दिल्ली जैसे बलात्कार से रियो पर चिंता | दुनिया | DW | 03.04.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

दिल्ली जैसे बलात्कार से रियो पर चिंता

रियो की बस में एक अमेरिकी छात्रा के साथ सामूहिक बलात्कार ने अगले फुटबॉल वर्ल्ड कप और ओलंपिक खेलों के मेजबान देश में लोगों की सुरक्षा पर चिंता बढ़ा दी है. हालांकि यहां हिंसक वारदातों में पिछले दिनों काफी कमी आई है.

पिछले वीकएंड 21 साल की एक अमेरिकी छात्रा को छह घंटे तक मिनी बस में अगवा कर रखा गया और इस दौरान उसके साथ सामूहिक बलात्कार हुआ. पीड़ित छात्रा के साथ उसका फ्रांसीसी ब्वॉयफ्रेंड भी था, उसे खूब मारा पीटा गया. घटना कोपाकबाना में हुई जो अपने समुद्र तट के लिए खासा मशहूर है. रियो और दिल्ली में पिछले दिनों हुआ बलात्कार कांड एक जैसा ही है और कानून व्यवस्था के मामले में दोनों विकासशील देशों के बीच अंतरराष्ट्रीय जगत में चर्चा होने लगी है. दिल्ली की घटना के बाद भारत आने वाले अंतरराष्ट्रीय सैलानियों की संख्या में 25 फीसदी की कमी आई है. रियो में होटलों के एक संगठन के प्रमुख अल्फ्रेडो लोप्स का कहना है, "डिजनीलैंड में कोई भी हमला नहीं झेलना चाहता. कोपाकबाना हमारा डिजनीलैंड है. इसने खतरे की घंटी बजा दी है."

घटना ऐसे समय में हुई है जब रियो हिंसक अपराधों से छुटकारा पाने के लिए अभियान चला रहा है. हाल के दिनों में यहां की पुलिस ने दर्जनों ऐसे इलाकों पर नियंत्रण करने में कामयाबी पाई है, जो अपराधियों और नशीली दवाओं के तस्करों के चंगुल में थे. अगले साल के फुटबॉल वर्ल्ड कप से पहले मार्वलस सिटी के नाम से मशहूर रियो में इस साल जून में कंफेडरेशन कप होगा. स्थानीय प्रशासन के लिए बड़े आयोजन से पहले खुद की तैयारियों का जायजा लेने का यह अच्छा मौका होगा. इतना ही नहीं एक महीने बाद ही विश्व युवा दिवस के मौके पर यह शहर नए पोप फ्रांसिस का भी स्वागत करेगा.

Copacabana Rio bei Tag

सैलानियों का शहर कोपाकोबाना

अमेरिकी छात्रा और उसका ब्वॉयफ्रेंड लापा जाने के लिए एक मिनी बस में सवार हुए. यह इलाका डांस क्लबों और बार के लिए मशहूर है. अचानक बस में दो आदमी सवार हुए और इन दोनों को हथकड़ी लगाकर बाकी सवारियों को उतरने के लिए कहा. इसके बाद ब्वॉयफ्रेंड की छड़ से पिटाई की गई और लड़की के साथ बलात्कार किया गया. रियो की पर्यटक पुलिस के मुताबिक इस दौरान बस शहर में घूमती रही. पुलिस ने इस मामले में दो संदिग्धों को गिरफ्तार किया है. संदिग्धों की तस्वीर देखने के बाद एक अन्य महिला ने उनकी पहचान बलात्कारियों के रूप में की है. इस महिला के साथ मिनीबस में 23 मार्च को बलात्कार किया गया था. मिनी बस रियो के लिए शहरी यातायात का एक बड़ा साधन है.

इस घटना के बाद काफी हो हल्ला मचा है लेकिन अधिकारी इसे बस अलग तरह की घटना ही मान रहे हैं. रियो के सुरक्षा सचिव जोस मारियोना बेल्ट्रामे ने समाचार एजेंसी एएफपी को बताया, "यह एक भयानक घटना है लेकिन रियो में ऐसा बार बार नहीं होता. इसे इस तरह से पेश करना अनुचित होगा." रियो दे जनेरो यूनिवर्सिटी में अपराध विशेषज्ञ ऑगस्टो रोड्रिग्स ने कहा, "इस तरह की क्रूर घटना असाधारण है लेकिन आमतौर पर इसे जल्दी ही भुला दिया जाएगा. ब्राजील में यह भारत की तरह कोई आम बात नहीं." विशेषज्ञों से जब ब्राजील में 2011 से 2012 के दौरान बलात्कार की घटना में 24 फीसदी इजाफे के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि विशेष पुलिस शाखा का गठन होने के बाद से मामले दर्ज कराने के लिए ज्यादा महिलाएं सामने आ रही हैं. माइकल मिसे कहते हैं, "इससे पहले ऐसी घटनाओं के बारे में पुलिस को बताने में वो शर्माती थीं क्योंकि वहां उनकी बात सुनने वाला पुरुष होता था."

हालांकि जानकारों ने जोर देकर कहा कि मोटे तौर पर रियो और पूरे ब्राजील में सुरक्षा की हालत कभी बेहतर नहीं रही. अमेरिका और यूरोपीय मानकों के हिसाब से भी यहां अपराध की दर काफी ज्यादा रही है. 2010 में ब्राजील में हर एक लाख निवासी में से 21 लोगों की हत्या हुई. 2010 में यह दर एक लाख पर 60 थी.

एनआर/एमजे (एएफपी)

DW.COM

WWW-Links

विज्ञापन