गूगल पर 4.34 अरब यूरो का जुर्माना | दुनिया | DW | 18.07.2018
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

गूगल पर 4.34 अरब यूरो का जुर्माना

यूरोपीय संघ के रेग्युलेटरों ने गूगल पर 4.34 अरब डॉलर का जुर्माना ठोंका. यूरोपीय आयोग ने गूगल को निष्पक्ष प्रतिस्पर्धा के उल्लंघन का दोषी करार दिया.

यूरोपीय आयोग का दावा है कि अमेरिकी कंपनी गूगल ने एनड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम के जरिए खुद को सर्च इंजन के रूप में और ताकतवर बनाया. गूगल पर जुर्माना ठोंकते हुए यूरोपीय संघ की प्रतिस्पर्धा कमिश्नर यूरोपीय संघ के मारग्रेथ वेस्टागेर ने कहा, "गूगल ने एनड्रॉएड का इस्तेमाल कर सर्च इंजन क्षेत्र में अपने प्रभाव को और मजबूत किया. इन कदमों के जरिए प्रतिस्पर्धियों को नई खोज करने या योग्यता के आधार पर प्रतिस्पर्धा करने का मौका नहीं दिया. उन्होंने यूरोपीय ग्राहकों को अहम मोबाइल फोन बाजार की असरदार प्रतिस्पर्धा का लाभ नहीं पहुंचाया."

जुर्माने की रकम गूगल की पेरेंट कंपनी अल्फाबेट की दो हफ्ते के राजस्व के बराबर है. दिग्गज टेक कंपनी गूगल ने यूरोपीय रेग्युलेटरों के फैसले के खिलाफ अपील करने का एलान किया है.


यूरोपीय आयोग के इस फैसले से अमेरिका और यूरोप के बीच कारोबारी संबंध और ज्यादा खट्टे हो सकते हैं. यूरोपीय आयोग के प्रमुख ज्यां क्लोद युंकर को जुलाई आखिर में अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप से मिलना है. युंकर अमेरिका जाकर यूरोपीय संघ की कारों के भविष्य को सुरक्षित बनाने की कोशिश करेंगे. व्यापार घाटे का हवाला दे रहे ट्रंप ने यूरोपीय संघ से अमेरिका निर्यात की जाने वाली कारों पर ज्यादा शुल्क लगाने की धमकी दी है.

google homepage Bildschirm Lupe (picture-alliance/Bildagentur-online/Schoening)

सिर्फ अकेला सर्च इंजन नहीं है गूगल

मारग्रेथ वेस्टागेर इससे पहले भी गूगल पर 2.4 अरब यूरो का जुर्माना लगा चुकी हैं. वह जुर्माना ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफॉर्मों के कीमतों की तुलना करने वाली सर्विस के चलते लगा था. गूगल ने इसके खिलाफ अपील की है.

यूरोपीय आयोग ने अप्रैल 2015 में एनड्रॉयड की जांच शुरू की. माइक्रोसॉफ्ट, नोकिया और ऑरेकल जैसी दिग्गज कंपनी के ट्रेड ग्रुप फेयरसर्च ने आयोग से गूगल की शिकायत की थी. शिकायत के मुताबिक गूगल एनड्रॉयड के जरिए अपने सर्च इंजन को बढ़ावा दे रहा है. उस वक्त यूरोप के 64 फीसदी स्मार्टफोन एनड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम से चल रहे थे. अब यह संख्या 74 फीसदी है.

जांच के दौरान आयोग को पता चला कि वाकई गूगल ने एनड्रॉयड के दबदबे का इस्तेमाल अपने फायदे के लिए किया. प्रतिस्पर्धी कंपनियों को एनड्रॉयड से नुकसान हुआ. आयोग ने कहा, गूगल ने एनड्रॉयड बेस्ड स्मार्टफोन और टेबलेट बनाने वाले निर्माताओं से गूगल सर्च इंजन को डिफॉल्ट पर रखने को कहा. एनड्रॉयड डिवाइसों में पहले से इंस्टॉल क्रोम ब्राउजर भी मिला. गूगल ने फोन और टेबलेट निर्माताओं पर ऐसा दबाव डालने से इनकार किया है.

स्मार्टफोन और टेबलेट उद्योग पर नजर रखने वाली कंपनी गार्टनर के मुताबिक दुनिया भर में इस वक्त 85.9 फीसदी डिवाइस एनड्रॉयड बेस्ट हैं. एप्पल के आईओएस ऑपरेटिंग सिस्टम की हिस्सेदारी करीब 14 फीसदी है. 2017 में दुनिया भर में 1.3 अरब एनड्रॉयड स्मार्टफोन बिके.

(जब भी इंटरनेट पर कुछ सर्च करना हो तो ज्यादातर लोग गूगल की शरण में जाते हैं. लेकिन इसके अलावा और भी बहुत सारे सर्च इंजन हैं, चलिए जानते हैं.)

ओएसजे/एनआर (एएफपी)

DW.COM

विज्ञापन