गिरफ्तारी से भागते तेजपाल | दुनिया | DW | 28.11.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

दुनिया

गिरफ्तारी से भागते तेजपाल

यौन दुर्व्यवहार के आरोपी तहलका के संपादक तरुण तेजपाल गिरफ्तारी से बचने के लिए तमाम बहाने बना रहे हैं. रिपोर्टों के मुताबिक तेजपाल ने गोवा पुलिस से कुछ और समय मांगा है. मामले को दबाने की आरोपी सोमा चौधरी ने इस्तीफा दिया.

तरुण तेजपाल को यौन दुर्व्यवहार मामले में गुरुवार दोपहर तीन बजे तक गोवा पुलिस के सामने पेश होना है. लेकिन ऐसी रिपोर्टें हैं कि तेजपाल पेशी को टाल रहे हैं. मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक यौन दुर्व्यवहार के आरोपी तेजपाल ने एक खत लिख कर कुछ और समय मांगा हैं.

पुलिस की बढ़ती सख्ती और नैतिक दबाव के बीच गुरुवार को तहलका की प्रबंध संपादक सोमा चौधरी ने भी इस्तीफा दे दिया है. चौधरी पर मामले को दबाने की कोशिश के आरोप लग रहे थे. चौधरी ने तेजपाल के खिलाफ आरोप सामने आने के बाद मामले की आंतरिक जांच शुरू करा दी. उन्होंने पुलिस को मामले की जानकारी देनी मुनासिब नहीं समझा. अनुमान है कि गोवा पुलिस सोमा चौधरी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर सकती है.

Indien Proteste fünfjähriges Mädchen Vergewaltigung 21.04.2013

भारत में महिलाओं की स्थिति को लेकर प्रदर्शन

चौधरी ने अपने त्यागपत्र में कहा, "पिछले हफ्ते, मुझ पर मामले को दबाने के आरोप लगे और कहा गया कि मैं महिला हितों के लिए खड़ी नहीं हुई. मैं स्वीकार करती हूं कि मैं कुछ कदम दूसरे ढंग से उठा सकती थी, मैं मामले को दबाने के आरोपों का खंडन करती हूं. मेरी ईमानदारी पर बार बार हमारे ही पेशे के लोगों ने सवाल उठाए, जनता ने भी ऐसा किया."

वहीं वक्त बीतने के साथ तेजपाल के सामने राहत के रास्ते बंद होते जा रहे हैं. बुधवार को दिल्ली हाई कोर्ट ने तेजपाल को अग्रिम जमानत देने से इनकार कर दिया. तेजपाल जानते हैं कि अगर वो गोवा पुलिस के पास गए तो कानूनी रूप से उन्हें तुरंत गिरफ्तार किया जा सकता है. दिल्ली में पिछले साल 16 दिसंबर को हुई सामूहिक बलात्कार की घटना के बाद यौन अपराधों के लिए कड़े कानून बनाए गए हैं. उन कानूनों के तहत तेजपाल पर लग रहे आरोप बलात्कार करने की कोशिश की श्रेणी में आते हैं. तेजपाल पर इसी महीने की शुरुआत में तहलका के थिंकफेस्ट कार्यक्रम के दौरान अपनी महिला सहकर्मी से यौन दुर्व्यवहार करने के आरोप हैं. महिला सहकर्मी के मुताबिक तेजपाल ने फाइव स्टार होटल की लिफ्ट में उनसे जोर जबरदस्ती की. पुलिस के मुताबिक कुछ लोगों से पूछताछ और सीसीटीवी की फुटेज से भी यह बात तय हो रही है कि तेजपाल पीड़ित महिला के साथ लिफ्ट में घुसे. आरोप लगने के बाद तेजपाल ने इसे फैसला लेने में हुई बड़ी गलती कहा और तहलका संपादक के पद से छह महीने तक हट जाने का एलान किया.

इस बीच सोशल मीडिया पर यह बहस भी छिड़ी है क्या तेजपाल अपने ऊंचे संपर्कों का इस्तेमाल कर कानून से भाग रहे हैं.

ओएसजे/एनआर (पीटीआई)

DW.COM

WWW-Links