ट्रंप से मिले किम, बड़े बदलाव की बात कही | दुनिया | DW | 12.06.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

ट्रंप से मिले किम, बड़े बदलाव की बात कही

अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनॉल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने मंगलवार को सिंगापुर में ऐतिहासिक शिखर वार्ता के बाद अहम समझौते पर दस्तखत किए.

इस बैठक का मुख्य उद्देश्य कोरियाई प्रायद्वीप में परमाणु निरस्त्रीकरण है. हालांकि अभी समझौते की विस्तृत जानकारी सामने नहीं आ पाई है, लेकिन ट्रंप ने उम्मीद जताई है कि निरस्त्रीकरण की प्रक्रिया बहुत जल्द शुरू होगी. बैठक के बाद उत्तर पूर्वी एशिया की सुरक्षा में बड़े बदलाव की उम्मीद की जा रही है.

वीडियो देखें 00:59

सिंगापुर में ट्रंप और किम जोंग उन की मुलाकात

यह कुछ वैसा ही है जैसा पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने 1972 में अपनी बीजिंग यात्रा के दौरान किया था और चीन की सुरक्षा में बदलाव देखने को मिले थे.

समझौते पर दस्तखत करने से पहले ट्रंप ने मुलाकात को बेहद सकारात्मक करार दिया. वहीं किम ने कहा कि यह दो नेताओं की ऐतिहासिक मुलाकात है और दुनिया को बड़ा बदलाव देखने को मिलेगा.

इस ऐतिहासिक मुकालात का बाजार ने भी स्वागत किया है. मंगलवार को अमेरिकी डॉलर अपने तीन हफ्ते के सर्वोच्च स्तर पर रहा, वहीं एशियाई शेयर भी मुलाकात की सकारात्मक खबर के बाद ऊपर उछले. ट्रंप ने कहा कि उन्होंने किम के साथ "बेहद खास" रिश्ता जोड़ लिया है और आने वाले वक्त में उत्तर कोरिया से रिश्ते पहले से अलग व बेहतर होंगे. अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि हम दुनिया को सबसे खतरनाक समस्या से बचा रहे हैं और लोगों को इस बात की बेहद खुशी है.

यह पूछे जाने पर किया ट्रंप व्हाइट हाउस में किम को आने का न्योता देंगे, इस पर अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि वह जरूर बुलाएंगे. उन्होंने किम को बेहद स्मार्ट, भरोसेमंद और मेहनती मध्यस्थ कहा. ट्रंप ने कहा, "मैंने यह जाना है कि किम में काबिल व्यक्ति है और अपने देश से बेहद प्यार करते हैं."

सिंगापुर में होटल में आयोजित बैठक को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि यह मुलाकात उम्मीद से काफी बेहतर रही. इस दौरान शांत दिख रहे किम ने भी बैठक को शांति की ओर बढ़ाया कदम बताया.

(इन देशों पर अमेरिका ने लगा रखे हैं प्रतिबंध) ​​

बैठक के बाद दोनों नेता ट्रंप की बुलेफप्रूफ "द बीस्ट" नाम से मशहूर लिमोजिन कार में बैठे. इस दौरान किम को कार के अंदर ट्रंप कुछ दिखाते नजर आए. सिंगापुर के सेंटोजा रिसॉर्ट में पहुंचने पर शुरुआत में दोनों नेताओं के चेहरे पर गंभीरता नजर आई, लेकिन जैसे ही मीडिया के कैमरे फ्लैश होना शुरू हुए दोनों सहज हुए और हाथ मिलाया. इसके बाद चेहरे पर मुस्कराहट देखी गई और दोनों हाथ थामे अंदर जाते देखे गए. 

बतौर ट्रंप किम ने अपने ट्रांसलेटर के जरिए कहा कि पूरी दुनिया इस मुलाकात को देख रही है. कई लोगों के लिए यह अब भी कल्पना है या फिर कोई साइंस की फिक्शन फिल्म सरीखा है. ट्रंप के साथ अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पेओ, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बॉल्टन, वाइट हाउस के चीफ ऑफ स्टाफ जॉन केली मौजूद रहे. वहीं, किम की टीम में पूर्व मिलिट्री इंटेलिजेंस, विदेश मंत्री और वर्कर्स पार्टी के उपाध्यक्ष दिखाई पड़े.  

सूत्रों के मुताबिक, मंगलवार को ही किम सिंगापुर से वापसी करेंगे. वहीं, ट्रंप दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे इन और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे से बातचीत कर चुके हैं और सिंगापुर मुलाकात के बाद आगे की घटनाक्रम पर चर्चा करेंगे. इस ऐतिहासिक मुलाकात पर मून का कहना है कि इससे कोरियाई देशों और अमेरिका के रिश्ते में नया बदलाव देखने को मिलेगा और शांति की स्थापना होगी.

वीसी/एके (रॉयटर्स)

 

DW.COM

इससे जुड़े ऑडियो, वीडियो

संबंधित सामग्री

विज्ञापन