जब मैर्केल ने कहा सेहतमंदी में उनकी भी दिलचस्पी | दुनिया | DW | 19.07.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

जब मैर्केल ने कहा सेहतमंदी में उनकी भी दिलचस्पी

गर्मी की छुट्टियों में जाने से पहले जर्मन चांसलर की प्रेस कॉन्फ्रेंस होती है. छुट्टी के माहौल में सरकार के कामों का लेखा जोखा और पत्रकारों के तीखे सवाल. जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल के लिए आज ऐसा 14वां प्रेस सम्मेलन था.

अंगेला मैर्केल को कोई बड़ा वक्ता नहीं माना जाता, लेकिन वे प्रेस कॉन्फ्रेंसों के तनाव को अपने मृदु स्वभाव, हंसी मजाक और तथ्यात्मक सूचनाओं से दूर करने के लिए जानी जाती हैं. इसीलिए गर्मी की छुट्टियों से पहले होने वाली प्रेस कॉन्फ्रेंस महत्वपूर्ण होती है. अगले छह हफ्ते सरकार छुट्टी में रहेगी. सारे मंत्री छुट्टी में, मंत्रालयों के ज्यादातर अधिकारी छुट्टी पर, कामकाज सहायकों के जरिए होगा. ये भी जर्मनी की विशेषता है. स्कूलों में इस समय छुट्टियां होती हैं. जिनके बच्चे स्कूलों में पढ़ते हैं ज्यादातर वे भी इस समय छुट्टी में होंगे.

प्रेस कॉन्फ्रेंस को शांति से निबटा ले जाना हर नेता के लिए चुनौती होती है. लेकिन ये मुंह से कुछ नई बातों के निकलने का मौका भी होता है. जर्मनी की महिला चांसलर से अमेरिकी कांग्रेस की महिला सदस्यों के खिलाफ राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की टिप्पणी के बारे में भी पूछा गया. पहली बार तो उनका जवाब टालने वाला ही था जब उन्होंने यह कहकर पीछा छुड़ाया कि विभिन्न राष्ट्रीयता के लोगों ने अमेरिका की ताकत में योगदान दिया है और यह कि ट्रंप का बयान अमेरिका की ताकत को कम करता है. लेकिन जब प्रेस कॉन्फ्रेंस के आखिर में उनसे फिर से यही सवाल पूछा गया तो मैर्केल ने साफगोई से कहा, "मैं इस बयान से निर्णायक रूप से दूरी व्यक्त करती हूं और हमले की शिकार महिलाओं के साथ एकजुटता महसूस करती हूं." एक ट्वीट में डॉनल्ड ट्रंप ने डेमोक्रैटिक पार्टी की चार महिला सांसदों को अमेरिका को सुझाव देने के बदले अपने अपने देशों में लौटने और वहां की समस्या सुलझाने को कहा था. उनमें से तीन का जन्म अमेरिका में हुआ है जबकि एक सोमालिया में पैदा हुई हैं लेकिन अमेरिकी नागरिकता ले चुकी हैं.

अंगेला मैर्केल की आज की प्रेस कॉन्फ्रेंस का समय कई कारणों से महत्वपू्र्ण था. एक तो यूरोपीय संघ में आयोग प्रमुख के पद पर उनकी पार्टी की उर्सुला फॉन डेय लाएन के चुनाव को लेकर विवाद था क्योंकि उनकी सरकार में शामिल पार्टी एसपीडी भी जर्मन उम्मीदवार का विरोध कर रही थी. सरकार में तनाव के कयास लगाए जा रहे थे. फिर यूरोपीय आयोग की नवनिर्वाचित प्रमुख ने यूरोपीय संघ के देशों में कानून सम्मत राज्य पर चल रहे विवाद में व्यावहारिकता की वकालत की है और शरणार्थियों के विवादित मुद्दे पर लिस्बन संधि में संशोधन का प्रस्ताव दिया है. इन मुद्दों पर जर्मन सरकार की राय लेने का मौका था. फिर सरकार की कार्बन डाय ऑक्साइड को कम करने की नीति के अलावा मैर्केल के स्वास्थ्य से जुड़े सवाल भी थे.

छुट्टी की योजना के बारे में पूछे जाने पर अंगेला मैर्केल ने कहा, "मैं हमेशा काम पर होती हूं. यदि कुछ होता है तो मैं उपलब्ध हूं." स्वास्थ्य के बारे में पूछे जाने पर चांसलर ने दृढ़ता से कहा कि वे अपना पद पूरी क्षमता के साथ संभाल सकती हैं. एक दिन पहले 65 साल की हुई चांसलर मैर्केल पिछले हफ्तों में कई बार सार्वजनिक मौकों पर कंपकंपाती हुई दिखी हैं. उन्होंने कहा, "इंसान के रूप में अपने स्वास्थ्य में मेरी निजी तौर पर भी गंभीर दिलचस्पी है." उन्होंने कहा कि वे 2021 तक चांसलर पद पर रहेंगी और उन्हें उम्मीद है "कि उसके बाद भी एक जिंदगी है, जिसे मैं स्वस्थ अवस्था में गुजारना चाहूंगी."

_______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

 

 

ऐसा क्या है अंगेला मैर्केल के व्यक्तित्व में

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन