गर्भवती महिलाएं आलू कम खाएं | विज्ञान | DW | 15.01.2016
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

विज्ञान

गर्भवती महिलाएं आलू कम खाएं

आलू से बनी चीजें ज्यादा खाने से गर्भवती महिलाओं को एक खास तरह का डायबिटीज हो सकता है. इससे मां और बच्चे दोनों को कई तरह के खतरे हो सकते हैं. खास कर तला हुआ आलू या चिप्स.

मेरीलैंड में की गई एक स्टडी के मुताबिक जेस्टेशनल डायबिटीज के नाम से जानी जाने वाली खास बीमारी मां को गर्भावस्था के दौरान होती है. इसके स्वास्थ्य पर दूरगामी प्रभाव हो सकते हैं. मां और बच्चे दोनों को हृदय रोग और अन्य प्रकार के डायबिटीज का भी खतरा रहता है. आलू दुनिया भर में शौक से खाया जाता है. सभी देशों में आलू खानपान का अहम हिस्सा है. इसमें कार्बोहाइड्रेट के अलावा विटामिन सी और पोटैशियम जैसे पोषक तत्व भी होते हैं. लेकिन हरी सब्जियों के मुकाबले इसमें स्टार्च की भरपूर मात्रा होती है. इसका सीधा संबंध रक्त में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ने से है.

आमतौर पर डायबिटीज तब होता है जब शरीर आवश्यकता के अनुरूप पर्याप्त इंसुलिन नहीं बना पाता. इंसुलिन की मदद से शरीर की कोशिकाएं रक्त से ग्लूकोज सोखती हैं. इंसुलिन की अपर्याप्तता होने पर ब्लड शुगर का स्तर बढ़ जाता है. अभी तक जेस्टेशनल डायबिटीज और आलू खाने के बीच संबंध की जांच नहीं हुई थी. मेरीलैंड के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ में क्विलिन झांग के नेतृत्व में रिसर्चरों ने डाटा का अध्ययन किया. इस डाटा में 1989 से एक लाख पंद्रह हजार महिलाओं की स्वास्थ्य जानकारी दर्ज थी.

ब्रिटिश मेडिकल जर्नल में छपी रिपोर्ट के मुताबिक झांग और उनकी टीम ने 15,632 ऐसी महिलाओं के आंकड़ों का अध्ययन किया जो 1991 से 2001 के बीच गर्भवती हुईं और उन्हें पहले कभी जेस्टेशनल डायबिटीज नहीं हुआ था. इन महिलाओं को गर्भधारण से पहले वाले साल आलू खाने की मात्रा का पूरा ब्यौरा रखने की हिदायत दी गई. इस डाटा को मेडिकल रिकॉर्ड से मिलाकर देखा गया कि उन्हें तब जेस्टेशनल डायबिटीज हुआ था या नहीं. उम्र और परिवार में डायबिटीज का इतिहास जैसे अन्य कारकों को ध्यान में रखते हुए शोध में डायबिटीज का उनसे संबंध पाया गया जिन्होंने खास कर तला हुआ या भुना हुआ आलू ज्यादा खाया.

रिसर्च में कहा गया है, "आलू का ज्यादा सेवन जेस्टेशनल डायबिटीज के ज्यादा खतरे से खास तौर पर जुड़ा है." डॉक्टरों के मुताबिक गर्भवती महिलाओं को अपनी खुराक बदलनी चाहिए. उन्हें आलू के बजाय लोबिया, मटर, दालें और हरी सब्जियां ज्यादा खानी चाहिए. रिपोर्ट में सलाह दी गई है कि हफ्ते में दो बार आलू का सेवन अगर अन्य सब्जियों या पूर्ण अनाज से बदल दिया जाए तो जेस्टेशनल डायबिटीज के खतरे को 10 फीसदी तक कम किया जा सकता है. हालांकि सांख्यिकीय प्रमाण होने के बावजूद रिसर्चर कहते हैं कि डायबिटीज के और आलू खाने के बीच कारण और परिणाम जैसा सीधा संबंध स्थापित नहीं किया जा सकता.

एसएफ/एमजे (एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन