टेरीजा मे की ब्रेक्जिट पॉलिसी से नाराज ट्रंप | दुनिया | DW | 13.07.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

टेरीजा मे की ब्रेक्जिट पॉलिसी से नाराज ट्रंप

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरीजा मे से मुलाकात से पहले एक इंटरव्यू में उनकी आलोचना की और ब्रेक्जिट पॉलिसी पर सवाल उठाए. उन्होंने चेतावनी दी कि ब्रिटेन के साथ व्यापार समझौता खतरे में है.

ब्रिटेन आने के साथ ही अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ब्रेक्जिट विवाद को हवा दे दी. उन्होंने आरोप लगाया कि यूरोपीय संघ से व्यापारिक समझौते में टेरीजा ने उनकी सलाह नहीं मानी जिसके बाद संभव है कि अब ब्रिटेन का अमेरिका से व्यापार समझौता खटाई में पड़ जाए. ब्रिटिश अखबार 'सन' को दिए इंटरव्यू में अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि ब्रिटेन का यूरोपीय संघ के साथ व्यापार समझौते को लेकर दोस्ताना रवैया ट्रांस-एटलांटिक व्यापार समझौते को प्रभावित करेगा.

राष्ट्रपति बनने के बाद पहली बार ब्रिटेन पहुंचे ट्रंप के इस इंटरव्यू ने भूचाल ला दिया है. खास बात यह है कि इस इंटरव्यू के कुछ घंटे पहले ही ब्रिटेन ने अच्छे मेजबान की तरह ट्रंप को शाही दावत दी थी. ब्रेक्जिट को लेकर ट्रंप के पुराने बयानों और आलोचनाओं को नजरअंदाज करते हुए टेरीजा मे ने दोनों देशों के बीच पुरानी दोस्ती की सराहना की थी. उन्होंने पूर्व ब्रिटिश प्रधानमंत्री विंस्टन चर्चिल के भाषण का हवाला देते हुए कहा, "अमेरिका का हमारे साथ होना सबसे बड़ी खुशी की बात है." शुक्रवार को दोनों नेता लंच पर बातचीत करेंगे जिसमें ट्रंप के बयान के छाए रहने की उम्मीद है.

इंटरव्यू में अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, "अगर ब्रिटेन का व्यापार समझौते को लेकर ऐसा ही रवैया बरकरार रहा तो अमेरिका को यूके के बजाए यूरोपीय संघ के साथ डील करनी होगी. इससे संभवतः ब्रिटेन के साथ समझौता खत्म हो जाएगा. उन्होंने टेरीजा मे की शिकायत करते हुए कहा, "मैं व्यापार समझौता बिल्कुल अलग तरीके से करता. मैंने दरअसल टेरीजा मे को कहा था कि इसे कैसे करना है, लेकिन उन्होंने मेरी नहीं सुनी."

यूरोपीय संघ के साथ समझौते की बातचीत से नाखुश होकर ब्रिटिश सरकार के दो मंत्रियों ने पिछले दिनों इस्तीफा दे दिया है. ऐसे में ट्रंप का यह बयान ब्रिटिश सरकार के लिए नया सिरदर्द साबित हो सकता है. ब्रेक्जिट समर्थकों में यह राय बनने लगी है कि टेरीजा मे ने उनके साथ धोखा किया है.

क्या ब्रेक्जिट को अब भी रोका जा सकता है

दरअसल, टेरीजा मे ने पहले भी कहा है कि उनके ब्रेक्जिट प्लान से अमेरिका की साथ डील पर कोई असर नहीं पड़ेगा. ब्रिटिश सरकार की कारोबार समर्थक ब्रेक्जिट योजना के अनुसार ब्रिटेन यूरोपीय संघ के मुक्त व्यापार क्षेत्र में शामिल रह सकेगा लेकिन इसके लिए उसे यूरोपीय संघ के कुछ नियम मानने होंगे. इस योजना को उनकी कैबिनेट ने पिछले हफ्ते मंजूरी दे दी है.

'जॉनसन बनेंगे बेहतरीन प्रधानमंत्री'

राष्ट्रपति ट्रंप ने अपने इंटरव्यू में सिर्फ टेरीजा मे की आलोचना ही नहीं की, उन्होंने मे की ब्रेक्जिट पॉलिसी से नाराज होकर इस्तीफा देने वाले पूर्व विदेश मंत्री बोरिस जॉनसन के बारे में कहा कि वह बेहतरीन प्रधानमंत्री बनेंगे. इंटरव्यू के बाद शुरू हुए हंगामे पर व्हाइट हाउस की प्रवक्ता सैरा सैंडर्स ने आधिकारिक बयान में कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति टेरीजा मे की काफी इज्जत करते हैं. उन्होंने इंटरव्यू में ब्रिटिश प्रधानमंत्री को एक अच्छा इंसान कहा था और उनके खिलाफ कोई गलत बात नहीं कही थी.

टेरीजा मे ने राष्ट्रपति की टिप्पणियों पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है, लेकिन ब्रिटिश मीडिया और कई सांसदों ने इसे कूटनीतिक प्रोटोकॉल का उल्लंघन और मे की बेइज्जती बताया है. ब्रिटिश वित्त मंत्री फिलिप हेमंड ने ट्रंप की आलोचना को नजरअंदाज करते हुए कहा है, "राष्ट्रपति को अब तक प्रधानमंत्री के साथ श्वेतपत्र पर चर्चा का मौका नहीं मिला है, और वे राष्ट्रपति के साथ इसके बारे में बातचीत का इंतजार कर रही हैं."

वीसी/एमजे (रॉयटर्स)

ब्रिटेन का बाजा बजाने लगा है ब्रेक्जिट 

 

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन