गोलीबारी में 27 की मौत, उलझन में पुलिस | दुनिया | DW | 15.12.2012
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

गोलीबारी में 27 की मौत, उलझन में पुलिस

अमेरिकी प्रांत कनेक्टिकट के न्यूटाउन के निवासी देश के इतिहास में सबसे भयानक नरसंहार के नतीजों से जूझ रहे हैं तो पुलिस यह जानने में लगी है कि 20 साल के नौजवान ने एलिमेंट्री स्कूल के 20 बच्चों को क्यों मारा.

पुलिस सूत्रों ने हमलावर की शिनाख्त एडम लैंजा के रूप में की है जिसने शुक्रवार सुबह सैंडी हूक एलिमेंटरी स्कूल में बच्चों पर गोलियां चलाईं जहां पांच से दस साल के बच्चों को पढ़ाया जाता है. 26 लोगों को मारने के बाद उसने खुद को भी गोली मार ली. बाद में पुलिस ने बताया कि एक और वयस्क की लाश मिली है, जिसका इस अपराध से ताल्लुक है. मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि वह हमलावर की मां नैंसी लैंजा हो सकती है.

प्रांतीय पुलिस ने कहा है कि वह शनिवार तक लाशों की शिनाख्त और गोलीबारी के कारणों का पता लगने की उम्मीद कर रही है. शुक्रवार शाम ही पुलिस ने अभिभावकों को शिनाख्त के लिए बुलाया और लाशों को स्कूल से हटाने का काम शुरू किया.

शनिवार को अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने देश के नागरिकों से एकजुटता दिखाने की अपील करते हुए कहा कि देश भर में मां-बाप का दिल गमगीन है. उन्होंने इस तरह की त्रासदियों को रोकने के लिए अर्थपूर्ण कार्रवाईयों की बात कही, लेकिन खुलकर हथियार नियंत्रण कानून को सख्त बनाने की मांग नहीं की. शुक्रवार को एक टेलिविजन संदेश के दौरान उनकी आंखे नम हो गई थीं और उन्हें अपने आंसू पोंछते देखा जा सकता था.

न्यूटाउन में हुई घटना अमेरिका में इस हफ्ते गोलीबारी की दूसरी घटना थी. इस साल इस तरह के घातक हमलों की कई घटनाएं हुईं हैं. ताजा हमले ने हथियारों पर रोक लगाने की बहस फिर से तेज कर दी है. अमेरिका में हथियारों का कारोबार तेजी से फलफूल रहा है और हथियार कंपनियों की लॉबी राजनीतिज्ञों को प्रभावित कर हथियार खरीदने की आसानी खत्म करने को टलवाती रही है.

न्यूटाउन न्यूयॉर्क सिटी से 130 किलोमीटर की दूरी पर बसा समृद्ध शहर है. शनिवार को शहर शोक में डूबा है. लीमा कैथोलिक चर्च जाने के रास्ते में 76 वर्षीया अमेलिया एडम्स ने बताया, "हम बस प्रार्थना कर रहे हैं, भगवान से यही प्रार्थना कि ऐसा फिर कभी न हो, कहीं भी नहीं." स्कूल से कई किलोमीटर दूर स्थित चर्च शुक्रवार रात पूरी तरह भरा रहा. वहां 1000 से ज्यादा लोग जमा थे. मोनसिन्योर रोबर्ट वाइस ने कहा, "मेरे पास इसके लिए कोई और शब्द नहीं है. इस तकलीफ को देखना भी बर्बर है."

कनेक्टिकट के गवर्नर डैनल मैलॉय ने कहा कि उन्होंने कभी सोचा था कि कभी कुछ ऐसा होगा जो 9-11 से आतंकी हमलों से जैसा तकलीफदेह होगा. "आज शैतान ने हमारे समुदाय का दौरा किया."सैंडी हूक जब गोलियां चलीं तो बच्चे अपनी क्लास में सुबह के आयोजनों के लिए इकट्ठा थे. पुलिस प्रवक्ता ने कहा कि गोलीबारी दो कमरों में हुई. प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार दर्जनों गोलियां चलीं. कुछ ने तो सौ राउंड गोली चलने की बात कही.

हमलावर के साथ स्कूल में पढ़ने वाले लोगों ने बाद में कहा कि वह दूसरों से ज्यादा औपचारिक ढंग के कपड़े पहनता था. सैंडी हूक में ही लैंजा से मिलने वाले 20 वर्षीय टिम ऐरनॉन ने कहा, "उसकी मां उस पर और स्मार्ट दिखने और स्कूल में और ज्यादा मेहनत करने के लिए दबाव डालती थी."

हथियारों पर रोक की मांग

स्कूलों में गोलीबारी की अब तक की सबसे गंभीर घटनाओं में से एक कोलेराडो के कोलंबीन हाइ स्कूल में 1999 में हुई थी. वहां दो किशोरों ने 13 छात्रों और शिक्षकों को मारने के बाद खुद को मार लिया था. न्यू यॉर्क टाइम्स के अनुसार एडम लैंजा ने सिग सावर और ग्लॉक हैंडगनों का इस्तेमाल किया. पुलिस को घटनास्थल पर बुशमास्टर कारबाईन राइफल भी मिला.

न्यू यॉर्क सिटी के मेयर माइकल ब्लूमबर्ग ने कहा कि यह विश्वास करना मुश्किल है कि किंडरगार्टन क्लास में इस तरह की गोलीबारी हो सकती है. ब्लूमबर्ग अवैध हथियारों के खिलाफ मेयरों की पहल के संस्थापक हैं. उन्होंने कहा, "हमें फौरी कार्रवाई की जरूरत है. हमने पहले बहुत भाषणबाजी सुनी है, हमने नेतृत्व नहीं देखा है, न तो व्हाइट हाउस से और न हीं कांग्रेस से. आज इसका अंत होना चाहिए."

एमजे/एनआर (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री