नर्स की मौत से सदमे में घरवाले | दुनिया | DW | 09.12.2012
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

नर्स की मौत से सदमे में घरवाले

जासिंदा कि मौत की खबर ने भारत में उनके परिवार को हिला कर रख दिया है. लंदन में काम करने वाली नर्स, ऑस्ट्रेलियाई रेडियो जॉकियों से बातचीत के बाद मृत मिली.

46 साल की जासिंदा सल्ढाना ने किंग एडवर्ड सातवें अस्पताल से प्रिंस विलियम की पत्नी कैथरीन (कैट) के बारे में बातचीत की थी. गर्भवती केट का इसी अस्पताल में इलाज चल रहा था. उन्होंने ऑस्ट्रेलियाई रेडियो जॉकियों का कॉल अपने साथ काम करने वाली अन्य साथी को दिया. इसके बाद सल्ढाना मृत मिलीं. जासिंदा के रिश्तेदार भारत में बैंगलोर शहर से 400 किलोमीटर की दूरी पर शिरवा में रहते हैं. उसकी भाभी इरिने डीसूजा ने कहा, "हमें उनके पति से यह खबर सुन कर बहुत झटका लगा कि जासिंदा अब इस दुनिया में नहीं है. उन्होंने हमें नहीं कहा कि उसने आत्महत्या की है. यह मानना मुश्किल है कि उसने आत्महत्या की होगी क्योंकि वह ऐसा करने वाली महिला नहीं थी. हम उसकी आत्मा की शांति के लिए और उसके बच्चों के लिए चर्च में प्रार्थना करेंगे."

मीडिया इस घटना को आत्महत्या का मामला बता रहा है, वहीं पुलिस ने कहा है कि मौत के कारण साफ नहीं है. लेकिन पुलिस ने मौत को संदिग्ध भी नहीं माना है. अगले हफ्ते पोस्टमार्टम की रिपोर्ट आनी है.

जासिंदा के लिए चर्च में की गई सभा में 300 से ज्यादा लोग मौजूद थे. उनकी बहन मेरी ने बताया, "जासिंदा को अपना काम पसंद था और वह पूरे मन से इसे करती. उसका पारिवारिक जीवन भी सामान्य था. इतना बड़ा कदम उठाने के पीछे तो कोई बहुत बड़ी चिंता रही होगी. वह भारत में नर्सिंग सेंटर खोलना चाहती थी और उन्होंने कई लड़कियों को डॉक्टर बनने के लिए प्रेरित किया था. उनकी पॉजिटिव एनर्जी से सारा माहौल बदल जाता था."

विलियम और केट ने कहा कि वह नर्स की मौत से बहुत दुखी हैं. सल्ढाना ब्रिस्टल में रहती थीं. वह 12 साल पहले ब्रिटेन आई थी.

उधर ऑस्ट्रेलियाई रेडियो स्टेशन 2डे एफएम ने कहा कि वह किंग एडवर्ड अस्पताल से आई चिट्ठी पर चर्चा करेंगे. अस्पताल ने ऑस्ट्रेलियाई रेडियो की करतूत को घटिया धोखा बताते हुए इसका कड़ा विरोध किया है. अस्पताल के चेयरमैन लॉर्ड सिमोन ग्लेनार्थर ने चिट्ठी में लिखा कि ऑस्ट्रेलियाई रेडियो इस बात को सुनिश्चित करे कि ऐसी हरकत दोबारा न हो, "मैं मानता हूं कि जो नुकसान आप लोगों ने कर दिया है उसे आप ठीक नहीं कर सकते लेकिन ऐसे कदम उठाएं जिनसे ऐसी घटनाएं फिर न हों."

शुक्रवार को ऑस्ट्रेलियाई रेडियो जॉकी मेल ग्रेग और माइकल क्रिस्टियान ने खुद को क्वीन एलिजाबेथ और प्रिंस चार्ल्स बताते हुए केट की तबीयत के बारे में पूछा था. उस दिन कोई रिसेप्शनिस्ट ड्यूटी पर नहीं होने की वजह से जासिंदा ने फोन दूसरे साथी को दिया, जिसने केट की तबीयत के बारे में बताया. इस पूरी घटना के बाद जासिंदा मृत पाई गई. नर्स से बात करने वाले दोनों ऑस्ट्रेलियाई रेडियो जॉकियों और उनके कार्यक्रम को फिलहाल बंद कर दिया गया है. यह कार्यक्रम ऑस्ट्रेलिया के 2डे एफएम पर प्रसारित किया गया था. रेडियो प्रशासन ने इस घटना को दुखद बताते हुए कहा कि जब तक इस मामले में अंतिम नतीजा नहीं आ जाता, यह कार्यक्रम नहीं चलेगा. दोनों रेडियो जॉकियों ने माफी मांगी है.

एएम/एजेए (एएफपी, डीपीए, रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री