1. कंटेंट पर जाएं
  2. मेन्यू पर जाएं
  3. डीडब्ल्यू की अन्य साइट देखें
BdTD Indien Ganesh Chaturthi Festival in Mumbai
तस्वीर: Reuters/F. Mascarenhas

त्योहारों में और फैल सकती है महामारी!

चारु कार्तिकेय
९ अक्टूबर २०२०

त्योहार और उन्हें सामुदायिक रूप से मनाने की होड़ कोविड-19 महामारी को और फैलाने के कैसे जिम्मेदार हो सकते हैं इसे लेकर नए तथ्य सामने आ रहे हैं.

https://p.dw.com/p/3jfUi

तालाबंदी में धीरे धीरे छूट दिए जाने के बाद जिन राज्यों में त्योहारों से जुड़े कार्यक्रम आयोजित किए गए, उनमें कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़ गए.अब आने वाले नवरात्रि, दुर्गा पूजा, दशहरा, दीवाली, छठ जैसे त्योहारों को देखते हुए संक्रमण के मामलों में उछाल आने की आशंका व्यक्त की जा रही है. नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल की अध्यक्षता वाली विशेषज्ञों की समिति ने इस विषय पर चिंता व्यक्त की है और कहा है कि अगर आने वाले त्योहारों को लेकर सावधानी नहीं बरती गई तो अकेले दिल्ली में रोजाना संक्रमण के 15,000 नए मामले आ सकते हैं.

दिल्ली में इस समय रोजाना लगभग 2700 नए मामले सामने आ रहे हैं. मीडिया में आई खबरों के अनुसार समिति ने दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण को एक रिपोर्ट सौंपी है जिसमें समिति ने यह कहा है कि केरल में ओणम और महाराष्ट्र में गणेश चतुर्थी के कार्यक्रमों के आयोजन के बाद देखा गया कि दोनों राज्यों में महामारी गंभीर रूप से बढ़ गई. समिति ने प्राधिकरण से अपील की ऐसी गलती को दिल्ली में दोहराया नहीं जाना चाहिए और त्योहार संबंधित आयोजनों को परिवार के सदस्यों तक सीमित रखना चाहिए.

समिति ने कहा कि बाजारों और रिहायशी इलाकों में वैसे ही भीड़ बढ़ रही है और ऐसे में अगर त्योहारों की वजह से अगर भीड़ और बढ़ी तो स्थिति में धीरे धीरे होते सुधार के फायदों से दिल्ली हाथ धो बैठेगी. केरल में ओणम के कार्यक्रम अगस्त के आखिरी सप्ताह और सितंबर के पहले सप्ताह के बीच आयोजित किए गए थे. उसके बाद के सप्ताहों में राज्य में सक्रिय मामलों में दोगुने से भी ज्यादा बड़ी उछाल आई है.

Indien Ganesh Chaturthi in Mumbai Festival
गणेश चतुर्थी अगस्त के आखिरी सप्ताह में मनाई गई थी और एक रिपोर्ट के अनुसार उसके बाद महाराष्ट्र में 3.7 लाख नए मामले सामने आए, जो राज्य में संक्रमण के कुल मामलों के 46 प्रतिशत के बराबर है.तस्वीर: DW/T. Godbole

इस समय केरल में 92,246 सक्रिय मामले हैं और अब रोजाना 10,000 से भी ज्यादा नए मामले सामने आने लगे हैं. केरल उन राज्यों में भी शामिल हो गया है जहां कोविड-19 से मारे जाने वालों की संख्या भी सबसे तेजी से बढ़ रही है. सक्रिय मामलों के लिहाज से केरल अभी सभी राज्यों में तीसरे स्थान पर है. पहले स्थान पर महाराष्ट्र और दूसरे पर कर्नाटक हैं. गणेश चतुर्थी भी अगस्त के आखिरी सप्ताह में मनाई गई थी और एक रिपोर्ट के अनुसार उसके बाद महाराष्ट्र में 3.7 लाख नए मामले सामने आए जो राज्य में संक्रमण के कुल मामलों के 46 प्रतिशत के बराबर है.

जानकार इसे इस बात का स्पष्ट संकेत मानते हैं कि त्योहारों में लोगों के घर के बाहर निकल कर कार्यक्रमों में शामिल होने से महामारी के फैलने की रफ्तार बढ़ जाती है. अक्टूबर और नवंबर में कई राज्यों में एक के बाद एक कई त्योहार धूम धाम से मनाए जाते हैं. इस बार इन त्योहारों को लेकर अलग अलग राज्यों में अलग स्थिति है. दिल्ली में दुर्गा पूजा का आयोजन वाली समितियों ने पंडाल ना लगाने का फैसला लिया है, लेकिन पश्चिम बंगाल में पंडाल लगने शुरू हो गए हैं और लोग भी त्योहारों से संबंधित खरीददारी के लिए बाजारों में नजर आ रहे हैं.

दिल्ली में भी कुछ लोग सरकार से रामलीला मंचन और दशहरा मेलों के आयोजन की अनुमति दिए जाने की मांग कर रहे हैं. लेकिन विशेषज्ञ समिति की मानें तो ऐसा करना जोखिम भरा होगा.

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

इस विषय पर और जानकारी को स्किप करें

इस विषय पर और जानकारी

संबंधित सामग्री को स्किप करें
डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी को स्किप करें

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी

Pakistan Premierminister Imran Khan

इमरान खान के लिए तंग हुआ आगे का रास्ता

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें को स्किप करें

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें

होम पेज पर जाएं