1. कंटेंट पर जाएं
  2. मेन्यू पर जाएं
  3. डीडब्ल्यू की अन्य साइट देखें
Symbolbild Armut in Deutschland
तस्वीर: photothek/IMAGO

महंगाई से जूझते कामगारों को टैक्स में राहत देगी जर्मन सरकार

१० अगस्त २०२२

जर्मन सरकार ने बढ़ती महंगाई से जूझ रहे कामगारों को टैक्स में राहत देने के लिये 10 अरब यूरो की योजना का एलान किया है. एक तरफ नौकरियों पर खतरा मंडरा रहा है तो दूसरी तरफ खर्च बढ़ता रहा है, जर्मनी के आम लोग परेशान हैं.

https://www.dw.com/hi/%E0%A4%9C%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%AE%E0%A4%A8%E0%A5%80-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%AE%E0%A4%B9%E0%A4%82%E0%A4%97%E0%A4%BE%E0%A4%88-%E0%A4%B8%E0%A5%87-%E0%A4%9C%E0%A5%82%E0%A4%9D%E0%A4%A4%E0%A5%87-%E0%A4%95%E0%A4%BE%E0%A4%AE%E0%A4%97%E0%A4%BE%E0%A4%B0%E0%A5%8B%E0%A4%82-%E0%A4%95%E0%A5%8B-%E0%A4%9F%E0%A5%88%E0%A4%95%E0%A5%8D%E0%A4%B8-%E0%A4%AE%E0%A5%87%E0%A4%82-%E0%A4%B0%E0%A4%BE%E0%A4%B9%E0%A4%A4-%E0%A4%A6%E0%A5%87%E0%A4%97%E0%A5%80-%E0%A4%B8%E0%A4%B0%E0%A4%95%E0%A4%BE%E0%A4%B0/a-62767978

बुधवार को जर्मनी के वित्त मंत्री क्रिस्टियान लिंडनर ने कर में राहत के योजना की घोषणा की. इसके तहत कर मुक्त आय का दायरा बढ़ाया जा रहा है. इसके साथ ही आय कर की सर्वोच्च दर यानी 42 फीसदी जहां से लागू होती है उस स्तर को भी ऊंचा किया जा रहा है. यानी अब पहले से ज्यादा कमाई करने पर यह दर लागू होगी. परिवारों को उन पर आश्रित बच्चों के नाम पर मिलने वाले कर में छूट को बढ़ाने का भी फायदा मिलेगा.

कितना फायदा होगा?

गणना करने से पता चल रहा है कि ऊंची कमाई करने वालों को ज्यादा फायदा होगा. सालाना 60 हजार यूरो से ज्यादा कमाई करने वाले लोगों के पास 470 यूरो ज्यादा आयेंगे जबकि 20,000 यूरो कमाने वाले लोग 115 यूरो तक बचा पायेंगे.

 जर्मनी में महंगाई की दर जुलाई के महीने में 7.5 फीसदी रही. जून के 7.6 फीसदी से यह बहुत मामूली रूप से ही कम है. इन सबके पीछे ऊर्जा की ऊंची कीमतें हैं जो यूक्रेन पर रूस के हमले के बाद तेजी से बढ़ी हैं.

रोजमर्रा की जरूरतों की चीजें बीते महीनों में काफी महंगी हुई हैं
रोजमर्रा की जरूरतों की चीजें बीते महीनों में काफी महंगी हुई हैंतस्वीर: Abdulhamid Hosbas/AA/picture alliance

लिंडनर का कहना है कि उनकी योजना के लक्ष्य में प्राथमिक रूप से वो लोग हैं जो महंगाई बढ़ने के बाद बढ़ी तनख्वाहों के कारण ऊंचे कर का बोझ उठा रहे हैं. इसके नतीजे में कामगारों को जो फायदा होना था वह ऊंचे टैक्स की भेंट चढ़ जा रहा है.

लिंडनर का कहना है कि जर्मनी के करीब 4.8 करोड़ लोगों को अगर राहत नहीं दी गई तो जनवरी 2023 से उन्हें ऊंची टैक्स दरों का बोझ सहना होगा. लिंडनर ने यह भी कहा, "ऐसे वक्त में जब लोगों की रोजमर्रा की जिंदगी ज्यादा महंगी हो गई है तब सरकार का फायदा उठाना उचित नहीं है और यह आर्थिक विकास के लिये भी घातक है."

