चाय जैसे गर्म पेय बढ़ा सकते हैं कैंसर का जोखिम | दुनिया | DW | 26.03.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

चाय जैसे गर्म पेय बढ़ा सकते हैं कैंसर का जोखिम

खौलती चाय के शौकीनों को एसोफैगल कैंसर का जोखिम अधिक होता है. ईरान में 13 साल लंबी स्टडी कुछ ऐसी बातों को उजागर करती है. वहीं कुछ जानकार मानते हैं कि बेहतर है कि लोग बहुत गर्म पेय लेने से बचें.

मेडिकल साइंस अब तक कैंसर के तमाम कारणों का पता लगा चुकी है. इन कारणों में शराब पीना, सिगरेट, मोटापा जैसी कारणों को अहम माना जाता है. इस बीच ईरान की तेहरान यूनिवर्सिटी ऑफ मेडिकल साइंसेज के रिसर्चरों ने कैंसर के एक अन्य कारण की पुष्टि की है. इस स्टडी में कहा गया है कि ऐसे लोग जो 60 डिग्री से अधिक तापमान पर मिलने वाली चाय, कॉफी जैसे किसी पेय का सेवन करते हैं, उनमें एसोफैगल कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है.

एसोफैगल कैंसर यानि आहारनली में होने वाला कैंसर. आहारनली गले से पेट तक खाना ले जाने वाली एक लंबी खोखली ट्यूब होती है. यह निगले गए भोजन को पचाने के लिए पेट तक ले जाने का काम करती है. ईरानी शोधकर्ताओं ने साल 2004 से 2017 के बीच चले 13 साल लंबे अध्ययन में 50 हजार पुरुष और महिलाओं की जांच की. ये सभी लोग ईरानी प्रांत गुलिस्तान से आते थे. रिसर्च के दौरान 317 मामले एसोफैगल स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा (ईएससीसी) थे, यह एसौफगल का आमतौर पर होने वाला एक प्रकार है. वैज्ञानिकों ने पाया जो लोग 700 मिलीलीटर या इससे अधिक मात्रा में 60 डिग्री सेल्सियस के तापमान वाली चाय पीते हैं उन लोगों में ईएससीसी का जोखिम 90 फीसदी तक होता है.

तेहरान यूनिवर्सिटी की स्टडी पुराने संदेहों की भी पुष्टि करती है. साल 2016 में इंटरनेशनल एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर (आईएआरसी) ने बहुत गर्म पेय को कैंसर के कारण होने का अंदेशा जताया था. एजेंसी ने खास तौर पर कहा था कि 65 डिग्री सेल्सियस तापमान का गर्म पेय खासकर चाय जिसे दक्षिण अमेरिका, एशिया और अफ्रीका में पारंपरिक रूप से पिया जाता है कैंसर के खतरे को बढ़ाता है.

लेकिन अब इस नई स्टडी के बाद क्या ये माना जा सकता है कि शराब या सिगरेट के मुकाबले चाय अधिक खतरनाक है? जर्मनी के विशेषज्ञ गर्म पेयों को किसी खतरे के रूप में नहीं देखते हैं. जर्मन प्रांत बाडेन वुर्टेमबर्ग के इंटरनल मेडिसिन क्लीनिक के मेडिकल डायरेक्टर थोमास स्योफरलाइन पिछले 20 सालों से एसोफैगल कैंसर का इलाज कर रहे हैं. वह कहते हैं कि उन्होंने अब तक किसी ऐसे मरीज को नहीं देखा जिसे गर्म पेय पीने के चलते कैंसर हुआ हो.

थोमस कहते हैं कि अगर ऐसा कुछ पता भी चला है तो चिंता करने की बजाय अब गर्म पेयों को ठंडा करके पीना बेहतर होगा. वह कहते हैं कि यह एक अच्छी सलाह है. क्योंकि ठंडी चाय, गर्म चाय जितना नुकसान नहीं करती है. गर्म चाय आहारनली की झिल्ली को झुलसा देते हैं. थोमस कहते हैं कि कैसे गर्म पेय आहारनली को नुकसान पहुंचाती है इस स्टडी में गहराई में जाना अभी बाकी है, लेकिन बेहतर है कि लोग गर्म पेय को थोड़ा ठंडा करके ही लें.

कार्ला ब्लाइकर

DW.COM

विज्ञापन