. लेकिन आयोजकों ने जोर दे कर यही कहा कि वह ग्रैंड कैन्यन के ऊपर से चले.

Nik Wallenda

साहसी निक वैलेंडा

वालेंडा चार साल से इस स्टंट की तैयारी कर रहे थे. उन्हें उम्मीद थी कि रस्सी पर चलते समय ही वह पत्रकारों के सवालों के जवाब भी दे सकेंगे लेकिन वॉक शुरू करने के कुछ ही मिनटों में साफ हो गया कि उन्हें रस्सी पर चलने के लिए पूरा ध्यान चाहिए था. डिस्कवरी चैनल के इस प्रसारण को दुनिया के 200 देशों में देखा जा सकता था.

वॉक के दौरान वह अपने पिता के साथ रेडियो पर जुड़े हुए थे. हालांकि पहले पांच मिनट बाद ही बातचीत वालेंडा के यीशू से प्रार्थना पर ही केंद्रित हो गई थी कि भगवान हवा शांत करने में मदद करें. वालेंडा माइक और कैमरा से जुड़े हुए थे. एक उनके सीने पर भी लगा हुआ था जो कैन्यन के नीचे का हिस्सा दिखा रहा था. एम्पायर स्टेट बिल्डिंग से भी ऊंची जगह थी. आखिरी कुछ मीटर बहुत तेजी से वह चले और फिर अपनी पत्नी एरेन्डिरा और तीन बच्चों की बाहों में गिर पड़े.

वालेंडा मिस्र के पिरामिड और पैरिस के एफिल टॉवर पर भी नजर गड़ाए हैं. "मेरे स्टंट का अगला सपना न्यू यॉर्क की दो स्काई स्क्रैपर इमारतों के बीच होगा."

साहसी वालेंडा ने अपने पड़दादा कार्ल को भी याद किया जो 1978 में पुर्तो रिको में दो ऊंची इमारतों के बीच वायर पर चलते हुए गिर गए थे और उनकी मौत हो गई थी.

एएम/एनआर (एएफपी)

DW.COM