तस्वीर देखकर ऑस्ट्रेलिया से ग्रीस पहुंचे मदद के हाथ | दुनिया | DW | 08.07.2015
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

तस्वीर देखकर ऑस्ट्रेलिया से ग्रीस पहुंचे मदद के हाथ

कर्ज संकट से जूझ रहे ग्रीस को यूरो जोन के देशों ने समझौते के लिए रविवार तक की मोहलत दी है तो एक पेंशनर की तकलीफ देखकर ऑस्ट्रेलिया का एक इंसान मदद के लिए ग्रीस जा रहा है.

बैंक के बाहर रोते हुए इस पेंशनर की तस्वीर ने ऑस्ट्रेलिया के एक व्यक्ति को इतना व्यथित किया कि उसने ग्रीस जाकर उसकी मदद करने का फैसला किया. पिछले हफ्ते आई यह तस्वीर सारी दुनिया में छा गई. इसमें 77 वर्षीय ग्रीसवासी यॉर्गोस चात्सीफोटियाडिस को देखा जा सकता है. चार अलग अलग जगहों पर कोशिश करने के बावजूद जब वह अपनी बीवी की 120 यूरो की पेंशन निकालने में विफल हो गए तो जमीन पर बैठकर फूट फूट कर रोने लगे. तस्वीर में साफ देखा जा सकता था कि देश के कर्ज संकट ने वहां के लोगों को किन हालात में लाकर खड़ा कर दिया है और ऐसे में जीवन किस हद तक मुश्किल हो गया है.

इस बीच यह तस्वीर ऑस्ट्रेलिया में एक फाइनांस कंपनी में काम करने वाले जेम्स काउफोस ने देखी. उन्होंने पाया कि वह बूढ़ा बहुत कुछ उनके पिता के मित्र जैसा दिखता है. फिर उन्होंने फोन पर अपनी मां से बात की जो ग्रीस में रहती हैं. उन्होंने बताया कि काउफोस ने जिस व्यक्ति की तस्वीर देखी है वह वाकई उनके पिता के पुराने मित्र यॉर्गोस हैं. काउफोस के मुताबिक, "जब मैंने यह देखा तो अपनी मां से पूछा कि मैं क्या कर सकता हूं? मैंने अपनी मां से कहा कि वह कुछ रकम निकाल कर फौरन उनकी मदद करें."

काउफोस ने फेसबुक पर भी एक भावुक अपील करते यॉर्गोस को तलाश करने में उनकी मदद करने की अपील की. उन्होंने एक ट्रस्ट फंड की भी स्थापना की ताकि रकम जमा की जा सके. वह इस हफ्ते यॉर्गोस से मिलने ग्रीस जा रहे हैं. उन्होंने बताया, "हम वहां उन्हें भारी रकम देकर हैरान करने जा रहे हैं. साथ ही हम कॉर्पोरेशंस से भी रकम जमा करने की कोशिश कर रहे हैं....जो भी इसमें दान करना चाहे." वह कोशिश कर रहे हैं कि यॉर्गोस ही नहीं अन्य लोगों की भी उतनी मदद की जा सके जितनी उनके लिए संभव है.

काउफोस का परिवार भी उसी शहर थेसालोनिकी से है जहां यॉर्गोस चात्सीफोटियाडिस रहते हैं. उन्होंने बताया कि यॉर्गोस उनकी बहन की शादी में भी आए थे. ऑस्ट्रेलिया में बड़ी संख्या में आप्रवासी ग्रीसवासी रहते हैं. काउफोस ने बताया कि वह तस्वीर देखकर बहुत ज्यादा भावुक हो गए, "वे तस्वीरें हजारों कहानियां कह रही थीं. उन तस्वीरों का असर सिर्फ मुझपर ही नहीं बल्कि कई और लोगों पर भी हुआ जिन्हें मैं जानता हूं."

इस बीच ब्रसेल्स में यूरोजोन के नेताओं के बीच हुई आपातकाल बैठक में फैसला लिया गया कि कर्ज संकट से जूझ रहा ग्रीस गुरुवार तक नए प्रस्ताव पेश करे ताकि किसी समझौते तक पहुंचा जा सके. ग्रीस में हुए जनमत संग्रह में ग्रीसवासियों ने अंतरराष्ट्रीय कर्जदाताओं की योजना को ठुकरा दिया था.

एसएफ/एमजे(एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन