चिन्मयानंद मामला: पूछताछ के बाद स्वामी के आश्रम पर अतिरिक्त बल तैनात | भारत | DW | 13.09.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

भारत

चिन्मयानंद मामला: पूछताछ के बाद स्वामी के आश्रम पर अतिरिक्त बल तैनात

यौन उत्पीड़न के आरोपों से घिरे पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री और बीजेपी नेता स्वामी चिन्मयानंद के इर्द-गिर्द विशेष जांच दल एसआईटी की घेराबंदी बढ़ती जा रही है.

गुरुवार देर रात 2 बजे तक चिन्मयानंद और उनके कुछ विश्वासपात्रों से एसआईटी ने करीब 6-7 घंटे तक कड़ी पूछताछ की. पूछताछ शाहजहांपुर पुलिस लाइन परिसर में की गई. उत्तर प्रदेश पुलिस के उच्च पदस्थ सूत्रों के मुताबिक, "भले ही एसआईटी की निगरानी इलाहाबाद हाईकोर्ट की दो सदस्यीय विशेष पीठ कर रही हो लेकिन मामले की गंभीरता को देखते हुए सूबे की सरकार और राज्य पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह करीब से नजर रखे हुए हैं."

शाहजहांपुर में कई दिन से मौजूद एसआईटी टीम के सदस्य आरोपी-गवाह और शिकायतकर्ताओं के अलावा बाकी हर किसी से दूरी बनाए हुए हैं. वजह है कि एसआईटी पर इलाहाबाद हाईकोर्ट की विशेष पीठ की नजरें लगी हुई हैं. जांच में क्या कुछ निकल कर सामने आ रहा है? जांच की दिशा क्या है? इसकी पल-पल की जानकारी पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश सिंह को एसआईटी दे रही है, ताकि एसआईटी जब रिपोर्ट के साथ इलाहाबाद हाईकोर्ट की दो सदस्यी पीठ के सामने पेश हो, तो राज्य सरकार और राज्य पुलिस की किरकिरी न हो. सूत्रों के अनुसार उत्तर प्रदेश पुलिस और उसकी एसआईटी को एक डर यह भी सता रहा है कि अगर उसकी जांच में कहीं कोई कसर बाकी रह गई तो जांच कहीं सीबीआई के हवाले न कर दी जाए.

बहरहाल इन तमाम तथ्यों के बीच में ही एसआईटी के इशारे पर स्वामी चिन्मयानंद के आश्रम की सुरक्षा बढ़ा दी गई है. आश्रम के बाहर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात कर दिया गया है. पुलिस के उच्च पदस्थ सूत्र यह भी बताते हैं कि एसआईटी ने स्वामी चिन्मयानंद और उनके विश्वासपात्रों को कहीं बाहर न निकलने की हिदायत भी दे दी है.

इससे दो प्रबल संभावनाएं उभर कर सामने आ रही हैं. पहली कि चिन्मयानंद को एसआईटी कभी भी हिरासत में ले सकती है. दूसरी संभावना है कि इस पूरे प्रकरण में सामने आए या लाए गए चिन्मयानंद के मसाज वाले वीडियो को लेकर कहीं स्थानीय जनता के स्वामी जी शिकार न हो जाएं.

वहीं शुक्रवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने योगी सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश पुलिस इसलिए सुस्त है क्योंकि आरोपी का संबंध बीजेपी से है. प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा, "उप्र की बीजेपी सरकार ने अपनी हरकतों से साफ कर दिया है कि उसका महिला सुरक्षा से कोई वास्ता नहीं. आखिर क्यों शिकायतकर्ता लड़की को दोबारा प्रेस के सामने सुरक्षा की गुहार लगानी पड़ रही है. आखिर यूपी पुलिस सुस्त क्यों है? क्योंकि आरोपी का संबंध बीजेपी से है."

Indien Priyanka Gandhi (Getty Images/AFP)

प्रियंका गांधी

उन्होंने इससे पहले एक ट्वीट में लिखा था, "पत्रकार केवल आंख पर पट्टी बांध कर वाहवाही के लिए नहीं होते. उनका काम होता है जनता के मुद्दों पर खबरें बनाना और सरकार से जवाब लेना. लेकिन उप्र बीजेपी सरकार ऐसे पत्रकारों पर लगातार हमला बोल रही है. क्या बीजेपी को आम जनता के मुद्दों का डर सता रहा है?"

शाहजहांपुर की छात्रा ने संवाददाता सम्मेलन में आरोप लगाया था कि चिन्मयानंद ने उसके साथ दुष्कर्म किया और एक वर्ष तक प्रताड़ित किया. छात्रा ने दिल्ली में शिकायत दर्ज करवाई है. उसने आरोप लगाया कि शाहजहांपुर में पुलिस उसकी शिकायत पर प्राथमिकी दर्ज नहीं कर रही.

आईएएनएस/आईबी

_______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

महिलाओं के लिए खतरे के हिसाब से कौन से राज्य की क्या है रैंक

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन