चुलबुली अदाओं से दीवाना बनाया प्रीति ने | मनोरंजन | DW | 31.01.2015
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

मनोरंजन

चुलबुली अदाओं से दीवाना बनाया प्रीति ने

बॉलीवुड अभिनेत्री प्रीति जिंटा ने अपनी चुलबुली अदाओं से लगभग दो दशक से सिनेप्रेमियों को अपना दीवाना बनाया है. आज वे चालीस साल की हो गईं.

31 जनवरी 1975 को हिमाचल प्रदेश के शिमला में जन्मी प्रीति जिंटा ने अपने करियर के शुरूआती दौर में विज्ञापन फिल्मों में काम किया. अपने बॉलीवुड करियर की शुरूआत उन्होंने 1998 में प्रदर्शित मणिरत्नम की फिल्म "दिल से" से की. इस फिल्म के लिये प्रीति जिंटा को फिल्मफेयर की ओर से सर्वश्रेष्ठ डेब्यू अभिनेत्री का पुरस्कार दिया गया. इसी साल प्रीति जिंटा की एक और फिल्म सोल्जर रिलीज हुई. इस सस्पेंस थ्रिलर में प्रीति जिंटा और बॉबी देओल की जोड़ी को दर्शकों ने बेहद पसंद किया. सोल्जर टिकट खिड़की पर सुपरहिट साबित हुई.

वर्ष 2000 में प्रीति जिंटा की फिल्म "क्या कहना" उनके करियर के लिये अहम फिल्म साबित हुई. इस फिल्म के पहले लोगों की धारणा थी कि वे केवल चुलबुले किरदार निभा सकती हैं. इस फिल्म के लिये प्रीति जिंटा सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार के लिये नामांकित की गईं. 2001 में प्रदर्शित फिल्म दिल चाहता है प्रीति जिंटा के करियर की महत्वपूर्ण फिल्मों में से एक है. इस फिल्म से फरहान अख्तर ने बॉलीवुड में बतौर निर्देशक अपनी शुरूआत की थी. तीन दोस्तों पर आधारित इस फिल्म में प्रीति जिंटा के अपोजिट आमिर खान थे. प्रीति जिंटा और आमिर खान की जोड़ी को हिट रही.

वर्ष 2003 प्रीति जिंटा के करियर के लिये महत्वपूर्ण वर्ष साबित हुआ. इस वर्ष उनकी कल हो ना हो और कोई मिल गया जैसी सुपरहिट फिल्में रिलीज हुई. कल हो ना हो के लिए प्रीति जिंटा सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित की गईं तो कोई मिल गया के लिए भी उनका नामांकन हुआ. 2004 की फिल्म वीर जारा प्रीति जिंटा के करियर की उल्लेखनीय फिल्मों में शुमार की जाती है. यश चोपड़ा के निर्देशन में बनी इस फिल्म में प्रीति जिंटा और शाहरूख खान की जोड़ी एक बार फिर से पसंद की गई. वर्ष 2005 में प्रदर्शित और लिव इन रिलेशनशिप पर आधारित फिल्म सलाम नमस्ते के जरिये प्रीति जिंटा ने एक बार फिर से अपने दमदार अभिनय से दर्शकों को दीवाना बनाया.

फिल्म कभी अलविदा ना कहना 2006 में आई और प्रीति जिंटा के करियर की अंतिम सुपरहिट फिल्म साबित हुई. 2013 में अपनी निर्मित फिल्म इश्क इन पेरिस के जरिए प्रीति जिंटा ने कमबैक किया लेकिन यह फिल्म सफल नहीं रही. प्रीति जिंटा ने पिछले वर्ष प्रदर्शित फिल्म हैप्पी एंडिंग में कैमियो किया है.

एमजे/आईबी (वार्ता)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन