जर्मनी में काम के लिए नए मौके | विज्ञान | DW | 02.12.2012
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

जर्मनी में काम के लिए नए मौके

जर्मनी को अकसर कवियों और बुद्धिजीवियों का देश कहा जाता है लेकिन वास्तव में यहां कई आविष्कार भी होते हैं और आधुनिक जीवन का हिस्सा बन रही कई मशीनों के पीछे जर्मनी का दिमाग लगा है. लेकिन अब यहां प्रतिभाओं की कमी हो रही है.

एक्स रे से लेकर पवन चक्कियों और कारों तक, जर्मनी कई दशकों से आविष्कार के चरम पर रहा है. कई जर्मन कंपनियां उच्च तकनीक की मिसाल हैं. जर्मनी में साइंस, टेक्नॉलजी, इंजीनियरिंग और मैथेमैटिक्स यानी स्टेम क्षेत्र में प्रतिभाशाली लोगों की कमी हो रही है. इंजीनियरों के अलावा आईटी में भी छात्र उद्योग की जरूरतों को पूरा करने के लिए कम पड़ रहे हैं.

जर्मनी में कई बड़ी कंपनियों को आईटी विशेषज्ञों की भी जरूरत पड़ती है. इन कंपनियों में मशीन नियंत्रण सिस्टम, लिखने के लिए सॉफ्टवेयर और ऑनलाइन कामों के लिए इंजीनियरों की जरूरत पड़ती है. बैंकों में खास तौर से गणित जानने वाले लोगों की कमी आ रही है.

इस वक्त जर्मनी में इन क्षेत्र में कुशलता प्राप्त लोगों को आसानी से नौकरी मिल सकती है. खास तौर से इसलिए क्योंकि कंपनियां ऐसे लोगों को ढूंढ तो रही हैं लेकिन उन्हें इतने लोग नहीं मिल रहे. स्टेम क्षेत्रों में पढ़ने वाले लोगों को कॉन्ट्रैक्ट की जगह परमानेंट नौकरियां मिल रही हैं और सालाना वेतन करीब 35,000 यूरो होता है और वह भी विश्वविद्यालय से पास होने के तुरंत बाद. 10 साल काम का अनुभव अगर हो तो सालाना तन्ख्वाह 70,000 यूरो तक होती है.

विदेशी डिग्रियां

अगर आपके देश में आपने गणित, साइंस या आईटी की पढ़ाई की हो तो जर्मनी में केंद्रीय विदेशी शिक्षा दफ्तर से आपकी डिग्री की जांच की जाती है और फिर आप जर्मनी में नौकरियों के लिए आवेदन भेज सकते हैं. इसकी जानकारी आपको  इस वेबसाइट में मिलेगी. जर्मनी में इंजीनियरों के लिए बहुत अच्छे मौके हैं और कंपनी के मैनेजमेंट तक भी पहुंचने के आसार अच्छे रहते हैं. इलैक्ट्रिकल या बिल्डिंग इंजीनियरिंग में पढ़ाई करने के बाद सालाना 36,000 से लेकर 45,000 यूरो तक कमाया जा सकता है और हर साल वेतन भी बढ़ते हैं.

जर्मनी में डॉक्टरों के लिए भी अच्छे मौके हैं. डॉक्टर आम तौर पर अस्पताल में काम करते हैं या उनके अपने क्लिनिक होते हैं. बाकी क्षेत्रों के मुकाबले उन्हें सालाना सबसे ज्यादा पैसे मिलते हैं. एक डॉक्टर हर साल लगभग 50,000 यूरो कमाता है. जर्मनी में इस वक्त डॉक्टरों की कमी है और देश भर में कम से कम 5,000 अतिरिक्त डॉक्टरों की जरूरत है क्योंकि कई डॉक्टर जल्द ही रिटायर हो जाएंगे. पूर्वी जर्मनी और ग्रामीण इलाकों में डॉक्टरों की भारी कमी है. अप्रैल 2012 में पारित किए गए नियमों के मुताबिक अगर आपने अपनी डॉक्टर की डिग्री कहीं विदेश से हासिल की है तो आपकी डिग्री की जांच के बाद आपको जर्मनी में काम करने का लाइसेंस दिया जा सकता है. इसके लिए और जानकारी आपको  इस वेबसाइट पर मिलेगी.

एमजी/एएम(डीडब्ल्यू)

DW.COM

WWW-Links

संबंधित सामग्री

विज्ञापन