तोहफा लेने पर 4000 यूरो का जुर्माना | मनोरंजन | DW | 20.01.2015
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

तोहफा लेने पर 4000 यूरो का जुर्माना

क्या आपने कभी अपने किसी टीचर को तोहफा दिया है? बर्लिन में एक टीचर का अपने छात्रों से तोहफा लेना गले की फांस बन गया है. उसे 4000 यूरो का जुर्माना देना पड़ा. लेकिन मामला खत्म नहीं हुआ है.

मामला 2011 का है. दसवीं के एक क्लास की पढ़ाई पूरी हो रही थी और छात्रों को अपनी प्रिय क्लासटीचर से विदाई लेनी पड़ रही थी. उन्होंने टीचर को कोई तोहफा देने की सोची जिसके लिए छात्रों ने क्लास में पैसा जमा किया और करीब 200 यूरो में जर्मनी के लोकप्रिय हास्य कलाकार लोरियो का एक स्कल्पचर टीचर को भेंट किया गया. यहीं से समस्या शुरू हुई क्योंकि सब अभिभावकों को यह बात पसंद नहीं आई. एक ने तो इस बात की ओर इशारा भी किया कि सरकारी अधिकारियों को तोहफा लेने की अनुमति नहीं है और शिक्षक भी राजपत्रित कर्मचारी होते हैं.

तोहफा दे दिया गया और मामला खत्म होता लगा. लेकिन कुछ महीने बाद यह फिर भड़क गया जब तोहफे में शामिल नहीं होने वाले छात्र को कम नंबर मिले. बर्लिन के दैनिक टागेसश्पीगेल के अनुसार इस पर झगड़ा हो गया क्यों कम नंबर देने वाली टीचर वहीं थी जिसे तोहफा मिला था. छात्र के पिता ने इसमें संबंध देखा और शिकायत कर दी. एक ओर लोकप्रिय टीचर तो दूसरी ओर नियमों के पालन की मांग करता पिता.

मामले को भड़कना ही था. अब सरकारी जांच कार्यालय ने आपराधिक जांच शुरू की. शिक्षक का तोहफा लेना गलत था, लेकिन जांच अभिभावकों के खिलाफ भी हुई जिन्हों तोहफा देने में मदद दी थी. अंत में उनके खिलाफ कोई मामला तो नहीं बना क्योंकि यह पता नहीं चल पाया कि किसने कितने पैसे दिए थे, लेकिन आपराधिक कार्रवाई में बचाव के लिए उन्हें वकील लेना पड़ा जिसपर कुछ सौ यूरो का खर्च तो आया ही. और टीचर को 4000 यूरो का जुर्माना हुआ.

क्लास का माहौल खराब हो गया, कुछ रिश्ते टूटे, लेकिन 2013 के अंत में लगा कि मामला निबट गया. पर उसके बाद खबरें छपनी शुरू हुईं. पहले स्थानीय अखबारों में, फिर क्षेत्रीय और राष्ट्रीय अखबारों में. 4000 यूरो के जुर्माने पर सार्वजनिक आक्रोश का इजहार हुआ लेकिन अभियोक्ता कार्यालय का कहना है कि जुर्माना शिक्षक की आय के आधार पर किया गया है क्योंकि सरकारी कर्मचारियों का तोहफा लेना गैरकानूनी है. अब राजनीतिज्ञ सरकारी अधिकारियों के तोहफे के नियमों को बदलने पर चर्चा कर रहे हैं. इस समय वे 10 यूरो से ज्यादा का तोहफा नहीं ले सकते. तोहफे वाली मूर्ति इस बीच अभियोक्ता कार्यलय के गोदाम में धूल खा रही है.

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन