क्यों है इंडोनेशिया में प्लेन में ली गई तस्वीर पर हंगामा | दुनिया | DW | 18.07.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

क्यों है इंडोनेशिया में प्लेन में ली गई तस्वीर पर हंगामा

सोचिए, आप प्लेन में तस्वीर लें और उसके लिए विमान कंपनी आप पर मुकदमा कर दे. एक इंडोनेशियाई यूट्यूबर का कहना है कि देश की विमान कंपनी गरुड़ा ने उसके साथ ऐसा ही किया. सोशल मीडिया से शुरु हुए मामले ने काफी तूल पकड़ लिया है.

इंडोनेशियन यूट्यूबर रिउस फर्नांडेस ने मंगलवार को दावा किया कि सिडनी से जकार्ता जाते समय बिजनेस क्लास में हाथ से लिखे मेन्यू कार्ड की तस्वीर सोशल मीडिया पर पोस्ट करने के कारण राष्ट्रीय एयरलाइंस ने उस पर मुकदमा कर दिया है. रिउस फर्नांडेस लोकप्रिय व्लॉगर हैं और उन्होंने अपना वीडियो इंस्टाग्राम पर पोस्ट किया था. इसमें एक नोटबुक के पैड पर हाथ से लिखा मेन्यू देखा जा सकता था. उन्होंने इस पोस्ट का कैप्शन लिखा, "मेन्यू अभी प्रिंट हो रहा है, सर." पोस्ट वायरल हो गया और रिउस को पुलिस ने तलब कर लिया. रिउस ने इंस्टाग्राम पर लिखा, "हमारे खिलाफ अवमानना की रिपोर्ट की गई है. मुझे विश्वास है कि आप जानते हैं कि मेरा किसी की अवमानना का इरादा नहीं था." पुलिस ने इस बात की पुष्टि की है कि गरुड़ा ने अवमानना का मुकदमा किया है. इंडोनेशिया की एयरलाइंस ने अपनी गलती स्वीकार करने के बदले इंस्टाग्राम पर 100,000 फॉलोवर वाले रिउस फर्नांडेस पर मुकदमा करने के अलावा और कदम भी उठाए.

एक बयान में गरुड़ा ने कहा कि इंस्टाग्राम पर पोस्ट किया गया मेन्यू यात्रियों के लिए नहीं था, बल्कि उसे फ्लाइट अटेंडेंट के लिए नोटिस के तौर पर तैयार किया गया था. मंगलवार को एयरलाइंस ने केबिन क्रू को निर्देश दिया कि यात्रियों को उड़ान के दौरान तस्वीर या वीडियो न लेने दें. गरुड़ा का ये निर्देश सोशल मीडिया पर लीक हो गया. मामले ने पूरे देश में हंगामा मचा दिया. इंडोनेशिया इंस्टाग्राम के दुनिया भर में सबसे बड़े बाजारों में शामिल है और यात्रा के दौरान सेल्फी लेकर पोस्ट करना वहां बहुत ही लोकप्रिय है.

गरुड़ा को अब कहना पड़ा है कि यह निर्देश अंदरूनी दस्तावेज था जिसे बदल कर एयरलाइंस यात्रियों से अपील कर रहा है कि वे तस्वीर लेते समय दूसरे यात्रियों और विमानकर्मियों के प्राइवेसी अधिकारों का ख्याल रखें. गरुड़ा के प्रवक्ता इखसान रोसान ने कहा है कि विमान कंपनी इस बात को सुनिश्चित करेगी कि उसकी उड़ानों पर नियमों का पालन हो. रोसान ने कहा है कि इस निर्देश का इंस्टाग्राम व्लॉगर के पोस्ट से कोई लेना देना नहीं है. उन्होंने कहा कि पैसेंजर निजी इस्तेमाल के लिए तस्वीरें ले सकते हैं जब तक कि वे दूसरे यात्रियों को असुविधा न पहुंचाएं.

रोसान ने ये भी कहा कि मुकदमा कंपनी ने नहीं बल्कि ट्रेड यूनियन के सदस्यों ने किया है. गरुड़ा लेबर यूनियन के प्रमुख टोमी टम्पाटी ने एक वेबसाइट को बताया कि कई कर्मचारियों ने देश की राष्ट्रीय विमान सेवा के बारे में नकारात्मक छवि बनाने के लिए ब्लॉगरों के खिलाफ पुलिस रिपोर्ट दर्ज कराई है. जकार्ता के सुकार्णों एयरपोर्ट के प्रमुख विक्टर टोगी टम्बुनान का कहना है कि फर्नांडेस और उनकी साथी के खिलाफ इंडोनेशिया के इंटरनेट अवमानना कानून को तोड़ने के आरोप में पुलिस को रिपोर्ट की गई है. उन्हें संदिग्ध नहीं बनाया गया है.

दुनिया भर में विभिन्न एयरलाइंस की केबिन में फोटो संबंधी नीतियां अलग अलग हैं. यह बहुत कुछ एयरलाइंस पर निर्भर करता है. भारतीय एयरलाइनों में विमान पर चढ़ते और उतरते समय तस्वीरें लेने की मनाही है, जबकि विमानकर्मियों पर फोटो लेने पर पूरी मनाही है. जर्मन विमान कंपनी लुफ्थांसा दूसरे पैसेंजरों की प्राइवेसी का ख्याल करने और विमान क्रू के निर्देशों को पालन करने की शर्त रखता है.

एमजे/आरपी (डीपीए)

_______________

हमसे जुड़ें: WhatsApp | Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

 

सबसे ज्यादा देशों को छूने वाली एयरलाइंस

DW.COM

विज्ञापन