′डबल एजेंट से जुड़े आरोप गंभीर′ | दुनिया | DW | 07.07.2014
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

'डबल एजेंट से जुड़े आरोप गंभीर'

जर्मनी की चांसलर अंगेला मैर्केल ने चीन यात्रा के दौरान कहा कि अमेरिकी संदिग्ध एजेंट की जासूसी के आरोप गंभीर हैं.

जर्मन खुफिया एजेंसी बीएनडी में संदिग्ध डबल एजेंट का पता लगने के बाद जर्मनी ने अमेरिका से तेज जवाब की अपील की है. चीन यात्रा के दौरान चांसलर मैर्केल ने चीनी प्रधानमंत्री ली केचियांग के साथ साझा संवाददाता सम्मेलन में कहा, "अगर रिपोर्टें सही हैं तो ये गंभीर केस होगा. मेरे लिये यह उससे सीधा विरोधाभासी होगा, जिसे मैं एजेंसियों और साझेदारों के बीच विश्वसनीय सहयोग समझती हूं." वहीं जर्मनी के विदेश मंत्री फ्रांक वाल्टर श्टाइनमायर ने मंगोलिया की यात्रा के दौरान कहा, "अगर संदेह सही साबित होते हैं, तो राजनीतिक तौर पर भी यह ऐसी घटना होगी जो सामान्य नहीं होगी. अभी इस समय हम पहले स्पष्टीकरण करेंगे और फिर फैसला लेंगे." इस बीच अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने चांसलर मैर्केल पर जासूसी को लेकर माफी मांगी है.

पिछले साल पता चला था कि अमेरिका की राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी एनएसए ने अंगेला मैर्केल के मोबाइल फोन को टैप किया था और अब जर्मनी की खुफिया एजेंसी बीएनडी में अमेरिका के लिए जासूसी करने वाले कर्मचारी की रिपोर्टों से बर्लिन में काफी नाराजगी है. जर्मनी में अमेरिकी राजदूत को शुक्रवार के दिन विदेश मंत्रालय में तलब किया गया.

रिपोर्ट आई थी कि जर्मनी की खुफिया एजेंसी में काम करने वाले एक 31 साल के व्यक्ति को पकड़ा गया है जो दो साल से अमेरिकी एजेंसी एनएसए को सूचनाएं दे रहा था. जर्मनी के गृहमंत्री थोमास डेमिजियर ने बिल्ड अखबार से बातचीत में कहा, "मैं सभी से उम्मीद करता हूं कि वह आरोपों के तेज स्पष्टीकरण में मदद करें और साफ और तुरंत बयान दें."

जर्मनी के मुख्य सरकारी वकील ने पिछले सप्ताह पुष्टि की कि बुधवार को एक आदमी को गिरफ्तार किया गया जिस पर एक विदेशी खुफिया सर्विस के लिए काम करने के आरोप हैं. लेकिन उन्होंने ये नहीं बताया कि वह किस एजेंसी के लिए काम कर रहा था. जर्मनी के फ्रांकफुर्टर अल्गेमाइने अखबार और बिल्ड अखबार के रविवार संस्करण ने खुफिया एजेंसी बीएनडी के बेनाम अधिकारी के हवाले से कहा, "सारे सबूत इस ओर इशारे करते हैं कि वह अमेरिका के लिए काम कर रहा था." इन अखबारों के मुताबिक संदिग्ध व्यक्ति सीआईए के लिए काम कर रहा था और 25,000 यूरो के बदले में उसने करीब 200 दस्तावेज उन्हें दिए.

एएम/एमजी (एएफपी, डीपीए)

DW.COM

संबंधित सामग्री