चीन में शुरू हुआ पार्टी में भारी फेरबदल | दुनिया | DW | 29.08.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

चीन में शुरू हुआ पार्टी में भारी फेरबदल

चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने अगले साल होने वाली पार्टी कांग्रेस से पहले पार्टी पदों पर फेरबदल की शुरुआत कर दी है. वे पार्टी कांग्रेस से पहले ही जिम्मेदार पदों पर अपने समर्थकों को बिठाना चाहते हैं.

पांच साल पर होने वाला चीन की कम्युनिस्ट पार्टी का अगला कांग्रेस अगले साल पतझड़ में होगा. चार साल पहले नवंबर हुए कांग्रेस में शी जिनपिंग को पार्टी महासचिव चुना गया था. अघोषित नियमों के अनुसार चीनी नेता दस साल अपने पद पर रहते हैं और उसके बाद सत्ता का हस्तांतरण होता है. अगली साल होने वाली कांग्रेस शी जिनपिंग के लिए अपनी सत्ता को पुख्ता करने और अपने निकट सहयोगियों को 25 सदस्यों वाली पोलितब्यूरो और 7 सदस्यों वाली पोलितब्यूरो स्थायी समिति में नियुक्त करने का मौका होगी. इन्हीं में से चीन का अगला नेतृत्व चुना जाएगा.

शी जिनपिंग कम्युनिस्ट पार्टी के अलावा पार्टी के सैन्य आयोग के भी प्रमुख हैं. पोलितब्यूरो स्थायी समिति में वे पहले नंबर पर हैं जो चीन में सत्ता का शिखर है. समाचार एजेंसी रॉयटर्स ने पार्टी के करीबी सूत्रों के हवाले से बताया है कि कांग्रेस के पहले एक साल में शी प्रमुख प्रांतों के पार्टी और सरकारी नेतृत्व में और नए लोगों की नियुक्ति करेंगे. रविवार को एक रिपोर्ट में समाचार एजेंसी शिन्हुआ ने पार्टी पदों पर दो नियुक्तियों की घोषणा की.

China Sommer Davos Forum 2016 in Tianjin - Premierminister Li Keqiang

ली केचियांग

म्यांमार की सीमा पर स्थित यूनान में चेन हाओ को ली जीहेंग की जगह पर पार्टी प्रमुख बनाया गया है जबकि आबादी बहुल दक्षिणी प्रांत हूनान में दू जियाहाओ ने पार्टी की जिम्मेदारी संभाली है. जब शी जिनपिंग 2007 में शंघाई में पार्टी प्रमुख थे तो चेन और दू उनके साथ काम कर चुके हैं. समय समय पर चीन विरोधी आंदोलनों के कारण राजनीतिक तौर पर संवेदनशील तिब्बत में भी पार्टी को एक नया नेता मिला है. शिन्हुआ के अनुसार अपना सारा राजनीतिक जीवन तिब्बत में बिताने वाले हान चीनी जाति के वू यिंगजी वहां पार्टी प्रमुख बनाए गए हैं. वे पहले प्रांत के उप गवर्नर रह चुके हैं. तिब्बतियों की शिकायत है कि बौद्ध बहुल तिब्बत में हान चीनियों को बसा कर सांस्कृतिक संतुलन बदला जा रहा है. चीन का कहना है कि कम्युनिस्ट शासन की वजह से वहां समृद्धि और स्थिरता आई है.

तिब्बत में अब तक पार्टी प्रमुख रहे चेन चुआंगगुओ को शिनजियांग प्रांत भेजा जा रहा है जो मुस्लिम कट्टरपंथियों के हिंसक विद्रोह के कारण चीन के अशांत प्रदेशों में शामिल है. वहां अल्पसंख्यक मुसलमानों की बड़ी आबादी रहती है. शिनजियांग के मौजूदा पार्टी प्रमुख झांग चूनशियान बीजिंग में पार्टी संगठन में अनुशासन बढ़ाने के मकसद से वरिष्ठ भूमिका निभाएंगे. एक अन्य स्रोत के अनुसार कोयला बहुल शानशी प्रांत के गवर्नर ली शियाओपेंग को परिवहन मंत्री बनाया जाएगा. वे पूर्व प्रधानमंत्री ली पेंग के बेटे हैं. ली पेंग को 1989 में लोकतंत्र समर्थक आंदोलन को दबाने के लिए सैनिक कार्रवाई में शामिल होने के लिए जाना जाता है. शी जिनपिंग के सहयोगी लू यांगशेंग को शानशी में गवर्नर बनाया जा रहा है. लू भी शी जिनपिंग के साथ काम कर चुके हैं जब वे 2003 से 2007 तक झेजियांग प्रांत में पार्टी प्रमुख थे. स्टेट काउंसिल के सूचना दफ्तर ने इन सूचनाओं पर टिप्पणी करने से इंकार कर दिया.

एमजे/वीके (रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री