खुद को बूढ़ी मानने लगी हैं सेरेना | खेल | DW | 02.01.2013
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages

खेल

खुद को बूढ़ी मानने लगी हैं सेरेना

टेनिस स्टार सेरेना विलियम्स दोबारा दुनिया में नंबर एक बनने की तैयारी में हैं लेकिन यह अब इतना आसान नहीं. साल के पहले ग्रैंड स्लैम मुकाबले से ठीक पहले खिलाड़ियों ने कमर कसनी शुरू कर दी है.

ब्रिस्बेन इंटरनेशनल टूर्नामेंट में खेल रहे खिलाड़ी इसे ऑस्ट्रेलियन ओपन की तैयारी के मौके की तरह देख रहे हैं. 35 डिग्री की गर्मी में अच्छा खेल दिखाना मुश्किल जरूर है लेकिन इससे उन्हें दो हफ्ते बाद मेलबर्न में खेले जाने वाले ऑस्ट्रेलियन ओपन की तैयारी का अच्छा मौका मिल रहा है.

नंबर एक की दावेदारी

रैंकिंग में तीसरे नंबर पर मौजूद सेरेना विलियम्स ने ब्रिस्बेन में दूसरे दौर के मुकाबले में फ्रांसीसी प्रतिद्वंद्वी एलीज कॉर्नेट को 6-2 6-2 से हराया. पूर्व विश्व नम्बर एक सेरेना ने पिछले साल यूएस ओपन और विम्बलडन के अलावा ओलम्पिक में स्वर्ण पदक और डब्ल्यूटीए चैम्पियनशिप भी अपने नाम की. अब उनकी नजर ऑस्ट्रेलियन ओपन पर. सेरेना दोबारा पहले स्थान पर पहुंचने की ताक में हैं. हालांकि अगर ऐसा होता है तो वह नम्बर एक पर पहुंचने वाली सबसे अधिक उम्र की खिलाड़ी होंगी. अमेरिका की ही क्रिस एवर्ट 1985 में जब विश्व नम्बर एक रैंकिंग पर आई थीं तो उनकी उम्र 30 साल 11 महीने की थी. सेरेना इस समय 31 साल की हैं. उन्होंने कहा, "मुझे लगता है मेरा खेल अब उतना मजेदार नहीं रहा. मैं खुद को बूढ़ी महसूस करने लगी हूं. मेरा खेल पहले की तुलना में बोरिंग हो गया है."

कॉर्नेट को एक घंटे के अंदर हराने के बाद सेरेना ब्रिस्बेन टूर्नामेंट के क्वार्टर फाइनल में पहुंच गई हैं. अगले दौर में उनकी टक्कर या तो अमेरिका की स्लोएन स्टीफेंस से या फिर स्वीडन की सोफिया आरविसन से होगी.

चोटिल शारापोवा बाहर

विश्व में नम्बर दो की रैंकिंग पर मौजूद मारिया शारापोवा ने 2012 के अंत में लगी चोट की वजह से ब्रिस्बेन टूर्नामेंट से खुद के बाहर कर लिया. शारापोवा को हाल ही में कैरोलीन वॉजनियाकी के खिलाफ मैच में कॉलरबोन में चोट आई थी. ऑस्ट्रेलियन ओपन ग्रैंड स्लैम का मुकाबला दो हफ्तों में शुरू होने वाला है और उसमें खेलने के लिए शारापोवा को अपने कंधे को आराम देना होगा. मारिया ने बताया कि चोट की वजह से वह सिर्फ ग्राउंड स्ट्रोक का अभ्यास कर रही हैं. इसी वजह से उन्होंने ब्रिस्बेन में ऑस्ट्रेलिया की जर्मिला गाज्दोसोवा के खिलाफ होने वाला मैच नहीं खेला.

ऑस्ट्रेलियन ओपन की तैयारी के बारे में बात करते हुए शारापोवा ने कहा, "मैं सही रास्ते पर हूं और अभी मेरे पास तैयारी के लिए पर्याप्त समय है. पिछले सीजन मैंने जो कुछ हासिल किया है उसे मैं जोखिम में नहीं डाल सकती. इसलिए बेहतर है कि मैं खुद को अगले मुकाबले के लिए तैयार करूं."

महिलाओं के एकल मुकाबलों के दूसरे राउंड में ही विश्व नम्बर छह सारा एरानी को स्लोवाकिया की डानिएला हांटुचोवा और 2011 की चैम्पियन पेट्रा क्विटोविया को रूस की अनास्तेसिया पाव्लुशेंकोवा ने हराया. टूर्नामेंट के शुरुआती दौर में ही पांच टॉप सीड खिलाड़ी बाहर हो चुके हैं जिनमें समांथा स्टोसर और कैरोलीन वॉजनियाकी भी शामिल हैं.

रिपोर्टः समरा फातिमा (रॉयटर्स, एएफपी)

संपादनः एन रंजन

DW.COM

विज्ञापन