चिदंबरम के समर्थन में आई बीजेपी | जर्मन चुनाव 2017 | DW | 10.04.2010
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

जर्मन चुनाव

चिदंबरम के समर्थन में आई बीजेपी

भारतीय जनता पार्टी गृह मंत्री पी चिदंबरम के समर्थन में सामने आई है. माओवादी हमले में सीआरपीएफ़ के 76 जवानों के मारे जाने की ज़िम्मेदारी लेते हुए चिदंबरम ने इस्तीफ़े की पेशकश की जिसे प्रधानमंत्री ने नामंज़ूर कर दिया.

इस्तीफ़ा नामंज़ूर

इस्तीफ़ा नामंज़ूर

बीजेपी के मुताबिक़ अगर चिदंबरम हटते हैं तो माओवादी इसे अपनी जीत के रूप में देखेंगे. बीजेपी प्रवक्ता राजीव प्रताप रूड़ी ने कहा, "चिदंबरम को सरकार और सभी राजनीतिक दलों से समर्थन मिलना चाहिए. हम स्पष्ट रूप से बताना चाहते हैं कि पार्टी चिदंबरम से इस्तीफ़ा नहीं मांग रही है."

BJP Bharatiy Janta Party Kandidat für den Wahlkreis Chapra Rajiv Pratap Rudy

बीजेपी नेता राजीव प्रताप रूड़ी

बीजेपी ने कहा कि चिदंबरम को अपनी ग़लतियां स्वीकारने वाले बयानों के बजाए सुरक्षा बलों का मनोबल बढ़ाने वाले बयान देने चाहिए. पार्टी के मुताबिक़ माओवादियों के ख़तरे से निपटने के लिए सरकार के प्रयासों को पार्टी पूरा समर्थन देगी.

शुक्रवार को 'शौर्य दिवस' समारोह में चिदंबरम ने कहा कि दंतेवाड़ा में जो कुछ हुआ उसकी ज़िम्मेदारी वह स्वीकार करते हैं. "मुझसे सीधे और परोक्ष रूप से पूछा गया है कि जो कुछ हुआ उसके लिए कौन ज़िम्मेदार है. मुझे यह कहने में कोई हिचकिचाहट नहीं है कि आख़िरी ज़िम्मेदारी मेरी है."

1,000 से ज़्यादा माओवादियों ने दंतेवाड़ा ज़िले के घने जंगलों में मंगलवार को सीआरपीएफ़ की एक टुकड़ी पर हमला किया जिसमें 76 जवानों की मौत हो गई.

रिपोर्टों के अनुसार बुधवार को गृह मंत्री ने प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को पत्र लिख कर इस्तीफ़ा देने की पेशकश की जिसे तभी ख़ारिज कर दिया गया. मुख्य विपक्षी भारतीय जनता पार्टी ने भी गृह मंत्री पी चिदंबरम का समर्थन करते हुए उनसे पीछे नहीं हटने की अपील की है.

दंतेवाड़ा में सीआरपीएफ़ पर हमला माओवादियों का अब तक का सबसे बड़ा हमला माना जा रहा है जिसने सुरक्षा बलों को अपनी रणनीति पर फिर विचार करने पर मजबूर कर दिया है. गृह मंत्री ने कहा है कि माओवादियों के ख़िलाफ़ सेना का इस्तेमाल करने की फ़िलहाल कोई योजना नहीं है. हालांकि उन्होंने माना है कि अगर ज़रूरत पड़ी तो वायु सेना के इस्तेमाल पर पुनर्विचार किया जा सकता है.

रिपोर्ट: एजेंसियां/एस गौड़

संपादन: ए कुमार

संबंधित सामग्री

विज्ञापन