चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार तीन वैज्ञानिकों को | विज्ञान | DW | 07.10.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

विज्ञान

चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार तीन वैज्ञानिकों को

इस साल चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार विलियम केलिन जूनियर, पीटर रैट क्लिफ और ग्रेग सेमेन्सा को संयुक्त रूप से दिया जाएगा. कोशिकाओं के ऑक्सीजन के इस्तेमाल पर की गई खोज के लिए इन्हें नोबेल पुरस्कार देने का फैसला किया गया है.

इस साल के नोबेल पुरस्कारों का एलान शुरू हो गया है. परंपरा के मुताबिक ही सबसे पहले चिकित्सा के क्षेत्र में अतुलनीय योगदान के लिए पुरस्कारों का एलान किया गया. इस बार यह पुरस्कार तीन लोगों को संयुक्त रूप से दिया जाएगा. इनमें दो अमेरिका के हैं और एक ब्रिटेन के.

पुरस्कार का एलान करते हुए स्वीडन की कैरोलिंस्का एकेडमी बताया कि  इन लोगों ने इस बात का पता लगाया है कि कोशिकाएं किस तरह से ऑक्सीजन के हिसाब से खुद को अनुकूलित कर लेती हैं.

ऑक्सीजन के स्तर का कैसे पता लगा लेती हैं इस बारे में इन वैज्ञानिको ने खोज किया है. इस खोज को इस्तेमाल रिसर्चर कई बीमारियों के इलाज में करना चाहते हैं. शरीर में ऑक्सीजन की सप्लाई को जरूरत के मुताबिक कम या ज्यादा करने से यह काम हो सकता है और इसके लिए वैज्ञानिक सीधे शरीर की कोशिकाओं का इस्तेमाल करना चाहते हैं. 

स्वीडन की केरोलिंस्का इंस्टीट्यूट के प्रोफेसर रानडाल जॉनसन ने बताया, "चूंकि ऑक्सीजन जीवन के लिए जरूरी है और इसका इस्तेमाल सभी जीव कोशिकाएं करती है इसलिए शरीर कैसे काम करेगा इसमें इसकी भूमिका अहम है." उन्होंने कहा, "यह पुरस्कार वास्तव में हमें इस सच्चाई के बारे में बताता है कि कोशिकाएं कैसे काम करती हैं." जॉनसन ने कहा, "उदाहरण के लिए जब आप व्यायाम करते हैं तो ज्यादा और जल्दी जल्दी ऑक्सीजन का इस्तेमाल करते है और यहीं पर वो स्विच काम आता है जो कोशिकाओं को बताता है कि कितनी ऑक्सीजन मिल रही है और उसके हिसाब से कैसे बर्ताव करना है." इसी तरह, "अगर आपको स्ट्रोक हो जाए तो अचानक आपके दिमाग में ऑक्सीजन नहीं जाएगा...ऐसे में इन कोशिकाओं को अगर उन्हें जिंदा रहना है तो उस समय मौजद ऑक्सीजन के स्तर पर खुद को अनुकूलित करना होता है. 

अवार्ड देने वाली संस्था ने नामों का एलान करने के साथ ही कहा है, "इस साल के नोबेल विजेताओं ने जीवन के सबसे अधिक जरूरी अनुकूलन प्रक्रियाओं में एक की अत्यंत प्रभावशाली खोज की है." पुरस्कार में लगभग 828,000 यूरो (लगभग 908,000 डॉलर)की रकम इन तीनों को दी जाएगी. चिकित्सा की श्रेणी में यह 110वां नोबेल पुरस्कार होगा.

विख्यात कारोबारी और डायनामाइट की खोज करने वाले अल्फ्रेड नोबेल के नाम पर हर साल नोबेल पुरस्कार दिया जाता है. यह दुनिया का सबसे बड़ा पुरस्कार माना जाता है जो उनकी वसीयत के मुताबिक उनकी संपत्ति से बने कोष से दिया जाता है.  विज्ञान, शांति, और साहित्य के क्षेत्रों में अतुलनीय योगदान के लिए ये पुरस्कार दिए जाते हैं. बाद में इसमें अर्थशास्त्र को भी शामिल किया गया हालांकि यह पुरस्कार बैंक ऑफ स्वीडन की तरफ से दिया जाता है.

पिछले साल कुछ विवादों की वजह से साहित्य का नोबेल पुरस्कार नहीं दिया गया था. इस बार दोनों साल के लिए साहित्य में नोबेल विजेताओं का एलान किया जाएगा.

एनआर/एमजे(डीपीए, एपी)

__________________________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

विज्ञापन