टेनिस की नई ताकतें | खेल | DW | 08.07.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

टेनिस की नई ताकतें

विश्व टेनिस में नए युग की शुरुआत हो गई है. रोजर और राफा अब यादों में शामिल हो गए हैं, रविवार को विंबलडन के फाइनल के बाद नया जमाना नोवाक और एंडी का है.

एंडी मरे ने ऑल इंग्लैंड क्लब के सेंटर कोर्ट पर 15,000 दर्शकों के सामने फाइनल में नोवाक जोकोविच को 6-4,7-5, 6-4 से हराया और इसके साथ ही 1936 में फ्रेड पेरी के बाद, इस ट्रॉफी को जीतने वाले पहले ब्रिटेन के पहले पुरुष खिलाड़ी बने. स्कॉटलैंड के मरे ने जीत के बाद कहा, विंबलडन में जीत, मुझे विश्वास नहीं हो रहा, सोने की ट्रॉफी हाथ में उठाए मरे ने कहा, मैं इसे अपने लिए जीतना चाहता था, लेकिन मुझे पता है कि दूसरे भी विंबलडन का ब्रिटिश विजेता देखना चाहते थे.

एंडी मरे की जीत ब्रिटेन के लिए ऐतिहासिक तो थी ही, विंबलडन फाइनल ने ग्रैंड स्लैम स्तर पर विश्व के शीर्ष दो खिलाड़ियों के वर्चस्व को दिखाया है, जो सिर्फ पांच दिनों के अंतर पर पैदा हुए हैं और इस समय 26 साल के हैं. पिछले चार ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंटों में से तीन के फाइनल में मुकाबला जोकोविच और मरे के बीच हुआ है.

Wimbledon 2013 Finale Herren

जोकोविच की हार

इस बीच पिछले साल के विंबलडन चैंपियन रोजर फेडरर विश्व वरीयता में लुढ़क कर पांचवे स्थान पर चले गए हैं, जो पिछले एक दशक में उनकी सबसे निचली रैंकिंग है. इस साल वे दूसरे ही राउंड में टूर्नामेंट से बाहर हो गए. बारह महीने पहले सातवीं बार विंबलडन जीतने से पहले 31 वर्षीय फेडरर ने 2010 के ऑस्ट्रेलियन ओपन के बाद से कोई महत्वपूर्ण टूर्नामेंट नहीं जीता था. उनकी दो जीतों के बीच 10 टूर्नामेंट का अंतर था.

फेडरर की तरह कभी विश्व नंबर एक रहे रफाएल नाडाल इस साल पहले ही राउंड में विंबलडन से बाहर हो गए. यह पेशेवर खिलाड़ी के रूप में उनके 10 साल के करियर में पहला मौका था जब वे किसी बड़े टूर्नामेंट के पहले ही दौर में बाहर हो गए हों. 27 वर्षीय स्पेनी खिलाड़ी ने सात महीने तक मैदान से बाहर रहने के बाद इस साल आठवीं बार फ्रेंच ओपन जीतकर शानदार वापसी की, लेकिन इससे पहले उन्होंने भी 2010 के यूएस ओपन के बाद से पेरिस के अलावा और कोई अहम टूर्नामेंट नहीं जीता था.

पिछले 34 ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट में कुल मिलाकर 33 में जोकोविच, मरे, फेडरर और नाडाल की जीत हुई है, लेकिन पिछले 11 में से सात टाइटल विश्व नंबर वन जोकोविच और नंबर टू मरे ने जीते हैं. इस साल सर्बिया के जोकोविच ने अपना चौथा ऑस्ट्रेलियन ओपन जीता, फ्रेंच ओपन में सेमी फाइनल नाडाल के हाथों कठिन पांच सेट में हारे और विंबलडन का फाइनल मरे के हाथों गंवाया. मरे मेलबर्न में जोकोविच से फाइनल हारे थे जबकि पीठ की चोट के कारण फ्रेंच ओपन में भाग ही नहीं लिया था.

17 प्रमुख टूर्नामेंट का रिकॉर्ड बनाने वाले फेडरर ऑस्ट्रेलिया में सेमी फाइनल में हार गए थे और फ्रेंच ओपन में क्वार्टर फाइनल तक ही पहुंच पाए. नाडाल चोट के कारण ऑस्ट्रेलियन ओपन नहीं खेल पाए और लगातार मुश्किलें पैदा करने वाले घुटनों को बचाने के लिए उन पर विंबलडन कभी न खेलने का दबाव है. 1980 के दशक में सात ग्रैंड स्लैम टाइटल जीतने वाले स्वीडन के मैट्स विलंडर का मानना है कि मरे और जोकोविच अब इस खेल के निर्विवाद महाशक्तियां हैं. "मैं समझता हूं कि मरे छह, सात, आठ , नौ, दस मेजर जीत सकते हैं. नोवाक अकेले इंसान हैं जो उन्हें रोक सकते हैं."

एमजे/एनआर (एएफपी,एपी)

DW.COM

विज्ञापन