यह भी पढ़ेंः गैस की कमी देख अभी से लकड़ी जमा करने लगे लोग

पिछली योजना से अलग

टैक्स में राहत का यह उपाय जर्मनी के लोगों को इस साल की शुरुआत में चांसलर शॉल्त्स के घोषित 30 अरब यूरो के राहत पैकेज के अतिरिक्त होगा. शॉल्त्स ने महंगाई से राहत देने के लिये इस पैकेज की घोषणा की थी. इससे पहले के पैकेज में ईंधन टैक्स में कटौती और जून, जुलाई अगस्त के लिए महज9 यूरो मासिक के खर्च पर पूरे जर्मनी के लिये सार्वजनिक परिवहन  मुहैया कराने की बात शामिल थी. हालांकि यह साफ है कि यूरोप की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था पर मंडरा रहे संकट के बादल जाड़े का मौसम करीब आने के साथ और गहरे हो रहे हैं.

उर्जा का संकट ना सिर्फ आम लोगों के लिये है बल्कि उद्योगों के लिये भी
उर्जा का संकट ना सिर्फ आम लोगों के लिये है बल्कि उद्योगों के लिये भीतस्वीर: Marc John/IMAGO

यूक्रेन संकट ने जर्मनी के कोरोना वायरस की महामारी से उबर कर विकास के मार्ग पर चलने की उम्मीदों को भी धराशायी कर दिया. जर्मनी एक निर्यात आधारित अर्थव्यवस्था है और सप्लाई चेन में आ रही दिक्कतों और कच्चे माल की समस्याओं से महामारी के दौर में उसे काफी परेशानी हुई. अब जब दिक्कतों के दूर होने का समय आया तो जंग छिड़ गई.

यह भी पढ़ेंः जर्मनी की सड़कों पर ट्रैफिक जाम कम क्यों है

ऊर्जा का संकट 

रूस ने यूक्रेन पर हमले के बाद ऊर्जा की सप्लाई में काफी कटौती की है. इसके नतीजे में जर्मनी ऊर्जा की कीमतों को दोगुना होते हुए देख रहा है खासतौर से यूक्रेन पर रूसी हमले के बाद. ऊर्जा की समस्या ना सिर्फ ग्राहकों की क्रय शक्ति घटा रही है बल्कि जर्मन उद्योंगों को भी काफी नुकसान पहंचा रह है. जर्मनी के ज्यादातर उद्योग उत्पादन के लिये सस्ती ऊर्जा की सप्लाई पर निर्भर हैं. 

कई महीनों से महंगाई की दर 7 फीसदी से ऊपर बनी हुई है
कई महीनों से महंगाई की दर 7 फीसदी से ऊपर बनी हुई हैतस्वीर: Ying Tang/NurPhoto/picture alliance

यूरोप की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के कर्मचारी दोहरी मार झेल रहे हैं. एक तरफ कीमतें बढ़ गईं हैं और बड़ी कंपनियों की फैक्ट्रियों में काम बंद होने से उनकी नौकरी जाने का खतरा बढ़ता जा रहा है. ऊर्जा की बढ़ी कीमतों और सप्लाई की गारंटी नहीं होने के कारण इन फैक्ट्रियों में काम किफायती नहीं रहा ऐसे में उत्पादन चालू रखना घाटे का सौदा बन रहा है. जाहिर है कि उत्पादन नहीं होगा तो नौकरियां भी नहीं रहेंगी. 

जर्मनी का विकास साल की दूसरी तिमाही में थम गया है. विश्लेषकों का यह भी कहना है कि साल के दूसरे आधे हिस्से में मंदी आने की पूरी आशंका है.  मार्च में अपने पिछले पूर्वानुमान में जर्मन सरकार के आर्थिक सलाहकारों ने आकलन किया था कि 2022 में जर्मनी के जीडीपी विकास की दर 1.8 फीसदी रहेगी.

एनआर/ओएसजे (एएफपी, डीपीए)

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी को स्किप करें

डीडब्ल्यू की टॉप स्टोरी

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

कांग्रेस अध्यक्ष की दौड़ में एक बार फिर उलटफेर

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें को स्किप करें

डीडब्ल्यू की और रिपोर्टें

होम पेज पर जाएं