क्या नाचते भी थे डायनासोर? | विज्ञान | DW | 05.12.2015
  1. Inhalt
  2. Navigation
  3. Weitere Inhalte
  4. Metanavigation
  5. Suche
  6. Choose from 30 Languages
विज्ञापन

विज्ञान

क्या नाचते भी थे डायनासोर?

डायनासोर पृथ्वी पर इंसान के आने से पहले ही खत्म हो गए. अब वैज्ञानिकों को स्कॉटलैंड में जुरासिक काल के कुछ ऐसे पैरों के निशान मिले हैं जिन्हें देखकर शक पैदा होता है कि क्या डायनासोर नाचते भी होंगे?

स्कॉटलैंड का आइल ऑफ स्काई इलाका पर्यटकों के बीच अपनी खूबसूरती के लिए खासा मशहूर है. यहीं एक बड़े पथरीले इलाके में वैज्ञानिकों को जुरासिक काल के पैरों के सैकड़ों नए निशान मिले हैं. इन निशानों ने डायनासोर की जीवनशैली के बारे में नए सवाल खड़े कर दिए हैं.

पैरों के कुछ निशान तो 28 इंच तक लंबे हैं. ये शाकाहारी सॉरोपोड की तरफ इशारा करते हैं जो पृथ्वी पर 17 करोड़ साल पहले थे. ये निशान छिछले पानी के कुंडों में बने थे. यूनिवर्सिटी ऑफ एडिनबरा के वैज्ञानिक स्टीव ब्रुसेट ने बताया, "यह स्पष्ट है कि यहां पर बहुत सारे सॉरोपोड डायनासोर इस कुंड में चल फिर रहे थे. लगता है ये उनके घर की तरह था, यहां वे बढ़ रहे थे. उनके पांव के अव्यवस्थित ट्रैक देखकर ऐसा लगता है जैसे कि वह कोई डांस फ्लोर रहा हो, जैसे डायनासोर का डिस्को."

सॉरोपोड चार पैरों वाले शाकाहारी डायनासोर थे. इनकी गर्दन लंबी, लंबी पूंछ, खंबे जैसे पैर और भारी शरीर हुआ करता था. यह निश्चित नहीं है कि आइल ऑफ स्काई पर ट्रैक किन जीवों के पैरों के हैं लेकिन ब्रुसेट के मुताबिक ये जीव 50 फीट लंबे और 15-20 टन भारी रहे होंगे.

सॉरोपोड पृथ्वी पर अब तक पाए जाने वाले जीवों में सबसे बड़े थे. ब्रुसेट कहते हैं कि आइल ऑफ स्काई पर पाए गए सॉरोपोड हो सकता है और भी पुराने रहे हों. हो सकता है वे डिप्लोडोकस और ब्रॉन्टोसॉरस के पूर्वज रहे हों. उन्होंने बताया कि बहुत समय पहले धारणा थी कि सॉरोपोड पानी में रहते होंगे क्योंकि उनका वजन जमीन के लिए बहुत ज्यादा था. लेकिन 1970 में यह धारणा टूटी, जब माना गया कि पृथ्वी पर उनके जीवाश्म यही दिखाते हैं कि उनका शरीर जमीन पर रहने के अनुरूप ढला था.

स्कॉटलैंड में मिले पैरों के ताजा निशान और कुछ और ताजा शोध संकेत करते हैं कि डायनासोर पानी में भी वक्त बिताते थे. ब्रुसेट ने कहा कि ये डायनासोर तैराक तो नहीं थे और ज्यादातर समय जमीन पर बिताते थे, लेकिन इनका कुछ समय पानी में भी बीतता था. ब्रुसेट कहते हैं कि हो सकता है कि इन जलकुंडों में सॉरोपोड को खाने के लिए कुछ मिलता हो या फिर यहां उनके शिकारी जानवरों से रक्षा होती हो. जो भी हो, लेकिन ताजा निशान डायनासोर की जीवनशैली पर नई रोशनी जरूर डालते हैं.

एसएफ/एमजे (रॉयटर्स)

DW.COM

संबंधित सामग्री

विज्ञापन