चीन का दावा, पकड़े ′13 हजार आतंकवादी′ | दुनिया | DW | 18.03.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

चीन का दावा, पकड़े '13 हजार आतंकवादी'

चीन का कहना है कि उसने 2014 से अब तक लगभग 13 हजार "आतंकवादी" पकड़े हैं जबकि सैंकड़ों आतंकवादी गिरोहों को खत्म किया है. यह बात चीन ने ऐसे समय में कही है जब उइगुर मुसमलानों को कैंपों में रखने के लिए उसकी आलोचना हो रही है.

चीन पर उइगुर मुसलमानों को कैंपों में रखकर उनका व्यवस्थित तरीके से दमन करने के आरोप लग रहे हैं. लेकिन चीनी सरकार की तरफ से जारी एक विस्तृत रिपोर्ट कहती है कि वह अपने अशांत शिनचियांग प्रांत में चरमपंथ से निपटने के लिए कदम उठा रही है. हालांकि इस रिपोर्ट में यह नहीं बताया गया है कि शिनचियांग में किस तरह के अपराध हो रहे थे.

वहीं विदेशों में रहने वाले उइगुर कार्यकर्ताओं का कहना है कि शिनचियांग में लोगों को मुसलमान होने की सजा दी जा रही है. बताया जाता है कि चीन ने ऐसे कैंपों में दस लाख उइगुर और अन्य मुस्लिम समुदायों के लोगों को रखा हुआ है.

इस्लाम के रास्ते से मुसलमानों को हटाता चीन

चीन का कहना है कि ये कैंप वोकेशनल ट्रेनिंग सेंटर हैं जिनमें लोग अपनी इच्छा से भाग ले सकते हैं. लेकिन इन कैंपों में रह चुके लोगों का कहना है कि वहां लोगों को बेहद बुरी परिस्थितियों में रखा जाता है और उनसे इस्लाम धर्म को छोड़ने और चीन की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी के प्रति वफादारी व्यक्त करने को कहा जाता था.

सैटेलाइट से मिली तस्वीरें बताती हैं कि हाल के दो सालों में इन कैंपों का तेजी से विस्तार हुआ है. चीन ने शिनचियांग में अपनी सुरक्षा मौजूदगी भी बढ़ाई है. जब कभी उइगुर कार्यकर्ताओं के दावों की स्वतंत्र रूप से पुष्टि करने की कोशिश की गई तो चीन ने हमेशा इसमें बाधा डाली है.

चीन सरकार की नई रिपोर्ट में कहा गया है कि शिनचियांग में "कानून के आधार पर कट्टरपंथ दूर करने की कोशिशों" से धार्मिक चरमपंथ के फैलाव को नियंत्रित किया गया है. रिपोर्ट कहती है कि इस इलाके में 2014 से 1,588 गिरोहों को कुचला गया है और 12,995 आतंकवादी गिरफ्तार किए गए हैं.

इस दौरान 2,052 विस्फोटक उपकरण जब्त करने का दावा भी किया गया और लगभग पांच हजार "गैरकानूनी धार्मिक गतिविधियों" में हिस्सा लेने के लिए 30 हजार लोगों को सजा देने की बात भी कही गई है. रिपोर्ट कहती है कि इस दौरान "गैरकानूनी धार्मिक प्रचार सामग्री" की 345,229 प्रतियां बरामद की गईं.

चीनी अधिकारियों का कहना है कि शिनचियांग में सक्रिय चरमपंथियों के विदेशी आतंकवादी समूहों से संपर्क हैं. हालांकि इसके बारे में कोई सबूत नहीं दिए गए हैं.

चीन की सरकार दशकों से शिनचियांग में आजादी की मांग उठाने वालों को दबाती रही है. देश के अन्य इलाकों से हान चीनियों को ले जाकर शिनचियांग में बसाया गया है. चीन का कहना है कि शिनचियांग प्राचीन समय से चीन का हिस्सा रहा है. हालांकि वहां प्रचलित धर्म, भाषा और संस्कृति बाकी चीन से काफी अलग है.

एके/आईबी (एपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन