तेलंगाना के मुख्यमंत्री के खिलाफ मामला दर्ज | दुनिया | DW | 08.06.2015
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

तेलंगाना के मुख्यमंत्री के खिलाफ मामला दर्ज

आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू को बदनाम करने के और अवैध रूप से उनके फोन को टेप करने के आरोप में तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है.

तेलंगाना में धन देकर वोट खरीदने के मामले में तब एक नया मोड़ आया, जब चंद्रबाबू नायडू और तेलंगाना के मनोनीत विधायक एल्विस स्टीफेंसन के बीच हुई बातचीत का नया ऑडियो टेप जारी हुआ. एक स्थानीय टीवी चैनल ने यह ऑडियो टेप चलाया. आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री नायडू को इस मामले में तेलांगना की भ्रष्टाचार निरोधक शाखा द्वारा बुलाए जाने की अटकलों के बाद उनके समर्थक तेलंगाना के मुख्यमंत्री पर आरोप लगाए हैं और उनके खिलाफ केस दर्ज करा रहे हैं. विशाखापत्तनम पुलिस थाने के सर्कल इंस्पेक्टर तिरूमला राव ने बताया कि स्थानीय वकील एनवीवी प्रसाद ने तेलंगाना राष्ट्र समिति के प्रमुख चंद्रशेखर राव के खिलाफ मामला दर्ज किया है. इनके अलावा तेलंगाना के एल्विस स्टीफेंसन, हैदराबाद के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो के अधिकारियों और दो टीवी चैनलों के खिलाफ भी मामला दर्ज कराया गया है.

तेलुगु देशम पार्टी के नेताओं ने राज्यपाल ईएसएल नरसिंहन के हस्तक्षेप की भी मांग की है. एक बयान में उन्होंने कहा, "राज्यपाल का काम है नागरिकों के अधिकारों, उनकी संपत्ति और कानून व्यवस्था को सुरक्षित रखना. वे चुप नहीं रह सकते." पार्टी ने आरोप लगाया है कि तेलंगाना राष्ट्र समिति के नेता तेलुगु देशम पार्टी के नेताओं की गैरकानूनी रूप से जासूसी कर रहे थे और चंद्रबाबू नायडू की छवि को खराब करने के लिए षड्यंत्र रच रहे थे. आईपीसी की धारा 464, 647, 471, 166, 167 और 120बी के तहत मामले दर्ज किए गए हैं.

आंध्र सरकार ने टेप में अपने मुख्यमंत्री की आवाज होने से इंकार किया है. पार्टी के सलाहकार परकला प्रभाकर का कहना है कि टेप से छेड़छाड़ की गयी है और सरकार इस मामले को पूरी संजीदगी से ले रही है. टेप में कथित रूप से नायडू को यह आश्वासन देते हुए सुना जा सकता है कि यदि स्टीफेंसन उनकी पार्टी को वोट देते हैं, तो उनकी "हर मुमकिन तरह से" मदद की जाएगी. इसके जवाब में प्रभाकर ने कहा कि तेलंगाना सरकार आंध्र सरकार के मुख्य मंत्री की छवि खराब करने के लिए "नीच हरकतों" पर उतर आई है. उन्होंने कहा, "यह मुख्यमंत्री की आवाज नहीं है. अगर यह उनकी आवाज है, तो यह टेप सार्वजनिक कैसे हुआ? तेलंगाना सरकार को इसका जवाब देना होगा. तेलंगाना के मुख्यमंत्री और गृहमंत्री को इसका जवाब देना होगा."

आईबी/एमजे (पीटीआई)

DW.COM

विज्ञापन