जर्मन मूल्यों को स्वीकार करें आप्रवासी: पूर्व राष्ट्रपति गाउक | दुनिया | DW | 07.06.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

जर्मन मूल्यों को स्वीकार करें आप्रवासी: पूर्व राष्ट्रपति गाउक

जर्मनी के पूर्व राष्ट्रपति योआखिम गाउक ने आप्रवासियों से समानान्तर समाज न बनाने की अपील की है. पूर्व राष्ट्रपति ने "वतन" शब्द से जुड़ी भावना का दुरुपयोग करने के खिलाफ भी चेतावनी दी.

पूर्व राष्ट्रपति और देश की सम्मानित शख्सियत योआखिम गाउक ने कहा कि आप्रवासियों को जर्मनी और उसके मूल्यों को स्वीकार करने के लिए तैयार रहना चाहिए. जर्मनी में सबसे ज्यादा पढ़े जाने वाले अखबार बिल्ड साइटुंग से बात करते हुए गाउक ने कहा, "मुझे यह अस्वीकार्य लगता है कि दशकों से जर्मनी में रहने के बावजूद कुछ लोग जर्मन में बातचीत नहीं कर सकते हैं, पेरेंट-टीचर कॉन्फ्रेंस में शामिल नहीं हो पाते हैं या अपने बच्चों को कक्षाओं या स्पोर्ट्स से दूर रखते हैं."

देश में शरणार्थियों के मुद्दे पर जारी बहस के बीच गाउक ने यह भी कहा कि जर्मन मूल्यों की हिफाजत के लिए लोगों को शर्माना नहीं चाहिए. ऐसे में लोगों को नस्लभेदी या विदेशी विरोधी होने का डर नहीं सताना चाहिए. पूर्व राष्ट्रपति ने कहा, "साथ रहने के लिए एक जरूरी नियम हो और एक साथ कई तरह के समाज न हों."

हाईमाट शब्द पर चर्चा

जर्मनी में आम लोगों के लिए "हाईमाट" शब्द बेहद भावनात्मक है. इसका इस्तेमाल कई तरह से होता है. एक मतलब है वह इलाका जहां से कोई व्यक्ति आता है, जहां से उसकी भावनाएं जुड़ी होती हैं. इसे वतन भी कहा जा सकता है. अंग्रेजी में इसे आम तौर पर होमलैंड भी कहा जाता है. गाउक ने कहा कि वह इस शब्द की वापसी का स्वागत करते हैं. नाजी काल और कम्युनिस्ट पूर्वी जर्मनी के दौर में इस शब्द पर काला धब्बा लगा, लेकिन अब यह शब्द फिर से सार्वजनिक बहस में लौटा है.

पूर्व राष्ट्रपति ने कहा, "यह लंबित मामला ही था कि यह शब्द अपने पूर्व राजनीतिक दुरुपयोग से छुटकारा पाए. जर्मनी को दुरुपयोग की गई शब्दावली से बाहर निकलना होगा. यह रिकवरी अच्छे ढंग से हुई है."

घर जैसी भावना नहीं

योआखिम गाउक ने माना कि बीते कुछ बरसों में बड़ी संख्या में रिफ्यूजियों के आने के बाद हाईमाट शब्द के चलन में तेजी आई है. जर्मन सरकार ने भी अपने आंतरिक सुरक्षा मंत्रालय के नाम में हाईमाट शब्द जोड़ा है.

गाउक ने कहा कि आप्रवासियों की बड़ी लहर के चलते कुछ जर्मन अब जर्मनी में घर जैसा महसूस नहीं कर रहे हैं. गाउक ने चेतावनी देते हुए कहा कि इस शब्द को भावनात्मक ज्वार बनाने से बचना होगा. पूर्व राष्ट्रपति ने कहा, "मेरे लिए हाईमाट शब्द का मतलब है खुद से आश्वस्त होने और आत्मविश्वास की भावना." गाउक 2012 से 2017 तक जर्मनी के राष्ट्रपति थे.

ओएसजे/एमजे (डीपीए, केएनए, एएफपी)

DW.COM

विज्ञापन