क्यों डाटा विज्ञान में नौकरियों से महिलाएं दूर हो रही हैं? | विज्ञान | DW | 20.02.2020
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

विज्ञान

क्यों डाटा विज्ञान में नौकरियों से महिलाएं दूर हो रही हैं?

डाटा साइंस तेजी से बढ़ता उद्योग है. लेकिन मर्दों के वर्चस्व के कारण महिलाएं इससे दूर भाग रही हैं. कंसल्टेंसी फर्म बीसीजी ने प्रतिस्पर्धा में बने रहने के लिए टेक कंपनियों को मर्दानी छवि की समस्या से निबटने को कहा है.

युवा महिलाएं डाटा साइंस के क्षेत्र में नौकरी करने से कतरा रही हैं. वजह है इस क्षेत्र में पुरुषों का हावी होना. विश्लेषकों ने चेतावनी दी है कि पुरुषों के प्रभुत्व वाले इस क्षेत्र में अगर विविधता नहीं लाई गई तो इससे ऐसी पक्षपातपूर्ण तकनीकों का जन्म हो सकता है जो महिलाओं के खिलाफ भेद-भाव करेंगी. बॉस्टन कंसल्टिंग ग्रुप ने पाया है कि डाटा साइंस के क्षेत्र में एक चौथाई से भी कम नौकरियां महिलाओं के पास हैं और महिला छात्राएं नौकरी के लिए होने वाले कोडिंग और हैकथॉन जैसी प्रतियोगिताओं को पसंद नहीं करतीं. डाटा साइंस का काम समाज में विभिन्न रुझानों की जांच करना है.

कंपनी की डाटा एनेलिसिस शाखा बीसीजी गामा के एक पार्टनर एंड्रिया गालेगो का कहना है, "हमें महिलाओं के दृष्टिकोण की जरूरत है." वे कहती हैं, "अगर हम पूर्वाग्रहों वाली टीमों के साथ मॉडल बनाना शुरू करें तो हमें नैतिकता से जुड़े सवालों का सामना करना पड़ेगा. और यह मॉडल उसी पक्षपात को फैलाने का काम कर सकते हैं जिन्हें हम रोकने की कोशिश कर रहे हैं." 

यह रिपोर्ट इन चिंताओं के बीच आई है कि पुरुषों के प्रभुत्व वाले प्रौद्योगिकी क्षेत्र में पुरुषों और महिलाओं के वेतन में फर्क और बढ़ता जा रहा है और इससे ऐसी प्रौद्योगिकी का विकास हो सकता है जिसमें महिलाओं के खिलाफ भेदभाव निहित हो.

लिंक्डइन वेबसाइट द्वारा पिछले महीने जारी की गई रिपोर्ट के अनुसार प्रौद्योगिकी के प्रसार के साथ, डाटा वैज्ञानिकों की मांग बढ़ती जा रही है. लिंक्डइन ने पाया कि यह अमेरिका में सबसे तेजी से बढ़ने वाली नौकरियों में तीसरे पायदान पर है. यह रिपोर्ट करीब एक दर्जन देशों में डाटा संबंधी डिग्रियां लिए 9,000 विद्यार्थियों और हाल ही में उत्तीर्ण हुए स्नातकों के साथ किए गए सर्वेक्षणों पर आधारित है. 

शोधकर्ताओं का कहना है कि डाटा विज्ञान को परेशान कर देने की हद तक प्रतिस्पर्धात्मक समझने की संभावना युवा पुरुषों से कहीं ज्यादा महिलाओं में थी. युवा महिलाओं में डाटा विज्ञान में नौकरी के अवसरों के बारे में पर्याप्त जानकारी होने की भी संभावना कम थी, जबकि जिन देशों में प्रौद्योगिकी में महिलाओं की संख्या ज्यादा है उन देशों ने महिलाओं तक पहुंचने में बेहतर प्रदर्शन किया है. 

रिपोर्ट में कंपनियों से कहा गया है कि वे महिलाओं के बीच इस क्षेत्र की छवि सुधारने का काम करें. इसके लिए और ज्यादा समावेशी और सहयोगपूर्ण संस्कृति विकसित करने की जरूरत है. 

काम की जगह को समावेशी बनाने के लिए काम करने वाली एलिसन सिमरमन ने कहा कि उपलब्ध सूचनाएं बहुत सी टेक कंपनियों में मरदाना ब्रो-ग्रामर संस्कृति दर्शा रही है. उनका कहना है, "कई कार्यक्षेत्र पुरुषों द्वारा पुरुषों के लिए गढ़े गए हैं." महिला कर्मचारियों की कमी के बारे में कंपनियों को चिंता होनी चाहिए. उन्होंने थॉमसन रायटर्स फाउंडेशन को बताया, "प्रतियोगी बने रहने का सबसे अच्छा तरीका प्रतिभाओं का इस्तेमाल है. अगर आपके पास विविधतापूर्ण प्रतिभाएं नहीं हैं तो आप इनोवेशन, बेहतर टीम बनाने, बेहतर फैसलों और बेहतर नतीजों में पिछड़ जाएंगे."

सीके/आईबी (रायटर्स)

यहां हैं कामकाजी लोगों में औरतें बराबर की हिस्सेदार 

__________________________

हमसे जुड़ें: Facebook | Twitter | YouTube | GooglePlay | AppStore

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन