चुनाव में धांधली के लिए पांच लोगों को सजा | दुनिया | DW | 13.06.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

चुनाव में धांधली के लिए पांच लोगों को सजा

पश्चिमी जर्मनी के चुनावों में धांधली करने के दोषी पाए गए पांच राजनीतिज्ञों में एक रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन का कट्टर समर्थक भी है. उन्हें चुनावी धांधली के लिए सजा दी गई है.

पश्चिमी जर्मनी के शहर ओसनाब्रुक की स्थानीय अदालत ने इसी हफ्ते 5 नेताओं को चुनाव के दौरान धांधली करने का दोषी पाया है. इनमें से 4 लेफ्ट पार्टी के सदस्य है और उन्हें अदालत ने बीते सोमवार को 7 से 18 महीने की सजा सुनाई है. इनमें से लेफ्ट पार्टी के प्रमुख नेता आंद्रेयास माउरर को 7 महीने और 7 दिन की सजा मिली है. वहीं, पांचवें दोषी को अदालत ने जुर्माने की सजा सुनाई है.

48 वर्षीय माउरर पेशे से पहले एक पोस्टमैन थे और मूल रूप से कजाखस्तान के रहने वाले हैं. 80 के दशक में वह जर्मनी आ गए और हाल ही में सुर्खियों में तब आए जब वे रूस के कब्जा किए हुए क्षेत्र क्रीमिया और यूक्रेन के डोनबास इलाके में रूस समर्थक अलगाववादी नेताओं से मिले. माउरर रूसी टेलीविजन के टॉक शो में भी आ चुके हैं और क्रीमिया को रूस का हिस्सा मानने की वकालत करते हैं. इन्होंने रूस पर लगे पश्चिमी देशों के प्रतिबंधों को हटाने की बात भी कही है और रूसी राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन से भी मुलाकात कर चुके हैं. इस साल भी माउरर ने यूक्रेनी दूतावास की आपत्तियों के बाबवजूद अब तक 2 बार क्रीमिया का दौरा किया है.

इस समय क्रीमिया जाने के लिए विदेशियों को यूक्रेनी सरकार से इजाजत लेनी होती है. रूस की तरफ से क्रीमिया में दाखिल होने वाले विदेशियों के लिए यूक्रेन जाने की इजाजत नहीं मिलने का खतरा होता है.

चुनाव के नतीजे ने चौंकाया

पश्चिमी जर्मनी के शहर क्वाकेनब्रुक के चुनावी नतीजे जब आए तो लेफ्ट पार्टी को 60 फीसदी से अधिक वोट मिले. आप्रवासियों की बहुलता वाले इस शहर में यह जीत चौंकाने वाली थी क्योंकि पार्टी को इलाके में इतना समर्थन नहीं है. इस नतीजे से कई लोगों की भवें तन गईं और जांच के आदेश दिए गए. मालूम चला कि कई पोस्टल बैलेट पेपर पर वोटर्स के दस्तखत मेल नहीं खा रहे थे. जांच से पता चला कि इन लेफ्ट पार्टी के नेताओं ने जर्मन भाषा की कम या बिल्कुल समझ रखने वाले न वोटर्स को इस बात के लिए राजी कर लिया कि वे पहले दिए जाने वाले पोस्टल बैलेट पेपर की मांग करें.

Deutschland Verfahren wegen Wahlfälschung gegen Politiker der Linke (DW/M. Bushuev)

अपील करेंगे माउरर

इन नेताओं ने उन बैलेटों पर वोटर्स के फर्जी साइन कर चुनाव में धांधली कर डाली. नतीजे जब आए तो एक दोषी लेफ्ट नेता को कुल 558 पोस्टल वोट मिल गए. जांच में पाया गया कि असल में उसे सिर्फ 6 लोगों ने वोट डाला था. इसके बाद फौरन दोबारा चुनाव कराए गए जिसमें 4 में से 3 आरोपी नेताओं ने चुनाव लड़ा और एक ने नामांकन वापस ले लिया. इन नेताओं को बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा और अब अदालत की कार्रवाई के बाद मुमकिन है कि इन्हें राजनीतिक पद छोड़ना पड़े. अगले 4 साल तक वे कोई चुनाव नहीं लड़ पाएंगे.

दोषी माउरर करेंगे अपील

ओसनाब्रुक की अदालत के फैसले के पहले अब दोषी करार दिए गए लेफ्ट नेता माउरर ने डॉयचे वेले से कहा था कि उन्हें उम्मीद है कि सभी नेता निर्दोष साबित होंगे. कोर्ट के फैसले के बाद उनके वकील ऊपरी अदालत में अपील करने की तैयारी में हैं. फिलहाल इस लेफ्ट नेता ने पद से इस्तीफा देने से साफ इनकार कर दिया है और कहा है कि अदालत में जो सबूत उनके खिलाफ दिए गए थे वे पर्याप्त नहीं थे. अभियोजन पक्ष को आरोपों को साबित करने में सचमुच परेशानी हुई. जिन 65 चश्मदीदों के बयान लिए गए उनसे कई बार सवाल पूछे गए और उन्होंने गलत जवाब दिए. फैसले के बाद माउरर भले ही स्थानीय सियासत या क्रीमिया का दौरा न कर पाए, लेकिन उनका दावा है कि वह लोगों के लिए काम करते रहेंगे और वह जहां चाहे वहां जाने के लिए आजाद हैं.

रिपोर्ट: मिखाइल बुशुएव

DW.COM

संबंधित सामग्री