क्या बोइंग 737 मैक्स 8 में ही कोई गड़बड़ है? | दुनिया | DW | 11.03.2019
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

दुनिया

क्या बोइंग 737 मैक्स 8 में ही कोई गड़बड़ है?

इथियोपियन एयरलाइंस हादसे के बाद बोइंग 737 विमान को लेकर सवाल उठ रहे हैं? चीन की सरकारी विमानन कंपनी ने इन विमानों के उड़ान पर फिलहाल रोक लगा दी है. इथियोपियन एयरलाइंस ने भी मैक्स 8 विमानों की उड़ान फिलहाल रोक दी है.

रविवार को उड़ान भरने के कुछ ही मिनटों बाद हुए इस हादसे में 157 लोगों की मौत हो गई है. इनमें भारत, अमेरिका के चार और ब्रिटेन समेत कई देशों के नागरिक शामिल हैं. हादसे का शिकार हुआ विमान बोइंग 737 मैक्स 8 था जो एक नया विमान है. इथियोपियन एयरलाइंस के प्रवक्ता ने बताया कि एयरलाइन ने सभी आठ विमानों की उड़ान पर अगली सूचना तक रोक लगा दी है. एयरलाइन फिलहाल पांच विमान उड़ा रही थी जिनमें से एक हादसे का शिकार हो गया. एयरलाइन 25 और विमानों की डिलीवरी का इंतजार कर रही है.

हादसे के बाद सोमवार सुबह 6 बजे से चीन की सरकारी विमानन कंपनी ने भी इन विमानों की उड़ान पर रोक लगा दी है. चीन के नागरिक विमानन प्रशासन ने अपने आदेश में कहा है, "सुरक्षा पर जोखिम में जीरो टॉलरेंस के सिद्धांत के आधार पर प्रबंधन ने यह फैसला किया है." इथियोपियाई विमान हादसे में चीन के 8 नागरिकों की भी मौत हुई है. चीन के विमानन प्रशासन ने कहा है कि वह अमेरिका के संघीय विमान प्रशासन और बोइंग से चर्चा के बाद इस बारे में और नोटिस जारी करेगा. चीन की सरकारी विमानन कंपनी 76 बोइंग 737 का उपयोग कर रही हैं और उसे 104 और विमानों का इंतजार है.

कायमान एयरलाइंस ने भी अपने दो बोइंग 737 मैक्स 8 विमान के उड़ान पर रोक लगा दी है. भारत में जेट एयरवेज और स्पाइस जेट एयरलाइंस भी इन विमानों का उपयोग करते हैं. भारतीय मीडिया में ऐसी खबरें आ रही हैं कि नागरिक विमान प्राधिकरण ने इन एयरलाइनों से इस विमान के बारे में जानकारी मांगी है. आशंका जताई जा रही है कि भारत में भी इन विमानों के उड़ान पर तात्कालिक रोक लगाई जा सकती है.

इससे पहले इंडोनेशिया के राष्ट्रीय परिवहन सुरक्षा विभाग ने इस हादसे की जांच में सहयोग की पेशकश की है. एथियोपियन एयरलाइंस हादसे की तरह ही इंडोनेशिया के लायन एयर जेट का विमान भी बीते साल उड़ान भरने के कुछ ही देर बाद हादसे का शिकार हो गया था.

बोइंग कंपनी का मुख्यालय शिकागो में है. कंपनी ने हादसे के बाद ट्वीट कर दुख जताया है. कंपनी ने यह भी कहा है कि वह अपनी तकनीकी टीम को हादसे की जगह पर जांच के लिए भेजेगी.

बोइंग 737 विमान एयरलाइन उद्योग के लिए काफी सफल विमान माना जाता रहा है. मैक्स 8 इसका नया संस्करण है जो ईंधन की खपत के लिहाज से काफी अच्छा माना जाता है. बोइंग ने करीब 350 मैक्स विमान दुनिया में बेचे हैं और इसके पास 5,000 से ज्यादा विमानों का ऑर्डर है.

छह महीने के भीतर दूसरी बार हादसे का शिकार हुए बोइंग 737 मैक्स 8 विमान ने दुनिया की चिंता बढ़ा दी है. फ्लाइट डाटा और कॉकपिट कंवर्सेशन रिकॉर्डर से ही हादसे की वजह के बारे में कोई जानकारी मिल सकेगी. इसके पीछे तकनीकी गड़बड़ी या फिर पायलट की चूक भी हो सकती है. इथियोपियन एयरलाइंस के चीफ एग्जीक्यूटिव टेवोल्डे गेबेरमारियम ने अदीस अबाबा में पत्रकारों से कहा, "पायलट ने कुछ मुश्किलों की बात की थी और कहा था कि वह लौटना चाहता है. उसे अनुमति मिल गई थी." उड़ान के समय अदीस अबाबा का मौसम भी अच्छा था.

इंडोनेशिया में हुए हादसे से इस हादसे में समानता ढूंढी जा रही है लेकिन जानकारों का कहना है कि फिलहाल अभी कोई भरोसेमंद जानकारी नहीं है और केवल समानताओं के आधार पर हादसे की वजह नहीं तय की जा सकती है. दोनों मामलों में एयरलाइनों का सुरक्षा रिकॉर्ड मजबूत है.

मई 2017 में बोइंग ने इस विमान के परीक्षण उड़ान पर रोक लगा दी थी क्योंकि इसके इंजन की क्वॉलिटी को लेकर कुछ सवाल उठे थे. विमान का इंजन सीएफएम इंटरनेशनल बनाती है जो फ्रांस की साफ्रान एयरक्राफ्ट इंजिन और अमेरिकी की जीई एविएशन का संयुक्त उपक्रम है.

बोइंग कंपनी का भविष्य इस विमान पर बहुत निर्भर करता है. 2032 तक यह कंपनी के कुल उत्पादन का करीब 64 फीसदी हो जाएगा. कंपनी अब तक बोइंग 737 सीरीज के 10 हजार से ज्यादा विमान बना चुकी है.

एनआर/ ओएसजे (एपी, एएफपी)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन